power cut leads to water shortage in majjri mafi and nawada localities in dehradun uttarakhand - पानी मेरा हक: माजरी माफी- नवादा में ‘बिजली नहीं’ तो ‘पानी नहीं’ DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पानी मेरा हक: माजरी माफी- नवादा में ‘बिजली नहीं’ तो ‘पानी नहीं’

आपके अपने अखबार ‘हिन्दुस्तान’ की जल ऑडिट टीम ने गुरुवार को शहर के सबसे निचले भूमिगत जल स्तर वाले क्षेत्र माजरी माफी, नवादा का दौरा किया। बद्रीपुर, जोगीवाला, मोहकमपुर इलाके में जाकर भी पानी की स्थिति का जायजा लिया। सड़कों और नालियों में जगह-जगह बह रहा पानी विभागीय लापरवाही को उजागर करता दिखा।

शहर में पानी के संकट को लेकर हिन्दुस्तान की जल ऑडिट टीम ने गुरुवार को माजरी माफी, नवादा, बद्रीपुर, जोगीवाला क्षेत्र का भ्रमण किया। ये पूरा इलाका पानी को लेकर काफी प्रभावित है। भूमिगत जल का स्तर काफी नीचे चला गया है। यहां दूसरी बड़ी समस्या ओवरहेड टैंकों का अभाव है। बड़ी आबादी वाले क्षेत्र में सिर्फ दो ओवर हेड टैंक हैं। इसलिए ट्यूबवेल से घरों को सीधे सप्लाई दी जाती है। ऐसे में बिजली आपूर्ति ठप होने पर लोगों को पानी के संकट से भी जूझना पड़ता है।  गुरुवार को सुबह सात बजे टीम जब इलाके में पहुंची तो सप्लाई चालू हो चुकी थी। माजरी माफी के कृष्णा विहार में बहुत अधिक पानी बहता दिखा। स्थानीय निवासी एनके गुसाईं ने बताया कि सुबह और शाम की सप्लाई में इसी तरह पानी गिरता रहता है।

स्थानीय निवासी राजेन्द्र रावत ने बताया कि जल संस्थान के अधिकारी सप्लाई टाइम में इसलिए फील्ड में नहीं दिखते कि कहीं लोगों के गुस्से का शिकार न हों। बृजमोहन सिंह ने बताया कि अधिकारी फोन भी बमुश्किल उठाते हैं। कई जगह दलाल जैसे लोग घूमते हैं जो दावा करते हैं कि वह उन्हें पानी का दूसरा कनेक्शन दिलवा देंगे। अब कुटला(नवादा) और बद्रीपुर पंचायत भवन के पास दो नए ट्यूबवेल बनाए जा रहे हैं। इन सभी ट्यूबवेल से सीधी सप्लाई घरों को जाती है। जितनी देर ट्यूबवेल चलेंगे लोगों को भी उतना ही पानी मिल पाएगा। बिजली नहीं तो पानी की सप्लाई भी नहीं। शशिभूषण लेखवार का कहना है कि यदि पानी के पर्याप्त ओवरहेड टैंक हो तो लोगों को अधिक देर तक पानी मिल पाएगा। अजयवर्द्धन चौक, लोअर कांलिका विहार, शिवनारायण विहार में पानी के लिए परेशान लोगों ने गुरुवार को माजरी माफी में प्रदर्शन भी किया। 


जोगीवाला और माजरी की नर्सरियों में जाता है लोगों के पीने का पानी 

माजरी माफी
पेयजल आपूर्ति का समय ही तय नहीं 

माजरी माफी मोहकमपुरकलां में घर के बाहर खड़े विजय सिंह तड़यिाल मिल गए, कहने लगे कि पानी भरने के लिए कभी कभी रात 12 बजे भी उठना पड़ जाता है। पानी का नल खोलकर रखते हैं ताकि पता चल जाए कि पानी आ रहा है। वर्ना पता नहीं चलता कि पानी कब आया कम नहीं। कहने लगे कि आज तीसरा दिन हो गया। उनके यहां पानी नहीं आया। माजरीमाफी में तो लोग तक बाहर निकल आए। कहा कि पानी की सप्लाई का समय तय होना चाहिए। जिससे लोगों की परेशानी कम हो। 

नवादा
नवादा में एक कुआं बुझा रहा लोगों की प्यास 
नवादा थोड़ी ऊंचाई वाली जगह है। पीछे साल का जंगल है। बावजूद इसके यहां पर पानी का जल स्तर काफी कम है। सिर्फ आनंद चौक वाली जगह पर एक पुराना कुआं हैं जिसमें लोगों को पीने का पानी मिलता है। इस कुएं का पानी काफी प्रचलित है। इसलिए अब इसी के बगल में एक नए ट्यूबवेल की खुदाई चल रही। काम कर रहे मजदूरों ने बताया कि करीब नौ सौ फीट गहरी खुदाई करने पर पानी मिला है। नवादा और माजरी माफी में इस समय हर जगह जल का स्तर काफी गहराई पर चला गया है।

मोहकमपुर
लोअर नत्थनपुर में पानी की बर्बादी 

लोअर नत्थनपुर प्राइमरी स्कूल में जब से ट्यूबवेल बना है तब से मोहकमपुर क्षेत्र में पानी का संकट कम हुआ है। वर्ना ये इलाको पेयजल संकट के लिए के लिए ही जाना जाता था। हालांकि अब पानी के इस संकट को लोग अब भूलने लगे हैं। लोगों की शिकायत है कि मोहकमपुर फ्लाईओवर के आसपास के दुकानदार रोजाना पानी से पहले अपनी दुकान, अहाता और फिर सड़क को पानी से धोते दिखाई देते हैं। पानी की बर्बादी हर हाल में रुकनी चाहिए। निजी बोरिंग पर भी सख्ती होनी चाहिए, जिससे बर्बादी रुके। 

माजरी चौक
पानी के लिए कई बार भिड़ जाते हैं लोग 
माजरी चौक पर इंटर कालेज के पास वाला ट्यूबवेल फेल हो चुका है वह काला गंदा पानी उगलने लगा है। इस ट्यूबवेल पर निर्भर लोगों को अब दूसरे इलाके के ट्यूबवेल से पानी दिया जाता है। इलाका बड़ा होने के कारण इतना पानी पर्याप्त नहीं पड़ता। रोजाना पानी को लेकर झगड़े होते रहते हैं।

बद्रीपुर
वेडिंग प्वाइंट-नर्सरी में पानी का दुरुपयोग 

बद्रीपुर में कई नर्सरियां और वेडिंग प्वाइंट हैं। इन दोनों की देखरेख के लिए पानी का मनमाना प्रयोग किया जाता है। कोई रोकटोक नहीं। निजी बोरिंग है और मनमाना रवैया है। कई जगह तो अवैध पानी का कनेक्शन है। लोगों का दावा है कि यहां जांच की जाए तो कई अवैध कनेक्शन पकड़ में आएंगे।

वसंत विहार 
कई जगह क्षतिग्रस्त है पेयजल लाइन  
वसंत विहार से अमित कुमार ने बताया है कि मेजर विवेक गुप्ता चौक में पिछले कई दिनों से सड़क पर पानी का पाइप लीक कर रहा है। पानी की लाइन इस जगह पर ज्यातातर टूटी हुई ही दिखती है। शिकायत करने के बाद भी कई बार पानी गिरता रहता है। 

जनता बोली
चोरी के कनेक्शनों पर कार्रवाई नहीं 

स्थानीय निवासी एनके गुसाईं का कहना है कि कई घर ऐसे हैं जहां अवैध पानी के कनेक्शन लगे हैं। इसमें जल संस्थान की मिली भगत हो सकती है। बिना उनकी जानकारी में ऐसे कनेक्शन लग जाए ऐसा हो नहीं सकता। जल संस्थान ने कभी इलाके में छापे मारे ही नहीं।

पानी की बर्बादी पर सजग नहीं लोग 
तेजेंद्र रावत का कहना है कि लोग पानी के इस्तेमाल को लेकर सजग नहीं हैं। घरों में सड़क पर पानी लापरवाही से गिराना आम है। वो भी ऐसी जगह जहां बमुश्किल पानी आता हो। मोहकमपुर, बद्रीपुर, माजरी माफी में अनेक नर्सरियां हैं जहां अवैध कनेक्शन लेकर सिंचाई की जाती है। 

लीकेज की नहीं हो रही जांच 
क्षेत्रवासी देवराज सिंह का कहना है कि लाइनों में लीकेज तो है मगर वह जमीन के भीतर है। पानी की सप्लाई शुरू होने के बावजूद पानी नहीं आता। इसका मतलब पानी कहीं तो जा रहा है। अधिकारियों को फोन करो तो वह अच्छा रिस्पांस नहीं देते। फील्ड में जाने से अफसर बचते हैं।

परेशानी 
जनता ने की शिकायत

  • पूजा सुब्बा ने बताया कि ट्रांसपोर्टनगर में पीएनबी एटीएम के सामने पानी की बर्बादी की जा रही है। यहां पर एक अवैध कनेक्शन पर लगातार पानी गिरता रहता है। ये नल किसका है कोई नहीं जानता। लेकिन आसपास के दुकानदार इसका खूब प्रयोग करते हैं।

 

  • करनपुर से विनय कोहली ने बताया कि सीडीओ ऑफिस विकासनगर के सामने पीने का पानी लगातार बह रहा है। नाली के भीतर पाइप है और उसी में लीकेज है। साफ है कि जिसका भी ये पाइप होगा उसके घर में लगातार गंदा पानी जा रहा है।
 
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:power cut leads to water shortage in majjri mafi and nawada localities in dehradun uttarakhand