ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंड5 हजार किमी की 8 राज्यों में पुलिस की दौड़, हल्द्वानी हिंसा मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक की गिरफ्तारी की पूरी कहानी

5 हजार किमी की 8 राज्यों में पुलिस की दौड़, हल्द्वानी हिंसा मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक की गिरफ्तारी की पूरी कहानी

हल्द्वानी हिंसा में इस मामले में पुलिस ने पांच हजार अज्ञात समेत 16 आरोपियों को नामजद किया था। जिसमें अलग-अलग तीन मुकदमे दर्ज हुए थे। मुकदमों में अब्दुल मलिक पहले नंबर पर था, जिसे गिरफ्तार कर लिया है।

5 हजार किमी की 8 राज्यों में पुलिस की दौड़, हल्द्वानी हिंसा मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक की गिरफ्तारी की पूरी कहानी
Himanshu Kumar Lallहल्द्वानी। समीर बिसारियाSun, 25 Feb 2024 09:30 AM
ऐप पर पढ़ें

हल्द्वानी हिंसा में वांटेड अब्दुल मलिक को पुलिस 16 दिन बाद शुक्रवार की देररात दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने मलिक की गिरफ्तारी के लिए देश के आठ राज्यों की खाक छानी थी। इसमें नौ टीमों में 45 पुलिस कर्मियों को लगाया था। इसके बाद मात्र ढाई सौ किमी की दूरी पर मलिक मिल गया।

हल्द्वानी के वनभूलपुरा में बीते आठ फरवरी को सरकारी जमीन पर बने मदरसा और धार्मिक स्थल को हटाने गई पुलिस का लोगों ने विरोध कर दिया था। पुलिस पर पथराव किया। इसके बाद हिंसा भड़क गई। विरोध में लोगों ने वनभूलपुरा थाना समेत कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया।

इस हिंसा में पांच लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में पुलिस ने पांच हजार अज्ञात समेत 16 आरोपियों को नामजद किया था। जिसमें अलग-अलग तीन मुकदमे दर्ज हुए थे। मुकदमों में अब्दुल मलिक पहले नंबर पर था।

इस मामले में पुलिस अब तक सात वांटेड समेत 82 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है, लेकिन अब्दुल मलिक और उसके बेटे अब्दुल मोईद की गिरफ्तारी नहीं हो पाई थी। पुलिस ने गृह मंत्रालय से दोनों के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी करा दिया था। पूरे नेपाल बॉर्डर पर वांटेड मलिक के पोस्टर चस्पा कर दिए गए।

पुलिस ने दोनों को पकड़ने के लिए उत्तराखंड, यूपी, दिल्ली, गुजरात, महाराष्ट्र, बिहार, मध्यप्रदेश और चंड़ीगढ़ तक दबिशें दीं, लेकिन मलिक पुलिस को दिल्ली में मिला, लेकिन उसके बेटे को अभी भी गिरफ्तार नहीं कर पाई है। वांटेड की लिस्ट में अब्दुल मलिक गिरफ्तार होने वाला आठवां आरोपी है।

तीन सौ किलोमीटर की दूरी पर पकड़ा गया
नैनीताल पुलिस ने मलिक की गिरफ्तारी के लिए आठ राज्यों में दबिशें दीं। 16 दिन में करीब पांच हजार किमी का सफर मलिक को गिरफ्तार करने के लिए किया। इसमें कई दिनों तक पुलिस कर्मी अपने घर तक नहीं पहुंच पाए।

लेकिन बीते शुक्रवार की रात मात्र तीन सौ किमी की दूरी पर दिल्ली में मलिक की गिरफ्तारी होने के बाद पुलिस कर्मियों ने राहत की सांस ली है। पुलिस कर्मियों ने बताया कि दबिश के लिए मुंबई से लेकर गुजरात, बिहार, समेत कई राज्यों में गई। कई परेशानी का सामना भी करना पड़ा।

2019 में अवैध निर्माण तोड़ने का किया था विरोध
पुलिस के मुताबिक मलिक का बगीचा के पास ही सरकारी भूमि पर अवैध निर्माण कराया गया था। सरकारी भूमि पर कब्जा कर अवैध निर्माण की कार्रवाई को लेकर उस समय भी विभाग ने कार्रवाई की थी। पुलिस की मानें तो उस समय पर भी अब्दुल मलिक ने इसका विरोध किया था।

मामला शांत होने के बाद दोबारा उस जगह पर निर्माण कार्य कराना शुरू कर दिया था। हालांकि आठ फरवरी के बाद जब पुलिस ने कर्फ्यू के दौरान पूरी जगह को समतल किया तब उस स्थान को भी कब्जे में ले लिया।

इतने किमी दौड़ी पुलिस (दूरी हल्द्वानी से)
शहर  दूरी किमी में

दिल्ली  296
गुजरात 1387
मुंबई 1715
चंडीगढ़ 439
भोपाल 863
बिहार 925
कुल 5625 किमी

जानिए कब-कब क्या हुआ?
08 फरवरी नजूल भूमि पर अवैध निर्माण ध्वस्तीकरण के दौरान भड़की हिंसा
09 फरवरी तीन केस दर्ज, जिसमें 16 नामजद व पांच हजार अज्ञात शामिल
11 फरवरी सपा नेता के भाई सहित पांच आरोपियों की गिरफ्तारी
15 फरवरी मलिक व उसके बेटे अब्दुल मोईद के खिलाफ लुकआउट जारी
16 फरवरी अब्दुल मलिक, उसके बेटे सहित नौ लोगों को वांटेड घोषित किया
17 फरवरी अब्दुल मलिक समेत पांच वांटेड की संपत्ति कुर्क की कार्रवाई हुई
21 फरवरी अब्दुल मलिक समेत सभी वांटेड के पोस्टर चस्पा किए गए
23 फरवरी पुलिस ने सात वांटेड समेत 79 आरोपियों को जेल भेजा।
23 फरवरी पुलिस ने दिल्ली से वांटेड अब्दुल मलिक को गिरफ्तार किया
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें