ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडअब्दुल मलिक को बचाने के लिए बनाया गया था यह प्लान, अब दबोचे जाने पर अगला दांव क्या

अब्दुल मलिक को बचाने के लिए बनाया गया था यह प्लान, अब दबोचे जाने पर अगला दांव क्या

Abdul Malik arrest: अब्दुल के वकील ने बताया, 'हमें नहीं पता था कि उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। हमने अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दायर की है। अब जमानत याचिका अपने आप रद्द हो जाएगी।'

अब्दुल मलिक को बचाने के लिए बनाया गया था यह प्लान, अब दबोचे जाने पर अगला दांव क्या
Devesh Mishraहिन्दुस्तान टाइम्स,हल्द्वानीSat, 24 Feb 2024 07:16 PM
ऐप पर पढ़ें

Abdul Malik arrest: 16 दिनों से फरार चल रहा हल्द्वानी हिंसा का मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक दिल्ली में पकड़ा गया है। चार राज्यों की पुलिस उसे खोज रही थी। इस मामले में अब तक 79 लोगों को अरेस्ट किया जा चुका है। हालांकि अब्दुल को गिरफ्तारी से बचाने के लिए पूरा प्लान बना लिया गया था। शनिवार को ही अब्दुल मलिक के वकीलों ने अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश, हल्द्वानी की अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी। लेकिन उसी दिन वह दबोचा गया।

प्लान था तैयार
अब्दुल के वकील अजय कुमार बहुगुणा ने बताया, 'हमें नहीं पता था कि उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। हमने अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दायर की है। अब जमानत याचिका अपने आप रद्द हो जाएगी।' दरअसल, आरोपी को गिरफ्तारी से बचाने लिए अग्रिम जमानत याचिका दायर की जाती है। अगर कोर्ट से बेल मिल जाता है तो आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया जा सकता। अब्दुल के केस में 27 फरवरी को अग्रिम जमानत वाली याचिका पर सुनवाई होनी थी। लेकिन सुनवाई से दो दिन पहले ही उसे शनिवार को गिरफ्तार कर लिया गया।

अब अगला दांव क्या?
पुलिस महानिरीक्षक नीलेश आनंद भरणे, जो उत्तराखंड पुलिस के प्रवक्ता भी हैं, ने बताया कि 'हमने मुख्य आरोपी अब्दुल मलिक को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है।' दरअसल, वह 16 दिन से पुलिस के साथ लुका छुपी खेल रहा था। उसके वॉन्टेड वाले पोस्टर नेपाल बॉर्डर तक चस्पा किए गए थे। गिरफ्तारी के बाद अब्दुल के वकील ने कहा, 'घटना से दो-तीन दिन पहले अब्दुल मलिक ने हल्द्वानी छोड़ दिया था। हिंसा वाले दिन वह शहर में नहीं थे। वह देहरादून में थे। अब हम सभी कानूनी विकल्प तलाश रहे हैं और संभवत: उसी आधार पर जमानत याचिका दायर करेंगे।'

अब्दुल मलिक को उत्तराखंड, दिल्ली, यूपी और हरियाणा की पुलिस खोज रही थी। जगह-जगह दबिश दी जा रही थी। उसके करीबियों और रिश्तेदारों से पूछताछ की जा रही थी। यह शक जताया गया कि वह भारत छोड़कर नेपाल या गल्फ कंट्री में भी जा सकता है। क्योंकि दुबई और ओमान में उसके कुछ रिश्तेदार हैं। वह इन 16 दिनों में कहां छिपा था, यह अभी सामने नहीं आ सका है। यहां क्लिक कर डिटेल में पढ़िए कि गिरफ्तारी से पहले क्या-क्या हुआ... 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें