ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडउत्तराखंड के जलते जंगलों से अब नहीं होगी टेंशन, आग बुझाने को एनडीएमए का प्लान

उत्तराखंड के जलते जंगलों से अब नहीं होगी टेंशन, आग बुझाने को एनडीएमए का प्लान

समय पर सूचना मिलने पर अधिक प्रभावी ढंग से काम किया जा सकता है। अफसरों को अलर्टिंग प्रोटोकाल की ट्रेनिंग दी जाएगी। आपदा प्रबंधन सचिव रंजीत सिन्हा ने एनएच, लोनिवि आदि विभाग की एक्टिव रहेंगे।

उत्तराखंड के जलते जंगलों से अब नहीं होगी टेंशन, आग बुझाने को एनडीएमए का प्लान
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानWed, 01 May 2024 03:37 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड के जंगलों में लग रही आग को लेकर राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) भी गंभीर है। मंगलवार को सचिवालय में चारधाम की समीक्षा से इतर एनडीएमए सदस्य लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता हसनैन (सेनि) ने कहा कि जंगलों में आग के संबंध में राज्य के यूएसडीएमए से लगातार अपडेट लिया जा रहा है।

एनडीएमए के सदस्य राजेंद्र सिंह ने कहा, वनाग्नि के संबंध में उच्चस्तरीय बैठक की जा रही है। उसमें समाधान पर मंथन होगा। उन्होंने कहा कि वनाग्नि से निपटने में एनडीएमए उत्तराखंड की हर प्रकार से मदद करेगी। उधर, हसनैन ने कहा कि चारधाम यात्रा को लेकर अर्ली वार्निंग सिस्टम पर विशेष फोकस किया जा रहा है।

समय पर सूचना मिलने पर अधिक प्रभावी ढंग से काम किया जा सकता है। अफसरों को अलर्टिंग प्रोटोकाल की ट्रेनिंग दी जाएगी। विभागों को कसा आपदा प्रबंधन सचिव रंजीत सिन्हा ने एनएच, लोनिवि और बीआरओ आदि विभाग को कहा कि अपने-अपने क्षेत्र अभी से चिह्नित कर लें।

सड़क से जुड़े विभागों को यह स्पष्ट होना चाहिए कि रोड का कौन सा हिस्सा, किसके पास है। इससे रोड ब्लॉक की स्थिति में संबंधित विभाग को काम के लिए कहा जा सके और तब भ्रम की स्थिति नहीं होनी चाहिए।