DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  नीब करौली बाबा: कोरोना की वजह से 15 जून को महोत्सव कैंसिल, श्रद्धालुओं की No Entry
उत्तराखंड

नीब करौली बाबा: कोरोना की वजह से 15 जून को महोत्सव कैंसिल, श्रद्धालुओं की No Entry

हिन्दुस्तान टीम, भवाली Published By: Himanshu Kumar Lall
Mon, 14 Jun 2021 06:56 PM
नीब करौली बाबा: कोरोना की वजह से 15 जून को महोत्सव कैंसिल, श्रद्धालुओं की No Entry

अल्मोड़ा भवाली राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित नीब करौली बाबा के कैंची धाम में इस वर्ष भी महोत्सव नहीं हो रहा है। आज 57वें कैंची महोत्सव पर बाबा के भक्त घरों में रहकर भोग लगाएंगे। जिला प्रशासन व मंदिर समिति की ओर से 15 जून (आज) को सामान्य दिनों की तरह मंदिर में बाबा को भोग लगाने को निर्णय लिया गया है। महामारी के कारण हर वर्ष बाबा को लगने वाला मालपुओं का भोग इस वर्ष नहीं लग पाएगा। मंदिर में पुजारी सामान्य तरीके से पूजा करेंगे। नीब करौली बाबा वर्ष 1962 में कैंची आए थे। 1964 में बाबा ने यहां हनुमान मंदिर की स्थापना की थी। जिसके बाद प्रतिवर्ष 15 जून को यहां कैंची मेला लगाया जाता रहा है। जिसमें हजारों देशी विदेशी भक्त पहुंचते है। इस दिन विभिन्न धार्मिक अनुष्ठानों के साथ ही बाबा को मालपुओं का विशेष भोग लगाया जाता है। मथुरा के कारीगर हर साल एक महीने पहले आकर मालपुआ बनाने की तैयारी करते हैं। मंदिर समिति के प्रदीप साह भयु ने बताया कि दो माह पहले से मेले की तैयारियां हो जाती थी। इस वर्ष भी कोरोना महामारी के कारण मई माह तक कुछ भी तैयारियां नही की गई है। मंदिर प्रबंधक विनोद जोशी ने बताया कि आज सामान्य दिनों की तरह भोग लगाया जाएगा। फिलहाल मंदिर श्रद्धालुओं के लिए बंद किया गया है। बाबा की कृपा से अगले वर्ष धूमधाम से मेले का आयोजन किया जाएगा।

प्रतिवर्ष देश विदेश से दर्शनों को आते हैं लाखों श्रद्धालु
कैंची धाम में प्रतिवर्ष देश विदेश से लाखों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं। आयोजकों का दावा है कि 15 जून को यह संख्या लगभग 1 लाख से ऊपर ही होती है। यहां दिल्ली, मुम्बई, महाराष्ट्र, लखनऊ, बरेली, मुरादाबाद, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, न्यूयॉर्क, सिडनी आदि देशों में बाबा के भक्त पहुंचते हैं।

संबंधित खबरें