DA Image
27 अक्तूबर, 2020|9:53|IST

अगली स्टोरी

हाथरस की घटना के खिलाफ इलाहबाद हाईकोर्ट में दाखिल होगी पीआईएल

नव पर्वतीय विकास संस्था ने हाथरस में 19 साल की लड़की के साथ हुई हैवानियत के खिलाफ घंटाघर पर एक दिनी धरना देकर विरोध प्रकट किया और आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। संस्था ने इस सम्बंध में इलाहबाद हाईकोर्ट में पीआईएल दाखिल करने का ऐलान किया है।

घंटाघर के समीप अम्बेडकर पार्क में प्रदर्शन कर रहे संस्था के सदस्यों ने कहा कि हाथरस की घटना बताती है कि यूपी में कानून का राज खत्म हो चुका है वहां पूरी तरह अराजकता फैली हुई है। हाथरस की घटना मानवता को शर्मशार करने वाली है। इस घटना से पूरा देश हिल गया है।

पुलिस की भूमिका भी पूरी तरह संदिग्ध रही है। रेप की शिकार लड़की के शव को परिजनों को न देकर चोरी छिपे जलाना निहायत ही अमानवीयता है। ऐसा लगा कि पुलिस खुद ही साक्ष्य को जला रही है।संस्था के संरक्षक विनोद कुमार ने कहा कि जल्द ही दून से संस्था के कार्यकर्ता एक बस में सवार होकर इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना की शिकार लड़की के परिजनों से मिलने जाएंगे।

साथ ही इलाहबाद हाईकोर्ट में इस सम्बंध में पीआईएल दाखिल करेगी। पीआईएल की एक कापी सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस को भी भेजी जाएगी। प्रदर्शन को विभिन्न संस्थाओं ने समर्थन दिया। जिसमें न्याय कीर्ति मंच टपकेश्वर महासभा, सामाजिक न्याय कृति मंच, अखिल भारतीय वाल्मिकि परिषद गढ़ी कैंट, वाल्मिकि मंदिर सभा टपकेश्वर, राष्ट्रीय वाल्मिकि सेना आदि भी शामिल थी।

प्रदर्शन में दिनेश सिंह, रामू राजोरिया, शाहवेज खान, इम्तियाज अहमद, दर्शनलाल, नानक चंद, रावत नसीम, रिजवान खान, संजीव सेठी, सीके राजोरिया, अभिषेक गुप्ता, सुशांत थापा, जहांगीर खान, कासिम चौधरी, दीपक भाटिया, अशरफ अली, विजय प्रसाद, राधेश्याम आदि शामिल हुए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:nav parvartiya vikas sanstha members announce to file pil in allahbad high court into hathras rape incident