DA Image
25 फरवरी, 2020|5:48|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तराखंड : हर जिले में बनेगा मॉडल स्कूल, पढ़ें मानक

उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों में गुणवत्तापरक शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए सरकार हर जिले में 20-20 स्कूलों को मॉडल स्कूल के रूप में विकसित करने जा रही है। सरकार इनमें निजी स्कूल के समान सुविधाएं और संसाधन मुहैया कराएगी। राज्य सरकार के निर्देश पर शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने सभी सीईओ को अपने-अपने जिले के पहली से पांचवी तक के 10 बेसिक स्कूल और छठी से 12वीं तक के दस माध्यमिक स्कूल चिह्नित करने के आदेश दे दिए हैं। इससे पहले पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार में सीएम हरीश रावत ने मॉडल स्कूल का प्रयोग शुरू किया था। तब 475 स्कूलों को मॉडल स्कूलों के रूप में विकसित किया गया था। हालांकि इनमें सरकारें अभी तक पूरे शिक्षक और संसाधन मुहैया नहीं करा पाई हैं। इसके चलते ये स्कूल अपेक्षित परिणाम नहीं दे पाए।


स्कूल के मानक 

  • मॉडल स्कूल के लिए चुना जाने वाला स्कूल सड़क के करीब हो और इनमें छात्र संख्या अधिक होनी चाहिए। 
  • स्कूल का बीते दो वर्ष यानि 2018 और 19 का हाईस्कूल और इंटर का बोर्ड रिजल्ट बेहतर होना चाहिए। 

 

यह होगा फायदा
राज्य में सरकारी और सहायता प्राप्त माध्यमिक स्कूलों की संख्या 3746 है। संख्या के लिहाज से राज्य स्कूल तो बहुत ज्यादा हैं लेकिन उनमें संसाधनों के हाल बुरे हैं। भवन, बिजली, पानी, इंटरनेट, लाइब्रेरी, लैब जैसी बुनियादी सुविधाओं के साथ-साथ शिक्षकों और कर्मचारियों की भी बड़ी किल्लत है। सरकार का मानना है कि यदि हर जिले में कुछ स्कूलों को शत प्रतिशत संसाधन और शिक्षकों से लैस कर दिया जाए तो शिक्षा के लिहाज से ज्यादा बेहतर होगा। ये स्कूल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की तरह काम कर सकते हैं। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:model schools to be constructed in every district in uttarakhand