ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडहल्द्वानी में क्यों उबल रहे हिंदूवादी संगठन, वनभूलपुरा में टेंशन की क्या नई वजह

हल्द्वानी में क्यों उबल रहे हिंदूवादी संगठन, वनभूलपुरा में टेंशन की क्या नई वजह

उत्तराखंड के हल्द्वानी में एक बार फिर तनाव पनपता दिख रहा है। दो नाबालिग बच्चियों के दूसरे धर्म के लड़के के साथ लापता होने के बाद हिंदूवादी संगठन आक्रोश में हैं। चार दिन से लापता हैं बच्चियां।

हल्द्वानी में क्यों उबल रहे हिंदूवादी संगठन, वनभूलपुरा में टेंशन की क्या नई वजह
Sudhir Jhaहिन्दुस्तान टाइम्स,हल्द्वानीMon, 24 Jun 2024 05:50 PM
ऐप पर पढ़ें

इसी साल फरवरी में भीषण हिंसा का शिकार हुए हल्द्वानी में एक बार फिर तनाव का माहौल पनपता दिख रहा है। दो नाबालिग बच्चियों के लापता होने के बाद हिंदूवादी संगठन बेहद आक्रोशित हैं। जवाहर नगर से दो बच्चियां कथित तौर पर दूसरे समुदाय के एक लड़के के साथ लापता हैं। चार दिन बाद भी बच्चियों की बरामदगी नहीं हो पाने की वजह से हिंदूवादी संगठनों ने पुलिस के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया।  

वनभूलपुरा पुलिस थाने में आईपीसी की धारा 365 (अपहरण या किसी व्यक्ति को गुप्त रूप से और गलत तरीके से कैद करने के इरादे से अपहरण करना) के तहत 20 जून को केस दर्ज किया गया। हल्द्वानी के सर्किल ऑफिसर नितिन लोहानी ने कहा, 'पीड़ित बच्चियों के परिवार की शिकायत पर हमने आईपीसी की धारा 365 के तहत 20 जून को अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली थी। एपीजी समेत हमारी चार सबसे अच्छी टीमें बच्चियों को तलाशने में जुटी हैं। जांच के दौरान हमें हमने सीसीटीवी फुटेज प्राप्त किया जिसमें दो लड़कियां एक लड़के के साथ जाती दिख रही हैं। 

हिंदूवादी संगठनों के प्रदर्शन की वजह को लेकर लोहानी ने कहा कि वे चाहते हैं कि पुलिस जल्दी करे, लेकिन हमने वह सबकुछ किया है जो कर सकते हैं। सांप्रदायिक रूप से बेहद संवेदनशील इलाके में इसी साल फरवरी में भारी हिंसा हुई थी। तब वनभूलपुरा इलाके में नजूल भूमि पर बने मस्जिद रूपी अवैध ढांचे को प्रशासन ने गिरा दिया था। इसके बाद इलाके के लोगों ने पुलिस और निगम टीम के खिलाफ पथराव और आगजनी की शुरुआत कर दी थी। हिंसा के दौरान कुछ लोगों को जान भी गंवानी पड़ी।  

वीएचपी के मुकेश जोशी ने कहा, 'हमारे समुदाय की दो लड़कियों का 20 जून को दूसरे धर्म के लड़के ने अपहरण कर लिया। चार दिन बीत चुके हैं और पुलिस अभी तक उन्हें तलाश नहीं पाई है। यह लव जिहाद का मामला है।' वनभूलपुरा इलाके एक निवासी ने पहचान गोपनीय रखने की अपील के साथ कहा, 'यह कुछ नहीं बस दक्षिणपंथी संगठनों की ओर से इलाके की शांति बिगाड़ने की कोशिश है। यह कानून व्यवस्था का मामला है और किसी दूसरे रूप में नहीं देखना चाहिए।'