DA Image
8 जुलाई, 2020|5:14|IST

अगली स्टोरी

कोरोना: जरूरी हुआ तो मंत्रियों और अफसरों के भी लिए जाएंगे सैंपल,क्वारंटाइन भी होंगे 

corona patients increasing in prayagraj four new cases found

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा है कि पयर्टन मंत्री सतपाल महाराज के मामले में यदि जरूरी हुआ तो अन्य मंत्रियों और अफसरों की कोरोना जांच कराने के लिए सैंपल लिए जाएंगे और उन्हें क्वारंटाइन भी किया जाएगा।

सचिवालय के मीडिया सेंटर में मुख्य सचिव ने पत्रकारों से कहा कि कैबिनेट बैठक में पर्यटन मंत्री के साथ मौजूद मंत्री और अफसरों के स्वास्थ्य की लो और हाई रिस्क के अनुसार निगरानी की जा रही है। 

उत्तराखंड में आने वाले लोगों को रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य मुख्य सचिव ने कहा कि देश के किसी भी हिस्से से उत्तराखंड आने वाले व्यक्ति को रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है। साथ राज्य में एक जिले से दूसरे जिले में जाने वालों के लिए भी रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी है। रेड जोन से जाने वालों को पास लेना होगा। 

 

मंत्री सतपाल के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद मुख्यमंत्री सचिवालय तीन दिन के लिए बंद


कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग वालों पर नजर
मुख्य सचिव ने बताया कि उत्तराखंड में जितने केस पॉजिटिव आए हैं, उनके संपर्क में आने वाले करीब चार हजार लोगों को भी चिह्नित कर लिया गया है। अब उनके हाई और लो रिस्क होने के अनुसार उनकी निगरानी की जा रही है। 

 

इन शहरों से आने वाले लोगों को 21 दिन तक रहना होगा क्वारंटाइन
चेन्नई, हैदराबाद, तिरुवल्लुर, कोलकाता, इंदौर, चेंगलपट्टु, साउथ ईस्ट दिल्ली, मध्य दिल्ली, उत्तरी दिल्ली, दक्षिणी दिल्ली, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली, पश्चिम दिल्ली, शाहदरा, पूर्वी दिल्ली, नई दिल्ली, उत्तर पश्चिम दिल्ली, अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा, आनंद, बनासकांठा, पंचमहल, भावनगर, गांधीनगर, अरावली, मुंबई, पुणे, ठाणे, नासिक, पालघर, नागपुर, सोलापुर, यवतमाल, औरंगाबाद, सतारा, धुले, अकोला, जलगांव, मुंबई उपनगर, आगरा, लखनऊ, सहारनपुर, कानपुर नगर, मुरादाबाद, फिरोजाबाद, गौतमबुद्धनगर (नोएडा और ग्रेटर नोएडा), बुलंदशहर, मेरठ, रायबरेली, वाराणसी, बिजनौर, अमरोहा, संत कबीर नगर, अलीगढ़, मुजफ्फरनगर, रामपुर, मथुरा, बरेली, अजमेर, बाड़मेर, भीलवाड़ा, बीकानेर, चित्तौड़गढ़, डूंगरपुर, जयपुर, जालोर, जोधपुर, कोटा, नागौर, पाली, राजसमंद, सवाई माधोपुर, सीकर, सिरोही व उदयपुर। मुख्य सचिव ने बताया कि इन शहरों से आने वाले लोग सात दिन इंस्टिट्यूशनल क्वारंटाइन के बाद घर जाएंगे। इन्हें एक शपथ पत्र देना होगा कि 14 दिन घर पर ही रहेंगे। अगर बाहर निकले या किसी से मिले तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए। 


कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज की पत्नी घर पर ही क्वारंटाइन थीं। उन्हीं के लिए क्वारंटाइन के पालन की बाध्यता थी। क्वारंटाइन का नोटिस परिवार के अन्य सदस्यों के लिए नहीं था। क्वारंटाइन के उल्लंघन और कम्युनिटी ट्रांसमिशन का मामला नहीं बनता।
उत्पल कुमार सिंह, मुख्य सचिव  
  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:ministers and bureaucrats corona samples would be collected amid corona virus pandemic in uttarakhand