ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडकौन हैं 41 मजदूरों को बचाने में जुटे एक्सपर्ट अर्नोल्ड डिक्स, तीन दशकों में कर चुके हैं बेहतरीन काम

कौन हैं 41 मजदूरों को बचाने में जुटे एक्सपर्ट अर्नोल्ड डिक्स, तीन दशकों में कर चुके हैं बेहतरीन काम

मौके पर पहुंचने के तुरंत बाद, डिक्स ने सिल्क्यारा सुरंग स्थल का निरीक्षण किया और उन एजेंसियों से बात की जो बचाव कार्यों में शामिल हैं। उनके आने के बाद मजदूरों को बचाने का भरोसा और मजबूत हो गया।

कौन हैं 41 मजदूरों को बचाने में जुटे एक्सपर्ट अर्नोल्ड डिक्स, तीन दशकों में कर चुके हैं बेहतरीन काम
Aditi Sharmaलाइव हिंदुस्तान,उत्तराकाशीFri, 24 Nov 2023 08:40 AM
ऐप पर पढ़ें

पिछले 13 दिनों से उत्तराकाशी की सिल्क्यारा सुरंग में फंसे 41 मजदूरों के बाहर आने का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है। रेसक्यू टीम दिन रात बचाव अभियान में लगी हुई हैं। हालांकि बार-बार आ रही रुकावट के चलते ऑपरेशन पूरा होने में देर हो रही है। कुल 5 एजेंसियां ONGC, SJVNL,RVNL, NHIDCL और THDCL रेस्क्यू ऑपरेशन में लगी हुई हैं। इन सब को अलग अलग जिम्मेदारी दी गई है। इस बीच एक शख्स ऐसे हैं जिनके इस ऑपरेशन में जुड़ने से मजदूरों के बाहर आने का भरोसा और मजबूत हो गया। 

ये शख्स हैं टनल एक्सपर्ट प्रॉफेसर अर्नोल्ड डिक्स। ऑस्ट्रेलिया स्थित इंटरनेशनल टनलिंग एंड अंडरग्राउंड स्पेस एसोसिएशन के अध्यक्ष अर्नोल्ड डिक्स उन विशेषज्ञों में से हैं, जिनसे रेसक्यू टीमें सुझाव ले रही हैं। 

अर्नोल्ड डिक्स अंडरग्राउंड इंफ्रास्ट्रक्चर, बिल्डिंग्स और ट्रांसपोर्ट रिस्क के एक्सपर्ट है। उनकी कानून और इंजीनियरिंग, दोनों ही चीजों में विशेषज्ञता हासिल है जिसके चलते उन्होंने कई कठिन मामलों को अपनी सुझबुझ से सुलझाया है। वह अंडरग्राउंड कंस्ट्रक्शन से जुड़े रिस्क पर भी सलाह देते हैं और भूमिगत सुरंग बनाने में दुनिया के बेहतरीन विशेषज्ञों में से एक के रूप में जाने जाते हैं।

कहां कहां सक्रिय?

वह ब्रिटिश इंस्टीट्यूट ऑफ इन्वेस्टिगेटर्स के सदस्य भी हैं। वह विशेषज्ञ अंडरग्राउंड वर्क्स चैंबर्स के सदस्य, विक्टोरियन बार के सदस्य और टोक्यो सिटी यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग (सुरंगों) के विजिटिंग प्रोफेसर हैं। तीन दशकों के उनके करियर में इंजीनियरिंग, भूविज्ञान, कानून और जोखिम प्रबंधन मामलों का एक अनूठा मिश्रण देखा गया है।  एक बैरिस्टर के रूप में अपने कानूनी कार्य के अलावा, डिक्स को एक अन्वेषक, विशेषज्ञ गवाह, सलाहकार और मध्यस्थ के रूप में नियुक्त किया जा सकता है।

क्रिसमस तक पूरा हो सकता है काम

मौके पर पहुंचने के तुरंत बाद, डिक्स ने सिल्क्यारा सुरंग स्थल का निरीक्षण किया और उन एजेंसियों से बात की जो बचाव कार्यों में शामिल हैं। डिक्स को भरोसा है कि कई एजेंसियों और योजनाओं के साथ, वह फंसे हुए मजदूरों को बाहर निकालने में कामयाब होंगे। गुरुवार को डिक्स ने बताया था कि सुरंग के अंदर फंसे सभी 41 मजदूरों को क्रिसमस तक बचा लिया जाएगा। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें