DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Exclusive : चिकित्सा परिषद ने अटल के नाम से खोला फर्जी कॉलेज

National Medical Commission Bill

भारतीय चिकित्सा परिषद उत्तराखंड ने देहरादून में पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर फर्जी पैरामेडिकल कॉलेज खोल दिया। सरकार की इजाजत के बिना खोले गए इस कॉलेज में 200 से अधिक छात्रों का एडमिशन भी कर दिया गया । अब सरकार ने ही कॉलेज के औचित्य पर सवाल खड़े कर दिए हैं। सोमवार को मुख्य सचिव ने अफसरों से कॉलेज खोलने का औचित्य भी पूछा।  भारतीय चिकित्सा परिषद, उत्तराखंड ने जुलाई, 2018 में बद्रीपुर में अटल बिहारी वाजपेयी पैरामेडिकल कॉलेज खोला। कॉलेज की इजाजत और पदों के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजा गया। लेकिन सरकार की मंजूरी और बोर्ड गठित किए बिना ही प्रवेश कर दिए। कॉलेज में इस समय चार कोर्सों में 200 से अधिक छात्र-छात्राएं हैं। प्रत्येक छात्र से 45 हजार रुपये फीस ली गई है।

 

इनकम टैक्स से बचने के लिए खोला कॉलेज 
सूत्रों ने बताया कि परिषद पदाधिकारियों को कॉलेज खोलने का विचार आयकर विभाग के अफसरों ने दिया। दरअसल कॉलेज के खाते में बार-बार बड़ी रकम आने पर आयकर का नोटिस आया। परिषद ने सरकारी संस्थान होने की बात कही तो आयकर अफसरों ने उन्हें शिक्षण संस्थान खोलने का आइडिया दिया। इसके बाद परिषद के पूर्व रजिस्ट्रार और अध्यक्ष ने कालेज खोलने की प्रक्रिया शुरू की। 

 

मैंने ढाई महीने पहले ज्वाइन किया है। कालेज किसने और कैसे खोला, मेरी जानकारी में नहीं है। छात्रों और उनकी परीक्षाओं के बारे में भी मुझे जानकारी नहीं है। कालेज की मान्यता नहीं है। इस संदर्भ में मुख्य सचिव के सामने सभी तथ्य रख दिए गए हैं।     
डॉ. एसएन रतूड़ी, रजिस्ट्रार, भारतीय चिकित्सा परिषद उत्तराखंड 

 

चिकित्सा परिषद को कॉलेज खोलने के लिए किसी से इजाजत की जरूरत नहीं है। शासन से पदों की इजाजत के लिए प्रस्ताव दिया गया था इस पर जल्द निर्णय होने की उम्मीद है। कॉलेज में कुछ भी गलत नहीं है। रजिस्ट्रार अभी नए हैं इसलिए उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। 
डॉ. डीके शर्मा, अध्यक्ष, भारतीय चिकित्सा परिषद उत्तराखंड 
 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:medial council opens fake para medical college in uttarakhand