ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडयमुनोत्री नेशनल हाईवे पर उत्तरकाशी सिलक्यारा सुरंग में फिर गूंजेगी मशीनें, निर्माण कार्य शुरू करने की यह तैयारी 

यमुनोत्री नेशनल हाईवे पर उत्तरकाशी सिलक्यारा सुरंग में फिर गूंजेगी मशीनें, निर्माण कार्य शुरू करने की यह तैयारी 

यमुनोत्री हाईवे पर निर्माणाधीन सिलक्यारा सुरंग में तीन माह बाद काम चालू हो रहा है। फिलहाल सुरंग के अंदर पहाड़ी से रिसाव के कारण जमा पानी और भूधंसाव से बिखरे पड़े मलबा को हटाने की चुनौती है।

यमुनोत्री नेशनल हाईवे पर उत्तरकाशी सिलक्यारा सुरंग में फिर गूंजेगी मशीनें, निर्माण कार्य शुरू करने की यह तैयारी 
Himanshu Kumar Lallउत्तरकाशी, हिन्दुस्तानSat, 17 Feb 2024 12:13 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तरकाशी जिले में यमुनोत्री नेशनल हाईवे पर सिलक्यारा सुरंग के अंदर शुक्रवार को डी वाटरिंग को लेकर मॉक अभ्यास हुआ। मॉक अभ्यास को देखते हुए सुबह से ही सुरंग में कैमरा, नी पैड, ऑक्सीजन सिलेंडर, मास्क आदि सुरक्षा उपकरण तैयार रखे गए।

सूत्रों ने बताया कि शाम तक एसडीआरएफ के जवान और श्रमिक सुरक्षा उपकरणों के साथ ह्यूम पाइप के जरिए अंदर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। हालांकि, काम देख रहे अधिकारियों ने बताया कि अंदर अभी नहीं गए हैं। मॉक अभ्यास के तहत आरपार जाने की तैयारी पूरी है।

यमुनोत्री हाईवे पर निर्माणाधीन सिलक्यारा सुरंग में तीन माह बाद काम चालू हो रहा है। फिलहाल सुरंग के अंदर पहाड़ी से रिसाव के कारण जमा पानी और भूधंसाव से बिखरे पड़े मलबा को हटाने की चुनौती है।

शुक्रवार को मॉक अभ्यास से पहले 60 श्रमिकों को मेडिकल चेकअप भी करवाया गया। जिसके लिए एसडीआरएफ के 14 जवान और श्रमिक अपने मिशन में जुटे हैं।

शुक्रवार को यहां मॉक अभ्यास के तहत ह्यूम पाइप से आरपार जाकर जमा पानी का अनुमान लगाने के साथ ही यहां खराब पड़ी मशीनों, लाइटिंग और गाड़ियों की स्थिति का जायजा लिया जाना था।

स्थानीय सूत्रों ने बताया कि एसडीआरएफ के जवान और श्रमिक शाम तक अंदर जा चुके थे और उन्होंने स्थिति का जायजा लिया। डी वाटरिंग को कैसे पूरा करना है इसका अंदाजा लगाया गया।

एसडीआरएफ और कंपनी के अधिकारियों अंदर जाने से इंकार किया है। बताया गया कि किसी भी पल मॉक अभ्यास के तहत अंदर जाकर डी वाटरिंग शुरू कर सकते हैं।

एनएचआईडीसीएल के अधिकारी पहुंचे सुरंग में
शुक्रवार को एनएचआईडीसीएल के महाप्रबंधक कर्नल दीपक पाटिल भी सिलक्यारा पहुंचे। उन्होंने सुरंग में तैयारियों का जायजा लिया। साथ ही सुरंग में किसी प्रकार से आगे का काम होना है, इसकी जानकारी भी जुटाई।

टेलीकॉम कंपनियों ने मोबाइल टावर हटवाए
सिलक्यारा में संचार सेवा ठप पड़ी है। रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान यहां टेलीकॉम कंपयिों ने मोबाइल टावर स्थापित किए थे, जिसे अब हटा दिया गया है। जिससे यहां काम करने वाले मजदूर और कंपनी के अधिकारी परेशान हैं।

बड़कोट छोर से सुरंग का काम तेजी से शुरू
नवयुगा कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर राजेश पंवार ने बताया कि बड़कोट छोर से सुरंग का काम तेजी के साथ शुरू कर दिया गया है। यदि कोई बाधा भी आती है तो दोनों तरफ से विकल्प खुला रहे, इस उद्देश्य के साथ बड़कोट छोर से काम चालू किया गया है।

मलबा हटाने तक बड़कोट एंड से काफी काम हो सकता है। अभी खुदाई का काम चल रहा है। डे नाइट काम चल रहा है। दो कंपनियों को भूधंसाव का मलबा हटाने और उसकी डिजायनी के लिए बुलाया गया था, जो सर्वे कर चले गए हैं।

उनकी रिपोर्ट आने पर मलबा हटाने का काम किया जाएगा और बाकी निर्माण कार्य शुरू होगा। इनमें से एक कंपनी को मलबा हटाने का काम दिया जाएगा।

पंवार ने बताया कि सिलक्यारा की तरफ से बायीं ओर बाबा बौखनाग देवता के मंदिर का निर्माण शुरू कर दिया गया है। जल्द ही सुरंग के मुहाने पर बाबा बौखनाग का मंदिर बनेगा।

सुरंग के अंदर सुरक्षा मानकों के साथ डी वाटरिंग शुरू करने की अनुमति मिली है। जिसके बाद गत दिवस श्रमिकों का मेडिकल चेकअप करवाया गया। सभी फिट पाए गए। शुक्रवार को मॉक अभ्यास कर सुरंग के अंदर स्थिति का जायजा लिया जा रहा है। अंदर की स्थिति देखने के बाद रिपोर्ट एनएचआइडीसीएल के उच्च अधिकारियों को सौंपी जाएगी।
राजेश पंवार, प्रोजेक्ट मैनेजर, नवयुगा कंपनी


 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें