ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडलिव-इन रिलेशन में रह पहले प्यार फिर शादी के बाद महिला पार्टनर का मर्डर, हत्याकांड में पत्नी ने भी दिया साथ

लिव-इन रिलेशन में रह पहले प्यार फिर शादी के बाद महिला पार्टनर का मर्डर, हत्याकांड में पत्नी ने भी दिया साथ

मनसा देवी पैदल मार्ग से लगभग 100 मीटर आगे हिल बाईपास की तरफ महिला का शव लगभग 20 से 30 मीटर नीचे खाई में मिला था। पुलिस कर्मियों और आमजन ने मिलकर शव को बाहर निकाला था। पुलिस ने दंपति को गिरफ्तार किया।

लिव-इन रिलेशन में रह पहले प्यार फिर शादी के बाद महिला पार्टनर का मर्डर, हत्याकांड में पत्नी ने भी दिया साथ
Himanshu Kumar Lallहरिद्वार, हिन्दुस्तानTue, 21 May 2024 06:59 PM
ऐप पर पढ़ें

लिव-इन रिलेशन में रहकर पहले दोनों पार्टनर के बीच बहुत प्यार था। लेकिन, पुरुष पार्टनर की शादी के बाद मानों रिश्तों में जहर घुलने लगा। शादी के बाद पुरुष पार्टनर ने अपनी महिला लिव-इन महिला पार्टनर की निर्मम हत्या कर दिया। मर्डर करने के बाद हत्यारोपी मौके से फरार हो गया। पूरे हत्याकांड में पुरुष पार्टनर की पत्नी ने भी साथ दिया। पुलिस ने हत्यारोपी दंपति को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, हरिद्वार की मनसा देवी मंदिर की खाई में 16 मई को मिले महिला का शव हत्या कर फेंका गया था। महिला के साथ लिव इन में रहने वाले युवक ने उसकी हत्या थी। इसमें आरोपी की पत्नी ने भी सहयोग किया था। शहर कोतवाली पुलिस ने मंगलवार को हत्या के आरोपी दंपति को खड़खड़ी क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया।

एसएसपी प्रमेन्द्र सिंह डोबाल ने मायापुर के एसपी सिटी कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर घटना का पर्दाफाश किया। बताया कि 16 मई को मनसा देवी मंदिर के पास एक महिला का शव मिलने की सूचना पर वरिष्ठ उप निरीक्षक सत्येंद्र बुटोला मौके पर पहुंचे थे।

मनसा देवी पैदल मार्ग से लगभग 100 मीटर आगे हिल बाईपास की तरफ महिला का शव लगभग 20 से 30 मीटर नीचे खाई में मिला था। पुलिस कर्मियों और आमजन ने मिलकर शव को बाहर निकाला था।
उसके हाथ, पैर, मुंह पर ख्ररोंच और नाक पर खून लगा था। इससे प्रथम दृष्टया यह माना जा रहा था कि उसकी हत्या हुई है।

काफी प्रयास के बाद भी पहचान नहीं होने पर शव को जिला अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया गया था। छानबीन के दौरान एक मोबाइल नंबर का पता चलने पर पुलिस ने उससे संपर्क किया और युवती की फोटो व्हाट्सएप पर भेजी।

बात करने वाले शख्स ने अपना नाम मोनू कुमार बताया और बताया कि महिला उसकी पत्नी थी। जिसका नाम पूजा पुत्री विजय मिश्रा निवासी धनसिया, मधुबनी, बिहार है। युवक ने बताया कि वह दो साल पहले चली गयी थी। बताया कि आरोपी रोशन कुमार और उसकी पत्नी खुशबू कुमारी से पूछताछ में जानकारी मिली है कि पूजा की शादी बिहार निवासी मोनू कुमार से हुई थी लेकिन दो साल पहले वो वहां से भागकर हरियाणा आ गयी थी। 

रोशन के साथ लिव इन में रहने लगी। कुछ समय बाद रोशन की शादी (खुशबू) से हो गयी। शुरुआत में गांव में रही खुशबू जब अपने पति के साथ रहने हरियाणा आयी तो अवैध संबंधों की जानकारी होने पर खुशबू ने ऐतराज जताया गया। अलग रहने को कहने पर अक्सर रोशन और पूजा के बीच झगड़े होने लगे। यही हत्या का कारण बना।

मंदिरों के कारण हरिद्वार को चुना
आरोपी ने हत्या करने के लिए हरिद्वार को पहले ही चुना था, पूछताछ में आरोपी ने बताया कि ज्यादा मंदिर होने के कारण किसी को शक न हो इसलिए उन्होंने हरिद्वार को ही चुना था। पूजा की हत्या करने के इरादे से ही वह हरिद्वार आए थे।

बताया कि मनसा देवी दर्शन के लिए गए तो एक बार फिर रोशन और पूजा के बीच झगड़ा होता देख खूशबू बच्चे को लेकर आगे चली गयी।  वापसी में रोशन ने गला दबा कर पूजा की हत्या कर दी और शव को नीचे खाई मे फेंक दिया। खुशबू ने जब पूजा के बारे में पूछा तो रोशन ने उसे पूरा वाकया बता दिया।

इसके बाद पुलिस कार्यवाही के डर से दोनों बच्चे के साथ वापस गुरूग्राम भाग गए और बच्चे को मानेसर मंदिर में छोड़कर भाग गए। जहां स्थानीय पुलिस ने सेक्टर 7 गुड़गांव में भी मुकदमा दर्ज किया है। मंगलवार को दंपति ये जानने हरिद्वार पहुंचे थे कि पूजा जिंदा है या मर चुकी है।

ऐसे पहुंची पुलिस आरोपी तक
पुलिस ने मनसा देवी को आने जाने वाले सीसीटीवी कैमरों जांच की। इसमें 15 मई को पूजा एक पुरुष, महिला और एक बच्चा दिखाई दिया, लेकिन वापसी देखा गया था पूजा गायब थी, जबकि युवक, महिला और बच्चा जाते हुए कैमरे में दिख रहा था।

हाथी पुल के पास चाय की दुकान के मालिक ने संदिग्ध के फोन पे से भूगतान करने की जानकारी देते हुए यूपीआई आईडी उपलब्ध करायी गई। जिसके बाद पुलिस ने दोनों आरोपियों रोशन कुमार पुत्र सुरेश कुमार और खुशबु पत्नी रोशन कुमार निवासीगण खांडसा गुरुग्राम हरियाणा को खड़खड़ी के पास से दबोचा।

न्याय दिलाने को खुद ही वादी बनी पुलिस
महिला को न्याय दिलाने के लिए पुलिस ने खुद ही वादी बनकर मुकदमा दर्ज कराया और खुलासे के लिए गठित पुलिस टीमों ने मनसा देवी को आने जाने वाले सीसीटीवी कैमरों को गहनता से अवलोकन किया।

पुलिस टीम को कप्तान की शाबाशी
खुलासे को लेकर बनाई गई पुलिस टीम में शामिल शहर कोतवाली प्रभारी कुंदन सिंह राणा, एसएसआई सतेंद्र बुटोला, खड़खड़ी चौकी प्रभारी संजीत कंडारी, एसआई अनिता शर्मा, निशा शर्मा, दीपक ध्यानी, सतेन्द्र, निर्मल, सतीश, सुनील, भारती को एसएसपी ने शाबाशी दी।