DA Image
20 नवंबर, 2020|8:08|IST

अगली स्टोरी

उत्तराखंड के काशीपुर से अपहृत मैनेजर पांच घंटे में छुड़ाया, पांच आरोपी दबोचे, दो फरार 

पेपर मिल के परचेज मैनेजर का गुरुवार देर रात बदमाशों ने घर के पास से अपहरण कर लिया। सूचना मिलते ही हरकत में आई पुलिस ने पांच घंटे में अपहृत को एक गोदाम से छुड़ा लिया। मौके से पांच अपहर्ता दबोचे गये, जबकि मुख्य आरोपी समेत दो फरार हो गये। आरोपियों में एक महिला भी है। मैनेजर के साथ बुरी तरह मारपीट भी की गई है। 

एएसपी राजेश भट्ट ने शुक्रवार दोपहर बताया कि धामपुर, बिजनौर के ग्राम मोअज्जमपुर सूरज निवासी दीपक कुमार पुत्र हरपाल सिंह काशीपुर में विश्वनाथ पेपर मिल में परचेज मैनेजर हैं। वह यहां मधुवन नगर में किराये के मकान में रहते हैं। गुरुवार देर रात करीब 12 बजे दीपक मिल से ड्यूटी कर घर लौट रहे थे। घर के पास तीन कारों से आए बदमाश मारपीट कर उन्हें जबरन अपने साथ ले गये।

शोरगुल सुनकर पास ही रहने वाली महिला ने तुरंत डायल 112 पर पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलते ही एसएसपी दलीप सिंह कुंवर ने देर रात काशीपुर में डेरा डाल दिया। उन्होंने कोतवाल संजय पाठक, एसएसआई सतीश चंद्र कापड़ी, एसआई संजीव कुमार की तीन टीमें छानबीन में लगा दीं और आसपास के सीसीटीवी फुटेज खंगाले। फुटेज में आरोपियों की एक कार का नंबर ट्रेस किया गया।

पुलिस ने सुबह पांच बजे अलीगंज रोड पर बाली पेट्रोल पंप के आगे एक गोदाम में दबिश दी। यहां दीपक बुरी तरह चोटिल मिले। पुलिस ने मौके से अमित कुमार निवासी ग्राम जमशेदपुर थाना डिलारी मुरादाबाद, सुनील सिंह निवासी छीना फार्म ढकिया गुलाबो काशीपुर, अंकित चौधरी निवासी न्यू आवास विकास काशीपुर, विशाल भारद्वाज निवासी सरोजिनी नगर अलीगंज रोड काशीपुर और अशोक ठाकुर निवासी खड़कपुर देवीपुरा काशीपुर बताये।

इनके पास से दो कारें भी बरामद की गईं। मुख्य आरोपी मनोज चौधरी निवासी आवास विकास काशीपुर और प्रियंका निवासी गौतमनगर तीसरी कार से फरार हो गये। अपहरण की वजह आरोपी प्रियंका के आपूर्ति किए केमिकल को निरस्त करना बताया जा रहा है। 

महिला की फर्म का केमिकल हो गया था रिजेक्ट
काशीपुर।
एएसपी राजेश भट्ट ने बताया कि पूछताछ में साफ हुआ कि मामले में फरार प्रियंका की केमिकल सप्लाई फर्म है। वह मनोज चौधरी के साथ मिलकर विश्वनाथ पेपर मिल के लिये केमिकल सप्लाई करती थी। कुछ समय पहले मिल प्रबंधन ने लो क्वालिटी होने के कारण केमिकल को रिजेक्ट कर दिया था।

एएसपी ने बताया कि आरोपी यह समझते रहे कि परचेज मैनेजर दीपक ने ही केमिकल रिजेक्ट करवाया है। इसे लेकर वे दीपक से रंजिश मानने लगे। बताया जा रहा है कि शुरुआती जांच में परचेज मैनेजर को सबक सिखाने और दबाव बनाने के लिये वारदात करने की बात सामने आयी है।

आरोपियों से लूटी रकम बरामद
पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से दीपक से लूटी 10 हजार रुपये नकदी, आधार कार्ड, एटीएम कार्ड आदि भी बरामद किए।

किस्त नहीं मिलने पर गाड़ियां उठाते हैं आरोपी
काशीपुर।
एएसपी राजेश भट्ट ने बताया कि मौके से गिरफ्तार किये गये पांचों आरोपी फाइनेंस कपंनियों के लिये काम करते हैं। ये लोग बाजपुर और काशीपुर क्षेत्र में फाइनेंस कंपनियों के लिये लोन नहीं चुका पाने वाले लोगों की गाड़यिां उठाने का काम करते हैं। प्रियंका और मनोज चौधरी ने इन लोगों से संपर्क कर दीपक के अपहरण की साजिश रची थी।

कहां-कहां करते हैं सप्लाई, होगी जांच
काशीपुर।
कोतवाल संजय पाठक ने बताया कि आरोपियों ने केमिकल रिजेक्ट करने पर दबाव बनाने के मकसद से परचेज मैनेजर को उठा लिया। यह माफियागिरी जैसी हरकत है। बताया कि यह पता लगाया जा रहा है कि आरोपी प्रियंका और मनोज और किन कंपनियों के लिये केमिकल सप्लाई कर रहे हैं। यह जानकारी भी जुटायी जायेगी कि कहीं अन्य कंपनियों के मैनेजरों-कर्मचारियों या मालिकों पर भी तो इसी तरह दबाव बनाकर सप्लाई कांट्रेक्ट साइन नहीं करवाया गया है?

खंगाला जा रहा आपराधिक रिकॉर्ड 
काशीपुर।
एएसपी राजेश भट्ट ने बताया कि शुरुआती जांच में पकड़े गये एक आरोपी के वर्ष 2004-05 में चौकीदार से लूट और हत्या में शामिल होने और एक अन्य पर ठाकुरद्वारा, डिलारी में मुकदमे दर्ज होने की जानकारी मिली है। बताया कि सभी आरोपियों का आपराधिक रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है। आसपास के थानों से जानकारी जुटायी जा रही है।

मैं काशीपुर छोड़कर चला जाऊंगा
काशीपुर। अपहर्ताओं के चंगुल से छूटकर घर लौटे विश्वनाथ मिल के परचेज मैनेजर दीपक कुमार वारदात के बाद से डरे-सहमे हुये हैं। उनके शरीर पर चोटों के कई निशान हैं। परचेज मैनेजर ने मामले को लेकर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। लेकिन, वह इतनी बुरी तरह घबराये हुये हैं कि उनका कहना है कि अब

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:kashipur police rescues abducted manager in five hours five accused arrested main accused absconding