DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाईवे और नहर पटरी तक कांवड़ के रंग में रंगी रुड़की,पुलिस ने पैदल कांवड़ियों को भी हाईवे पर चलने की अनुमति दी

पंचक खत्म होने के साथ ही कांवड़ियों का रैला उमड़ पड़ा। हाईवे और नहर पटरी तक कांवड़ के रंग में रंगी हुई है। हाईवे पर डाक कांवड़ियों के आने के कारण डायवर्जन के बाद भी जाम की स्थिति बनी है। पुलिस की ओर से पैदल कांवड़ियों को भी हाईवे पर चलने की अनुमति दे दी गई है। कांवड़ मेला अपने परवान की ओर चढ़ रहा है। 28 जुलाई से कांवड़   मेला शुरू हुआ था। पंचक लगने के कारण कई कांवड़िए कांवड़ नहीं  उठा रहे थे। शुक्रवार को पंचक खत्म होने के साथ ही कांवड़ियों का रैला उमड़ पड़ा। हरिद्वार से पैदल गंगा जल लेकर लौटने वाले कांवड़ियों की भीड़ उमड़ पड़ी। कांवड़ पटरी पूरी तरह कांवड़ के रंग में रंगी है। कांवड़ पटरी के साथ ही हाईवे पर भी कांवड़ियों की भीड़ चल रही है। इस बार डाक कांवड़िए जल्दी आने शुरू हो गए हैं। डाक कांवड़िए बड़ी कांवड़ लेकर चल रहे हैं। बड़ी कांवड़ के चलते उन्हें संकरे पटरी मार्ग से  नहीं भेजा जा सकता। डाक कांवड़ियों की भीड़ बढ़ने के कारण हाईवे पर पूरे दिन जाम की स्थिति  रही। पुलिस ने नारसन बार्डर से आने वाले डाक कांवड़ वाहनों को लक्सर की ओर डायवर्ट किया है। इसके बाद भी लौटने वाली डाक कांवड़ ज्यादा है। ऐसे में हाईवे पूरी तरह पैक है। बड़ी डाक कांवड़ होने के कारण सोलानी पुल, मलकपुर चुंगी, शताब्दीद्वार के आसपास जाम लग रहा है। व्यवस्था बनाने में पुलिस के पसीने छूट रहे हैं। वहीं, पुलिस ने पैदल कांवड़ियों को भी हाईवे पर आने की अनुमति दे दी है। कई पैदल कांवड़िए नहर पटरी के बजाय हाईवे से ही जा रहे हैं। एसपी देहात मणिकांत मिश्रा ने बताया कि पैदल कांवड़ियों को हाईवे से भी जाने की अनुमति दी गई है। बताया कि डाक कांवड़ लगातार बढ़ रही है। कई कांवड़ बहुत बड़ी हैं। इससे हाईवे धीमी रफ्तार से चल रहा है। 

हाईवे पर डाक कांवड़ का कब्जा: हाईवे पर पूरी तरह डाक कांवड़ियों का कब्जा हो गया है। ऐसे में स्थानीय लोगों को आवागमन में परेशानी  उठानी पड़ रही है। हरिद्वार-रुड़की के बीच कई लोग रोज आते-जाते हैं। बस घंटों में पहुंच रही है। ऐसे में लोग अपने साधनों से नहर पटरी मार्ग से आवाजाही कर रहे हैं। 

हाईवे पर जगह-जगह रूट डायवर्ट 
कांवड़ यात्रा के चलते हाईवे पर कई जगहों पर रूट डायवर्ट किया गया है। इससे दिल्ली जाने वाली बसें देहात क्षेत्र से होकर जा रही हैं। दूरी बढ़ने से दिल्ली का किराया भी बढ़ गया है। कांवड़ पटरी से लेकर हाईवे शिवभक्तों से पूरी तरह से पैक हो गया है। पैदल कांवड़ के अलावा बड़ी कांवड़ हाईवे से होकर अपने गंतव्य की ओर जा रही है। ऐसे में रोडवेज बसों का अपना रूट पूरा करना भारी हो रहा है। दो चक्कर लगाने वाली बसें एक चक्कर लगा पा रही हैं। आम दिनों में रुड़की की बसें रामपुर तिराहे से होकर खतौली से मोदीनगर से होकर दिल्ली जाती हैं। कांवड़ यात्रा में प्रशासन ने हाईवे पर कई जगह रूट डायवर्ट कर दिए हैं। 
ऐसे में दिल्ली का सफर दूर और महंगा हो गया है। रुड़की से होकर बसें मंगलौर, देवबंद, मेरठ, हापुड़, गाजियाबाद से दिल्ली जा रही हैं। वरिष्ठ केंद्र प्रभारी विवेक कपूर ने बताया कि आम दिनों में दिल्ली जाने में पांच घंटे लगते हैं लेकिन कांवड़ यात्रा में दिल्ली का सफर करीब आठ घंटे का हो गया है। किराया भी 205 से बढ़कर 270 किया गया है।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kanwars flock after panchak ends