DA Image
10 अगस्त, 2020|11:01|IST

अगली स्टोरी

भारत-चीन सीमा को जोड़ने वाला वैली ब्रिज 6 दिन में बनकर तैयार, VIDEO में देखें कैसे टूटा था पुल

भारत-चीन सीमा पर टूटा  वैली ब्रिज बीआरओ के जांबाजों ने निर्धारित लक्ष्य से नौ दिन पहले तैयार कर मिसाल कायम कर दी है। चीन से तनाव के वक्त टूटे सामारिक महत्व के इस पुल ने शासन-प्रशासन की चिंता बढ़ा दी थी।

लेकिन बीआरओ के 70 जवानों ने दिनरात एक कर 15 दिन में बनने वाला पुल छह दिन में तैयार कर सेना की राह आसान करने के साथ ही देश को चिंता मुक्त कर दिया।

शनिवार को पुल पर आवाजाही शुरू हो गई। इस कामयाबी के लिए ग्रामीणों ने बीआरओ के अधिकारियों का फूलमाला पहनाकर आभार जताया। 

बता दें कि सेनरगाड़ पर बना यह बैली ब्रिज 22 जून को एक ट्राला गुजरने के दौरान टूट गया था। यह रास्ता चीन सीमा पर स्थित भारतीय चौकियों और उच्च हिमालयी क्षेत्रों के 15 से अधिक गांवों को जोड़ता है।

सामरिक दृष्टि से अहम इस बैली ब्रिज को बनाने के लिए सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के जांबाज 22 जून से ही जुट गए थे। बीआरओ ने इसके ब्रिज निर्माण के लिए 15 दिन का लक्ष्य निर्धारित किया था।

तेजी से काम करते हुए शुक्रवार को बीआरओ ने बैली ब्रिज का आधे से ज्यादा काम पूरा कर लिया था। शनिवार को बीआरओ ने काम पूरा कर इस ब्रिज से आवाजाही भी शुरू करा दी।

इसके साथ ही ब्रिज से चीन सीमा के लिए पोकलैंड सहित कई वाहनों की आवाजाही कराई गई। पिछले छह दिन से देश के अन्य हिस्सों से कटे उच्च हिमालयी गांवों के लोगों ने आवाजाही शुरू होते ही बीआरओ के अधिकारियों का मालाएं पहनाकर स्वागत किया। 

डॉ. विजय कुमार जोगदण्डे, डीएम पिथौरागढ़ ने बताया कि सेनरगाड़ में क्षतिग्रस्त बैली ब्रिज शनिवार को तैयार कर लिया गया है। तय समय से पहले ब्रिज बनाने के लिए बीआरओ बधाई का पात्र है। बैली ब्रिज के दोबारा बनने से आपदाकाल में सीमांत के लोगों को राहत पहुंचाने में मदद मिलेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:India-China border 120-foot-long Valley Bridge connecting ready in six day