DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › ऐसे तो उत्तराखंड में नहीं आएंगे पर्यटक,सड़क की बदहाली से पर्यटकों को परेशानी- पर्यटन कारोबार चौपट
उत्तराखंड

ऐसे तो उत्तराखंड में नहीं आएंगे पर्यटक,सड़क की बदहाली से पर्यटकों को परेशानी- पर्यटन कारोबार चौपट

हिन्दुस्तान टीम, मुनस्यारी। पूरन पाण्डेPublished By: Himanshu Kumar Lall
Tue, 28 Sep 2021 02:42 PM
ऐसे तो उत्तराखंड में नहीं आएंगे पर्यटक,सड़क की बदहाली से पर्यटकों को परेशानी- पर्यटन कारोबार चौपट

उत्तराखंड में बदहाल सड़कों की वजह से पर्यटकों और पर्यटन कारोबार पर बुरा असर पड़ रहा है। पिथौरागढ़ जिले के थल-मुनस्यारी मार्ग के आए दिन बंद रहने व कई जगह बदहाल हो जाने से यह सड़क मुसीबत बन गई है।इससे मुनस्यारी के पर्यटन कारोबार की कमर टूट गई है। पर्यटक बुकिंग कराने के बाद यहां पहुंचने से ही पहले वापस लौट रहे हैं।

जिससे बैंकों से कर्ज लेकर होटल, रिसोर्ट व अन्य कारोबार करने वाले लोग परेशान हैं। थल से मुनस्यारी तक लगभग 70 किमी सड़क में 12 जगह डेंजर जोन बन गए हैं। जिससे इस सड़क में  पर्यटकों के साथ ही अन्य छोटे यात्री वाहन फंस रहे हैं। कई जगह बोल्डर गिरने का खतरा होने से भी बाहर से आने वाले लोग जोखिम के बीच हिमनगरी आने की हिम्मत नहीं कर पा रहे हैं।

लगातार दो साल से कोरोना के कहर के बाद मुनस्यारी के होटलों में इस समय बंगाली सीजन के लिए 50 प्रतिशत से अधिक बुकिंग आई थी। अब बदहाल सड़क के कारण कई पर्यटक आधे रास्ते से वापस लौटने को मजबूर हैं। इसका नुकसान पर्यटकों के साथ ही होटल कारोबारियों  को हो रहा है। पर्यटक गाइड, व अन्य कारोबारियों को भी इसकी सीधी चपत लग रही है।  

सड़क बंद रहने से सीमांत के लोगों को खासी दिक्कतें हो रही हैं।जिससे पर्यटन कारोबार चौपट हो गया है।
बीरु बुग्याल, होटल कारोबारी

कोरोना के बाद उम्मीद थी कि अब कारोबार पटरी पर आएगा, बदहाल सड़क ने सब चौपट कर दिया है। सड़क की दशा ठीक की जाए।
रमेश राम, होटल कारोबारी

बदहाल सड़क के कारण पर्यटक यहां आने से परहेज कर रहे हैं। यहां की बुकिंग कैसिल कर लोग चौकोड़ी में ही रुक रहे हैं।  -षष्टी बल्लभ भट्ट
प्रबंधक, केएमवीएन- मुनस्यारी

यहां पहले ही कारोबार मंदा है। अब सड़क की बदहाली से लोग नहीं आ रहे हैं। पर्यटकों के यहां कम आने का असर हहमारे कारोबार पर पड़ रहा है।
देवेन्द्र सिंह, होटल कारोबारी

ये  हैं डेंजर जोन
1.  बनिक 
2. गिनी बैंड 
3. गिरगांव 
4.रातापानी 
5. हरड़िया 
6. नया बस्ती 
7. गायत्री मंदिर  
8. पातल थौड़ 
9 . नया बस्ती नाचनी  10. तेजम रातीगाड़

संबंधित खबरें