ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडभीषण गर्मी में जंगलों की आग बनी जी का जंजाल, धुएं के बीच सांस लेना भी मुश्किल 

भीषण गर्मी में जंगलों की आग बनी जी का जंजाल, धुएं के बीच सांस लेना भी मुश्किल 

ज्योलीकोट के सड़ियाताल क्षेत्र में जंगल की आग से तीन दोपहिया वाहन भी जल गए। वहीं रानीखेत में जंगल की आग सैन्य अफसरों की कॉलोनी के अलावा केआरसी कमांडेंट के आवास के निकट तक पहुंच गई थी।

भीषण गर्मी में जंगलों की आग बनी जी का जंजाल, धुएं के बीच सांस लेना भी मुश्किल 
forest fire
Himanshu Kumar Lallहल्द्वानी, हिन्दुस्तानWed, 12 Jun 2024 05:41 PM
ऐप पर पढ़ें

भीषण गर्मी में जंगलों में आग लगने का सिलसिला जारी है। मंगलवार को बेतालघाट ब्लॉक के बजेड़ी गांव से सटे जंगल में भीषण आग लग गई। गांव में स्थित राजकीय प्राथमिक विद्यालय भी आग की चपेट में आ गया। तीन कमरे समेत उनमें रखे दस्तावेज और फर्नीचर राख हो गए।

ज्योलीकोट के सड़ियाताल क्षेत्र में जंगल की आग से तीन दोपहिया वाहन भी जल गए। वहीं रानीखेत में जंगल की आग सैन्य अफसरों की कॉलोनी के अलावा केआरसी कमांडेंट के आवास के निकट तक पहुंच गई थी।बेतालघाट ब्लॉक के बजेड़ी गांव के जंगल में मंगलवार दोपहर आग लग गई। आग की चपेट में गांव का राजकीय प्राथमिक विद्यालय भी आ गया।

ग्रामीणों ने अपने घरों से पानी लाकर आग पर काबू पाने की कोशिश की। इस बीच उन्होंने कुछ फर्नीचर और अहम दस्तावेज बचा लिए, लेकिन स्कूल के तीन कमरों में फैली आग से अधिकांश दस्तावेज और फर्नीचर जल गया। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची राजस्व, वन और अग्निशमन विभाग की टीमों ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाने के लिए कड़ी मशक्कत की।

कोसी रेंज की वन क्षेत्राधिकारी सोनल पनेरू ने बताया कि सड़क से स्कूल तक वाहनों के लिए रास्ता न होने की वजह से अग्निशमन वाहन स्कूल तक नहीं पहुंच सका। ऐसे में ग्रामीणों ने विभागों के साथ मिलकर स्कूल की छत तोड़कर आग को फैलने से रोका। वहीं, ज्योलीकोट के समीप सड़ियाताल के जंगल में मंगलवार सुबह भीषण आग लग गई। इस बीच आग से तीन स्कूटी भी जल गईं। 

जी का जंजाल बनी जंगल की आग, कैंची धाम तक पहुंची
वन विभाग के तमाम प्रयासों के बावजूद वनाग्नि की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। रोजाना एक के बाद एक जंगल आग की चपेट में आकर राख में तब्दील हो रहे हैं। मंगलवार को कैंची धाम से सटे जंगल में अराजकतत्वों ने आग लगा दी।

आग कैंची मन्दिर की तरफ आग बढ़ने लगी। स्थानीय लोगों की सूचना पर वन कर्मियों ने शाम करीब चार बजे आग बुझाई। भवाली फरसौली के बाद अब कैंची धाम के जंगल में सोमवार रात आग लग गई। आग मंगलवार को मंदिर किनारे तक आ पहुंची।

आग लगने की सूचना अग्निशमन को दी गई। सूचना पर मौके पर पहुंची अग्निशमन, वनकर्मी आग बुझाने में जुटे। आग इतनी भयानक थी कि अग्निशमनकर्मियों को काबू पाने में मशक्कत करनी पड़ी। कई घंटों की मशक्कत के बाद आग मंगलवार शाम करीब चार बजे आग पर काबू पाया जा सका।

पूर्व प्रधान दिनेश तिवारी ने अराजक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। वन क्षेत्राधिकारी विजय मेलकानी ने बताया कि अराजकतत्वों ने जंगल में आग लगाई। ऐसे लोगों को चिन्हित कर कार्रवाई की जाएगी।

ज्योलीकोट में तीन स्कूटी भी चपेट में आईं
ज्योलीकोट के समीप सड़ियाताल के जंगल में मंगलवार सुबह करीब 10 बजे भीषण आग लग गई। थोड़ी ही देर में आग गांव तक पहुंच गई। ग्रामीणों ने आग बुझाने की कोशिश की, लेकिन काबू नहीं पाया जा सका। आग से तीन स्कूटी भी जल गईं।

सूचना पर वन विभाग के दस कर्मचारियों ने मौके पर पहुंचकर आग बुझाने का प्रयास किया। वन क्षेत्राधिकारी मुकुल शर्मा का कहना है कि आग लगने की सूचना के बाद टीम मौके पर भेज दी गई। आग पर काबू पाने की कोशिश की जा रही है।

फायर टीम ने जांची आग से बचाव की व्यवस्था
रामनगर। फायर स्टेशन रामनगर की टीम ने मंगलवार को अस्पताल, रेस्टोरेंट, सिनेमा हॉल, कोचिंग सेंटर आदि का निरीक्षण किया। अग्निशमन अधिकारी रामनगर उमेश चंद्र परगाईं ने कहा कि सभी संस्थान स्वामियों को अपने संस्थानों में लगे अग्निशमन उपकरणों को कार्यशील दशा में रखने के निर्देश दिए गए।