DA Image
25 सितम्बर, 2020|10:16|IST

अगली स्टोरी

चिंजाजनक:आईसीयू तो तैयार पर चलाने के लिए मेडिकल स्टाफ नहीं, गंभीर मरीजों की परेशानियां बढ़ीं

 

निजी अस्पतालों की मदद से मिले दो वेंटिलेटर व आठ बेड का आईसीयू बेस अस्पताल में स्थापित कर दिए गए हैं। पर इन वेंटिलेटरों के संचालन के लिए बेस अस्पताल के पास स्टाफ नहीं है। ऐसे में आईसीयू व वेंटीलेटर मिलने के बावजूद संचालन अब तक शुरू नहीं हो पाया है।  वहीं मरीजों को भी इसका फायदा नहीं मिल पा रहा।

स्वास्थ्य विभाग के लिए आईसीयू व वेंटीलेटर एक पहेली बन चुके हैं। दरअसल आज तक स्वास्थ्य महकमा कुमाऊं के अपने किसी अस्पताल में वेंटिलेटर व आईसीयू स्थापित नहीं कर पाया है। विभाग के पास आईसीयू व वेंटिलेटर का संचालन का अनुभव रखने वाले न तो डॉक्टर हैं और न ही प्रशिक्षित नर्स। कोविड-19 के खतरे के बीच प्रशासन ने निजी अस्पतालों पर दबाव बनाकर वेंटीलेटर व आईसीयू बेस अस्पताल में स्थापित करवा दिया गया है।

पर अब इसका संचालन समस्या बन चुका है। अस्पताल के नर्सिंग स्टाफ तो अब तक केवल मशीन ही तकनीकि पहलू ही जान रहा है। अस्पताल के कोरोना प्रभारी डॉ. डीएस पंचपाल के अनुसार निजी अस्पतालों की मदद से बेस में आईसीयू, वेंटिलेटर स्थापित हो गया है। स्टाफ को हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में प्रशिक्षण को भेजा जा रहा है।जल्द ही संचालन का काम शुरू हो जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:icu can not be run in absence of medical staff in base hospital in haldwani amid lockdown due to corona pandemic in uttarakhand