ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडउत्तरकाशी के सिलक्यारा में 40 लोगों की टनल में ऐसे बचाएंगे जान? मशीन के इंतजार में बीता पूरा दिन

उत्तरकाशी के सिलक्यारा में 40 लोगों की टनल में ऐसे बचाएंगे जान? मशीन के इंतजार में बीता पूरा दिन

उत्तरकाशी टनल हादसे में 40 लोगों की जान पिछले 5 दिनों से अटकी हुई है। उक्त हाईपावर मशीन के पार्ट्स की पहली खेप ही शाम 4 बजे तक पहुंची। सूर्योदय से सूर्यास्त तक अभियान के शुरू होने का इंतजार रहा।

उत्तरकाशी के सिलक्यारा में 40 लोगों की टनल में ऐसे बचाएंगे जान? मशीन के इंतजार में बीता पूरा दिन
Himanshu Kumar Lallउत्तरकाशी, सुरेंद्र नौटियालThu, 16 Nov 2023 10:48 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तरकाशी की सिलक्यारा सुरंग के अंदर फंसे मजदूरों और बाहर बचाव अभियान में जुटी टीमों का एक और महत्वपूर्ण दिन हैवी ऑगर ड्रिलिंग मशीन के इंतजार में बीत गया। वायुसेना के विशेष विमान से चिन्यालीसौड़ भेजी गई।

उक्त हाईपावर मशीन के पार्ट्स की पहली खेप ही शाम चार बजे तक मौके पर पहुंच पाई। इस कारण बुधवार को सूर्योदय से सूर्यास्त तक का एक- एक पल अभियान शुरू होने की घड़ियां गिनने में बीता। आपके अपने अखबार ‘हिन्दुस्तान’ ने बुधवार को भी रेस्क्यू अभियान पर नजर बनाए रखी। 

सुबह 08:30 बजे
मंगलवार की रात जल निगम की ऑगर मशीन का प्रयोग विफल होने के बाद, राहत और बचाव अभियान रोक दिया गया था। इसके बाद अधिकारियों ने रात में ही टिहरी से टीएचडीसी की एक और ड्रिल मशीन भी मंगवाई, लेकिन उक्त मशीन सिलक्यारा बैंड से दो किलामीटर पहले ही मोड़ पर फंस गई। इस बीच एडीएम तीरथ पाल ने मौके पर पहुंचकर बताया कि दिल्ली से हाईपावर ड्रिल मशीन वायुसेना के विशेष विमान से चिन्यालीसौड़ पहुंचने वाली है। वो इसके बाद सीधे चिन्यालीसौड़ रवाना हो गए।

सुबह 10:30 बजे
सवा दस बजे टिहरी सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह मौके पर पहुंचीं। उन्होंने राहत और बचाव अभियान की बाबत अधिकारियों से जानकारी ली। इस बीच, सुरंग मे बाहर मौजूद मजदूरों और स्थानीय लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया।

मजदूरों का आरोप था कि यह हादसा कंपनी की लापरवाही से हुआ है। साथ ही बचाव-राहत अभियान भी पूरी गंभीरता से नहीं चलाया जा रहा है। अफसरों ने उन्हें किसी तरह शांत किया। दोपहर बाद पूर्व विधायक विजयपाल सजवाण और राजकुमार ने भी मौके पर पहुंचे।

दोपहर 12:30 बजे
चिन्यालीसौड़ में वायुसेना का हरक्यूलिस विमान हवाई पट्टी पर उतर चुका है। इस विमान के जरिए पहुंची ड्रिल मशीन की पहली खेप सड़क मार्ग से सिलक्यारा लाई जा रही है। सिलक्यारा में मौजूद अधिकारी, मशीन लेकर आ रहे ट्रक की पल-पल की खबर लेते रहे।

अब दूसरी और तीसरी खेप का इंतजार होने लगा, ताकि मशीनों को जोड़कर बचाव अभियान फिर से शुरू किया जा सके। इस दौरान मौके पर अब भी बड़ी संख्या में भीड़ जमा है। पुलिस उन्हें सुरंग से दूर करने की कोशिश कर रही है।

शाम 04:47 बजे
इधर, दिल्ली से वायुसेना के विमान से हाईपावर ड्रिलिंग मशीन की दूसरी खेप साढ़े तीन बजे व शाम 447 बजे तीसरी खेप चिन्यालीसौड़ हवाई पट्टी पर पहुंची। इसके बाद सभी हिस्सों को सिलक्यारा पहुंचाए जाने का इंतजार होने लगा।

सुरंग के पास मौजूद अधिकारी दावा करते रहे कि सभी हिस्से मिलने के बाद तीन से चार घंटे में मशीन जोड़कर, काम शुरू कर दिया जाएगा। इस बीच जिलाधिकारी अभिषेक रुहेला और एसपी अर्पण यदुवंशी ने भी मौके पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें