DA Image
Sunday, November 28, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंडभारी बारिश, भूस्खलन और आपदा......13 और की मौतों के साथ 55 पहुंचा आंकड़ा

भारी बारिश, भूस्खलन और आपदा......13 और की मौतों के साथ 55 पहुंचा आंकड़ा

हिन्दुस्तान टीम, देहरादूनHimanshu Kumar Lall
Thu, 21 Oct 2021 10:01 AM
भारी बारिश, भूस्खलन और आपदा......13 और की मौतों के साथ 55 पहुंचा आंकड़ा

उत्तराखंड में भारी बारिश, भूस्खलन और बर्फबारी के चलते मौतों का आंकड़ा 55 पहुंच गया है। आठ ट्रैकर समेत 15 लोग अभी भी लापता बताए जा रहे हैं। बुधवार को चंपावत में चार, उत्तरकाशी में तीन और बागेश्वर में एक  की मौत हो गई। वहीं, नैनीताल जिले में पांच और मौतों की पुष्टि होने से जिले में मौतों की संख्या 30 पहुंच गई है। 

उत्तरकाशी के हर्षिल से लंबखागा पास होते हुए छितकुल ट्रैक पर गए आठ ट्रैकर लापता हो गए थे। बर्फ में दबने से उनकी मौत हो गई है। वहीं लापता पोर्टरों की तलाश में सीमा पर भेजे गए आठ पोर्टर सकुशल मातली आईटीबीपी परिसर में लौट आए हैं। जबकि भारत-चीन सीमा पर आईटीबीपी की टीम के साथ गश्त पर गए तीन पोर्टरों की मौत हो गई। वहीं, नारायणबगड़ ब्लॉक के डुंग्री गांव में दो लोग पहाड़ी से आए मलबे के नीचे दब गए। चंपावत के लोहाघाट में भूस्खलन से घर पर गिरे मलबे में दबकर दंपति और दो बच्चों की मौत हो गई।

बागेश्वर में नदी पार करते वक्त पोस्टमैन की डूबने से मौत हो गई। धारचूला में चल बुग्याल गए दो लोग बर्फ में दब गए हैं। उनका दो दिन से कोई पता नहीं चला है। कुमाऊं में बारिश और हिमपात से धारचूला व पिंडारी घाटी में 110 पर्यटक फंसे हुए हैं। ऊधमसिंह नगर के किच्छा में कुंदन राम (32) पुत्र रमेश राम निवासी भनोली अल्मोड़ा मंगलवार शाम को बेनी नदी में बह गए। एनडीआरएफ की टीम उसकी तलाश में जुटी है। 

मलबे में दबे दो लोग
नारायणबगड़ ब्लॉक के डुंग्री गांव में दो लोग मंगलवार देर शाम को पहाड़ी से आए मलबे के नीचे दब गए। संचार व्यवस्था ठप रहने की वजह से बुधवार को घटना की जानकारी प्रशासन को मिल पाई। सूचना मिलने के बाद बुधवार को एसडीआरएफ और प्रशासन की टीम ने मौके पर पहुंचकर दबे हुए लोगों की खोजबीन शुरू कर दी है। अभी तक दोनों का पता नहीं चल पाया है। 

चल बुग्याल में दो लोग बर्फ में दबे
धारचूला। चल बुग्याल में भेड़ लेकर गए शंकर सिंह पुत्र गोपाल सिंह और दीपक सिंह पुत्र करन सिंह भारी बर्फबारी में दब गए हैं। चल गांव की सरस्वती देवी ने एसडीएम को पत्र भेजकर कहा है कि दोनों का 18 अक्तूबर से कोई पता नहीं है। उन्होंने दोनों को खोजने की मांग की है।

बारिश-हिमपात में पर्यटक फंसे 
बागेश्वर-धारचूला। बागेश्वर में पिंडर नदी पर बने लकड़ी के दो अस्थायी पुल बह गए हैं। पिंडर घाटी की साहसिक यात्रा पर गए लगभग 30 पर्यटक पिंडर के उस पार ही फंसे हुए हैं। पिंडर में फंसे पर्यटकों को बचाने के लिए देहरादून से भी एसडीआरएफ का एक दल वहां भेजा गया है। वहीं, धारचूला में भी पंचाचूली देखने गए 80 पर्यटक दुग्तू व दांतू में फंस गए हैं।     

 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें