ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडभारी बारिश, सड़क बंद और फिर आफत, रात को 7 घंटे फंसी दुल्हन ला रही बारात

भारी बारिश, सड़क बंद और फिर आफत, रात को 7 घंटे फंसी दुल्हन ला रही बारात

घर पहुंचने से 26 किमी पहले सात बजे नाचनी-बांस बगड़ मोटर मार्ग पर भारी बारिश के कारण दुलिया बगड़ पर मलबा आ गया। इससे यह सड़क पूरी तरह से बंद हो गई। सड़क बंद होने से लोगों को परेशानी हुई थी।

भारी बारिश, सड़क बंद और फिर आफत, रात को 7 घंटे फंसी दुल्हन ला रही बारात
Himanshu Kumar Lallमुनस्यारी, हिन्दुस्तानTue, 14 May 2024 04:21 PM
ऐप पर पढ़ें

भारी बारिश से यहां एक बारात नाचनी-बांस बगड़ सड़क पर रविवार रात करीब सात घंटे से अधिक समय तक फंसी रही। इस दौरान उन्होंने सड़क खुलने का इंतजार किया पर निराशा हाथ लगी। 120 से अधिक बाराती और वर-वधू भूखे प्यासे हाथ जोड़कर भगवान से सड़क खुलने की प्रार्थना करते रहे।

किसी तरह सोमवार तड़के अपने संसाधनों से बंद सड़क खुलवार कर बारात घर के लिए रवाना हुई। रविवार को कोटा गांव से त्रिलोक सिंह की बारात यहां बला गांव आई थी। यहां एक दिवसीय वैवाहिक कार्यक्रम संपन्न होने के बाद वे शाम दुल्हन आशा और बारातियों के साथ अपने घर गांव कोटा ले जाने के लिए शाम करीब 6 बजे वापस रवाना हुए।

घर पहुंचने से 26 किमी पहले सात बजे नाचनी-बांस बगड़ मोटर मार्ग पर भारी बारिश के कारण दुलिया बगड़ पर मलबा आ गया। इससे यह सड़क पूरी तरह से बंद हो गई। सड़क बंद होने से यहां बाराती घंटों फंसे रहे। वर का कहना है कि स्थानीय विधायक के साथ ही प्रशासन के अधिकारियों को उन्होंने फोन कर मार्ग खोलने का आग्रह किया।

रात 11 बजे तक कोई मौके पर मार्ग खोलने कोई नहीं पहुंचा। कहा कि इसके बाद न्होंने पोरथी गांव से अपने खर्चे पर जेसीबी मंगाई। करीब दो घंटे से अधिक समय तक जेसीबी रात में इस मार्ग को खोलने का प्रयास करती रही। रात 1 बजे के बाद मार्ग को किसी तरह खोला जा सका। मार्ग खुलने के बाद बारातियों ने राहत ली और किसी तरह घर को रवाना हुए।

सड़क बंद होने के बाद मैंने स्थानीय और जिला प्रशासन के साथ ही स्थानीय विधायक को भी जानकारी दी। इसके बावजूद भी जब कई घंटे बाद भी कोई सड़क खोलने नहीं पहुंचा तो अपने संसाधनों से सड़क खोलने का काम करवाया। पोर्थी गांव में जेसीबी मंगाई। तब रात 1 बजे किसी तरह सड़क खोली गई और हम घर रात दो बजे बाद पहुंच सके। 
त्रिलोक सिंह, वर।

सड़क बंद होने की सूचना पर जेसीबी और कर्मचारियों की टीम को तत्परता से भेजा गया था।
अंदीप राणा, अधिशासी अभियंता, लोनिवि डीडीहाट।