ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडमॉनसून की आहट पर उत्तराखंड में भारी बारिश का अलर्ट, चारधाम रूट पर सफर पर रहें सावधान

मॉनसून की आहट पर उत्तराखंड में भारी बारिश का अलर्ट, चारधाम रूट पर सफर पर रहें सावधान

चारधाम यात्रा पर जाने वाले तीर्थ यात्रियों से अपील है कि यात्रा शुरू करने से पहले मौसम की जानकारी जरूर जुटा लें। मानसून की दस्तक महसूस की जाने लगी है। अगले हफ्ते मानसून पहुंचने की उम्मीद है।

मॉनसून की आहट पर उत्तराखंड में भारी बारिश का अलर्ट, चारधाम रूट पर सफर पर रहें सावधान
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानSat, 22 Jun 2024 11:49 AM
ऐप पर पढ़ें

चारधाम यात्रा पर भारी संख्या में भक्तजन दर्शन करने को पहुंच रहे हैं। गंगोत्री, बदरीनाथ, केदारनाथ समेत चारों धामों पर मौसम पर बड़ा अपडेट सामने आया है। पर्वतीय जिलों में बारिश पर अलर्ट जारी किया गया है।

ऐसे में चारधाम यात्रा पर जाने वाले तीर्थ यात्रियों से अपील है कि यात्रा शुरू करने से पहले मौसम की जानकारी जरूर जुटा लें। उत्तराखंड में मानसून की दस्तक महसूस की जाने लगी है। यहां अगले हफ्ते मानसून पहुंचने की उम्मीद की जा रही है।

उत्तराखंड में बारिश का दौर शुरू होने के साथ मौसम विभाग ने ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया है। कुमाऊं मंडल के चार जिलों नैनीताल, चंपावत, पिथौरागढ़ और बागेश्वर में भारी बारिश को देखते हुए 24 से 26 जून तक अलर्ट पर रखा गया है।

देहरादून स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक, पिछले तीन दिन से राज्य के अधिकांश हिस्सों में पश्चिमी विक्षोभ की वजह से बारिश हो रही है। 23 जून से प्री-मानसून बारिश का दौर शुरू होने के साथ उत्तराखंड में बारिश बढ़नी शुरू हो जाएगी।

शुरुआत में 24 जून से कुमाऊं के चार जिलों के साथ ही कुछ अन्य स्थानों पर भारी बारिश होगी। उम्मीद की जा रही है कि 27 जून के बाद पूरे उत्तराखंड में तेज बारिश होगी। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में मानसून अगले हफ्ते आने की पूरी संभावना बन रही है।

25 जून के बाद उत्तराखंड में कभी भी मानसून प्रवेश कर जाएगा, जो अगले दो-तीन दिन में पूरे राज्य में पहुंच जाएगा। वहीं उत्तराखंड में शुक्रवार को भी कई स्थानों पर बारिश हुई। लोगों से अपील है पर्वतीय रूट पर यात्रा करते वक्त सावधान रहें। 

पहाड़ों की यात्रा सावधानी से करें
मौसम विभाग ने चारधाम समेत पर्वतीय क्षेत्रों की यात्रा करते वक्त सावधानी बरतने के लिए कहा है। मौसम निदेशक के मुताबिक, भारी बारिश को देखते हुए लोगों को यात्रा पर निकलने से पहले मौसम की स्थिति को जरूर जान लेना होगा।

उन्होंने कहा कि यात्रा रूटों पर ज्यादा भीड़ न हो, इसका विशेष ध्यान देने की जरूरत है। इस दौरान भूस्खलन और पहाड़ी से पत्थर गिरने की घटनाएं हो सकती हैं। इसको लेकर अलर्ट किया गया है।

आंधी से आफत, ट्रेन और सड़क यातायात प्रभावित
देहरादून के कुछ हिस्सों में शुक्रवार शाम चार बजे बाद तेज आंधी-तूफान चला। यहां हरिद्वार-देहरादून रेलवे ट्रैक डोईवाला-कांसरो के बीच पेड़ गिरने से बाधित हो गया। रेलवे की इलेक्ट्रिक लाइन क्षतिग्रस्त होने से लखनऊ जाने वाली वंदेभारत को रास्ते में रोकना पड़ा।

दिल्ली के लिए शताब्दी एक्सप्रेस भी देहरादून से दो घंटे देरी से रवाना हुई। ऋषिकेश-देहरादून मार्ग पर कार पर पेड़ गिर गया। इससे यातायात बाधित रहा। हालांकि किसी तरह की जनहानि नहीं हुई।

केदारनाथ से छह हेली कंपनियां लौटीं
मानसून की आहट के साथ केदारनाथ धाम से छह हेलीकॉप्टर कंपनियां लौट गई हैं। अब केवल ट्रांस भारत और हिमालय हेली कंपनी मौजूद है। मानसून थमने के बाद यहां सभी कंपनियां सेवाएं देंगी।

कुमाऊं में पहले प्रवेश करता है मानसून
उत्तराखंड में मानसून की बारिश की शुरुआत कुमाऊं से हाती है, बिहार यूपी से मानसून उत्तराखंड की तरफ कुमाऊं मंडल में प्रवेश करता है। ऐसे में यहां 24 जून से होने वाली बारिश काफी अहम होगी।