DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  हरिद्वार : शाही स्नान के लिए हरकी पैड़ी पर उमड़ी भीड़, लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी,देखें Photos

उत्तराखंडहरिद्वार : शाही स्नान के लिए हरकी पैड़ी पर उमड़ी भीड़, लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी,देखें Photos

लाइव हिन्दुस्तान टीम, हरिद्वारPublished By: Shivendra Singh
Mon, 12 Apr 2021 11:15 AM
अखाड़ों के संत शाही स्नान के दिन गंगा में डुबकी लगाते हुए।
1 / 9अखाड़ों के संत शाही स्नान के दिन गंगा में डुबकी लगाते हुए।
संत गंगा नदी में शाही स्नान करते हुए।
2 / 9संत गंगा नदी में शाही स्नान करते हुए।
निरंजनी व जूना अखाड़ा के संत शाही स्नान करते हुए।
3 / 9निरंजनी व जूना अखाड़ा के संत शाही स्नान करते हुए।
कुंभ में स्नान से पहले मास्क पहनता साधु।
4 / 9कुंभ में स्नान से पहले मास्क पहनता साधु।
नागा साधु स्नान से पहले अपने आप को तैयार करता हुआ।
5 / 9नागा साधु स्नान से पहले अपने आप को तैयार करता हुआ।
शाही स्नान को जाते हुए साधु।
6 / 9शाही स्नान को जाते हुए साधु।
शाही स्नान का इंतजार करते हुए साधु।
7 / 9शाही स्नान का इंतजार करते हुए साधु।
शाही स्नान से पहले साधु से बात करती हुई महिला।
8 / 9शाही स्नान से पहले साधु से बात करती हुई महिला।
कुंभ में नागा साधु।
9 / 9कुंभ में नागा साधु।

कोरोना संकट के बीच हरिद्वार में आज कुंभ का दूसरा शाही स्नान है। शाही स्नान को लेकर पुलिस प्रशासन से लेकर अखाड़ों ने अपनी तैयारियां पूरी कर ली है। लेकिन शाही स्नान से पहले हरकी पैड़ी पर भीड़ उमड़ पड़ी है। आम लोग शाही स्नान से पहले गंगा जी में डुबकी लगाने पहुंचे। इस दौरान कोविड नियम तार-तार हो गए हैं और सभी तरफ श्रद्धालुओं की भीड़ रही। कुंभ मेला आईजी संजय गुंजयान ने बताया कि हम लोगों से लगातार कोविड नियमों के पालन का आग्रह कर रहे हैं लेकिन भारी भीड़ के कारण यह व्यावहारिक रूप से असंभव है। आईजी का कहना है कि भारी भीड़ को देखते हुए यहां घाट पर सामाजिक दूरी जैसे नियम का पालन करा पाना नामुमकिन है। अगर हमने ऐसा कराने की कोशिश की तो भगदड़ जैसी स्थिति पैदा हो सकती है इसलिए हम ऐसा नहीं कर रहे हैं। प्रशासन की ओर से साधुओं पर हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा की गई।

कुम्भ में सुबह 11 बजे से पहले निरंजनी व जूना अखाड़ा के सन्तों ने शाही स्नान कर लिया था। दोनो अखाड़े अलनी पेशवाई के साथ ब्रह्मकुंड में स्नान को पहुंचे थे। सबसे पहले निरंजनी में आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद गिरी, साथ में नेपाल के राजा ज्ञानेंद्र वीर विक्रम शाह देव, श्रीमहंत रविंद्र पुरी समेत अन्य सन्तो ने स्नान किया।  जूना अखाड़ा के साथ अग्नि और आह्वान में सबसे ज्यादा नागा सन्यासी उमड़े हैं। नागा सन्यासी तलवार और फरसों के साथ करतब करते हुए शाही स्नान के लिए हर की पैड़ी पर पहुंचे। हर की पैड़ी पर अन्य घाटो पर श्रद्धालु स्नान कर रहे है। मेला प्रशाशन के अनुसार सोमवार दोपहर तक 21 लाख श्रद्धालुओं ने अब तक हरिद्वार कुम्भ मेला में स्नान कर लिया है।

आईजी संजय गुंजयाल ने बताया कि घाट पर सुबह 7 बजे तक आम लोगों के लिए स्नान करने दिया जाएगा इसके बाद यह स्थान अखाड़ों के लिए आरक्षित रहेगा। हम हालात पर नजर बनाए हुए हैं। आपको बता दें कि सोमवती अमावस्या के शाही स्नान पर कुंभ मेला पुलिस ने श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए हरकी पैड़ी पर स्नान करने के लिए कुछ राहत दे दी है। श्रद्धालु हरकी पैड़ी पर सुबह सात बजे तक स्नान कर सकेंगे। इसके बाद आम श्रद्धालु हरकी पैड़ी क्षेत्र पर नहीं जा पाएंगे और क्षेत्र अखाड़ों के संतों के स्नान के लिए आरक्षित होगा।

ये है शाही स्नान का क्रम

1. सबसे पहले निरंजनी अखाड़ा अपने साथी आनंद के साथ अपनी छावनी से सुबह 8.30 बजे चलेगा। हर की पौड़ी पर पहुंचकर निरंजनी अखाड़े के संत शाही स्नान करेंगे।
2. उसके बाद 9 बजे का समय जूना अखाड़ा व अग्नि अखाड़ा, आवाहन और किन्नर अखाड़ा को स्नान के लिए दिया गया है। जूना अखाड़े से निकलकर हर की पौड़ी ब्रह्मकुंड में स्नान करेगा।
3. उसके बाद महानिर्वाणी अपने साथी अटल के साथ कनखल से हर की पौड़ी की ओर रुख करेगा। इस अखाड़े के संत यहां से 9.30 बजे शाही स्नान के लिए निकलेंगे।
4. उसके बाद तीनों बैरागी अखाड़े श्री निर्मोही अणी, दिगंबर अणी, निर्वाणी अणी 10:30 बजे अपने हाथों से चलकर हर की पौड़ी पहुंचेंगे।
5. उसके बाद श्री पंचायती बड़ा उदासीन अखाड़ा 12:00 बजे अपने अखाड़े से हर की पौड़ी की ओर रुख करेगा।
6. श्री पंचायती नया उदासीन अखाड़ा लगभग 2:30 बजे अपने अखाड़े से हर की पौड़ी की ओर रुख करेगा।
7. आखिर में श्री निर्मल अखाड़ा 3 बजे के करीब अपने अखाड़े से हर की पौड़ी की ओर रूख करेगा।

संबंधित खबरें