ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडहरिद्वार हरकी पैड़ी में दर्शन को अब नहीं होगी टेंशन, यात्री क्षमता बढ़ाने का बना यह प्लान 

हरिद्वार हरकी पैड़ी में दर्शन को अब नहीं होगी टेंशन, यात्री क्षमता बढ़ाने का बना यह प्लान 

सात करोड़ की अनुमानित भीड़ के हिसाब से गंगा कॉरिडोर को तैयार किया जाना है, ताकि एक समय में हरिद्वार में सात करोड़ लोग रुक सकें। यात्रियों की क्षमता से बढ़ाकर इसे 60 हजार यात्री क्षमता का किया जाएगा।

हरिद्वार हरकी पैड़ी में दर्शन को अब नहीं होगी टेंशन, यात्री क्षमता बढ़ाने का बना यह प्लान 
Himanshu Kumar Lallहरिद्वार। सागर जोशीWed, 31 Jan 2024 05:45 PM
ऐप पर पढ़ें

हरिद्वार में बनने वाले गंगा कॉरिडोर में हरकी पैड़ी के मालवीय घाट का विस्तार किया जाएगा। 20 हजार यात्रियों की क्षमता से बढ़ाकर इसे 60 हजार यात्री क्षमता का किया जाएगा, ताकि अधिक से अधिक लोग गंगा आरती देख सकें।

अभी सबसे अधिक लोग इसी घाट से गंगा आरती देखते हैं, हालांकि गंगा आरती देखने के लिए लोगों की पहली पसंद ब्रह्मकुंड ही है। सात करोड़ की अनुमानित भीड़ के हिसाब से गंगा कॉरिडोर को तैयार किया जाना है, ताकि एक समय में हरिद्वार में सात करोड़ लोग रुक सकें।

सबसे महत्वपूर्ण हरकी पैड़ी का इसमें विस्तार होना है, जिसको लेकर सौंदर्यीकरण की जिम्मेदारी देख रही कंपनी ली(एलईए) एसोशियेट्स साउथ एशिया की टीम हरिद्वार पहुंच गई है। यह टीम अपनी डीपीआर तैयार करेगी। बैठक में सबसे पहले हरकी पैड़ी के मालवीय घाट को विस्तार देने का निर्णय हुआ है, हालांकि इससे पहले सभी विभागों के अलावा श्रीगंगा सभा से भी चर्चा की जाएगी।

सबकी राय ली जाएगी
कंपनी काम शुरू करने से पहले एक कमेटी बनाएगी। इसके साथ ही श्रीगंगा सभा, व्यापारी, अखाड़ों समेत अन्य लोगों से बातचीत की जाएगी, ताकि किसी भी तरह का विरोध इस बार न हो। पॉड टैक्सी के रूट को लेकर हुए विरोध के बीच यह तय किया गया है।

पेशवाई रूट की जानकारी मांगी
कंपनी ने कुंभ मेले के दौरान होने वाले शाही स्नान और पेशवाई को लेकर अखाड़ों का रूट की जानकारी पुलिस से मांगी है, ताकि अखाड़ों की पेशवाई में कोई दिक्कत न हो, इसको ध्यान में रखकर कॉरिडोर की योजना बनानी है।

हरकी पैड़ी की अभी 30 हजार की क्षमता
अभी हरकी पैड़ी की एक समय में क्षमता 30 हजार लोगों की है, जिसमें ब्रह्मकुंड, नाई घाट और मालवीय घाट शामिल है। अब अकेले ही 60 हजार की क्षमता मालवीय घाट की हो जाएगी।

बैठक में कॉरिडोर को किस तरह बनाना है, साथ ही हरकी पैड़ी को कैसे सुंदर और अलौकिक बनाया जाए, इस पर चर्चा हुई है। मालवीय घाट के विस्तार को लेकर भी चर्चा हुई है।
अंशुल सिंह, उपाध्यक्ष, एचआरडीए

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें