ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडदिल्ली में पकड़ा गया हल्द्वानी हिंसा का मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक, पिछले कई दिनों से था फरार

दिल्ली में पकड़ा गया हल्द्वानी हिंसा का मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक, पिछले कई दिनों से था फरार

जानकारी के मुताबिक उस के वकील ने अग्रिम जमानत याचिका दायर कर कहा कि उन्हें पता चला है कि उनके मुवक्किल को राष्ट्रीय राजधानी में गिरफ्तार कर लिया गया है।

दिल्ली में पकड़ा गया हल्द्वानी हिंसा का मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक, पिछले कई दिनों से था फरार
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 24 Feb 2024 05:46 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड के हलद्वानी में हुई हिंसा के मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक को दिल्ली में गिरफ्तार कर लिया गया है। अब्दुल मलिक पिछले काफी दिनों से फरार बताया जा रहा था। पुलिस लगातार उसकी तलाश में जुटी थी। पुलिस की ये तलाश दिल्ली में आकर खत्म हुई और उसे तुरंत पकड़ लिया गया। बताया जा रहा है कि हल्द्वानी में हिंसा भड़काने के बाद वह दिल्ली में आकर छिपा बैठा था। उसके वकील ने अग्रिम जमानत याचिका भी दायर कर दी है। वकील ने कहा कि उन्हें पता चला है कि उनके मुवक्किल को दिल्ली में गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि इस हिंसा से उनका कोई लेना देना नहीं है।

पुलिस महानिरीक्षक और  उत्तराखंड पुलिस के प्रवक्ता नीलेश आनंद भरणे ने कहा, "हमने मुख्य आरोपी अब्दुल मलिक को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है।" मलिक की गिरफ्तारी के साथ कुल गिरफ्तारियों की संख्या 79 तक पहुंच गई है.

बता दें, हल्द्वानी के बनभूलपुरा क्षेत्र में अवैध रूप से बने मदरसे को ध्वस्त करने को लेकर हिंसा भड़क गई थी। स्थानीय निवासियों ने इस कदम का विरोध किया था, बाद में ये विरोध हिंसा में बदल गया। ये हिंसा 8  फरवीर को हुई थी जिसमें अब्दुल मलिक को मामले का मुख्य साजिशकर्ता बताया गया था। जिस जगह प्रशासन अतिक्रमण तोड़ने गया था वो अब्दुल मलिक के कब्जे में ही थी। इस दौरान जो हिंसा हुई थी उसमें करीब 2.44 करोड़ की संपत्ति को नुकसान पहुंचा था। इस हिंसा की भरपाई के लिए अब्दुल मलिक को नोटिस भी भेजा गया था। 

यह भी पढ़ें: 16 दिन तक लुका छुपी; अब्दुल मलिक के दबोचे जाने से पहले क्या-क्या हुआ

पुलिस ने जारी किया था लुकआउट नोटिस

मलिक और उसके बेटे अब्दुल मोइद के खिलाफ पुलिस ने लुकआउट नोटिस भी जारी किया गया था और उन्हें वांटेड घोषित किया था। पुलिस पिछले काफी दिनों से उसकी तलाश में जुटी थी। 

गुरुवार को, नैनीताल के एसएसपी प्रह्लाद नारायण मीणा ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया था कि अब्दुल मलिक और उनकी पत्नी साफिया उन छह लोगों में शामिल हैं, जिन पर आपराधिक साजिश रचने और अवैध प्लॉटिंग, निर्माण और भूमि के हस्तांतरण के लिए मृत व्यक्ति के नाम का धोखाधड़ी से इस्तेमाल करने का मामला दर्ज किया गया है।

27 फरवरी को जमानत याचिका पर सुनवाई

उधर अब्दुल मलिक के वकील ने नैनीताल के सेशन कोर्ट में मलिक की अग्रिम जमानत की याचिका दाखिल की है। इस याचिका पर सुनवाई 27 फरवरी को होगी। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें