ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडखास ‘दूत’ करा रहे थे हल्द्वानी हिंसा के मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक-बेटे मोईद के बीच बात

खास ‘दूत’ करा रहे थे हल्द्वानी हिंसा के मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक-बेटे मोईद के बीच बात

फरारी के दौरान दोनों ने आपस में संपर्क साधने का यही तरीका अपना रखा था। कुछ चुनिंदा लोग इन दोनों के बीच संवाद के दूत बने हुए थे। पुलिस ने ऐसे लोगों की तलाश शुरू कर दी है। दोनों गिरफ्तार हैं।

खास ‘दूत’ करा रहे थे हल्द्वानी हिंसा के मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक-बेटे मोईद के बीच बात
Himanshu Kumar Lallहल्द्वानी,समीर बिसारियाFri, 01 Mar 2024 12:00 PM
ऐप पर पढ़ें

पुलिस वांछित रहे हल्द्वानी हिंसा के आरोपी अब्दुल मलिक और उसके बेटे अब्दुल मोईद को गिरफ्तार करने के लिए जहां एक तरफ मुखबिर तंत्र का इस्तेमाल कर रही थी, वहीं हल्द्वानी हिंसा के फरार बाप-बेटे अपने खास मिलने वालों के जरिए एक-दूसरे को संदेश भिजवा रहे थे।

फरारी के दौरान दोनों ने आपस में संपर्क साधने का यही तरीका अपना रखा था। कुछ चुनिंदा लोग इन दोनों के बीच संवाद के दूत बने हुए थे। पुलिस ने ऐसे लोगों की तलाश शुरू कर दी है। मलिक और मोईद ने पुलिस सर्विलांस से बचने के लिए मोबाइल फोन का इस्तेमाल एकदम बंद कर रखा था।

पुलिस जहां मुखबिर तंत्र का जाल बिछा रही थी, वहीं आरोपी पिता और बेटा खबरियों के सहारे अपनी योजना एक-दूसरे तक पहुंचा रहे थे। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, मलिक और मोईद की गिरफ्तारी में सर्विलांस से सफलता की उम्मीद तभी खत्म हो गई थीढ।

जब पता चला कि दोनों आरोपी मोबाइल फोन का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं। इसके बाद से पुलिस ने पूरी तरह से मुखबिर तंत्र को सक्रिय कर रखा था। सूत्रों की मानें तो मलिक और मोईद के बीच करीब दो-तीन लोग ऐसे थे जो उनके दूत बतौर काम कर रहे थे।

पिता और बेटे के बीच ये ही लोग सूचनाएं और योजनाएं इधर-उधर पहुंचा रहे थे। अब पुलिस इसकी जांच भी कर रही है कि आखिर ये लोग कौन थे, जो फरारी के दौरान आरोपी पिता और बेटे के बीच संवाद में मददगार बने हुए थे।

पर्चियों के जरिए पहुंचा रहे थे अपनी बात
मामले में खबरियों की भूमिका की बात सामने आने पर जब पुलिस ने इसे और खंगाला तो कई और बातें भी निकलीं। हिंसा के बाद 18 दिन तक मलिक और 21 दिन तक मोईद फरार रहे।

सूत्रों के मुताबिक, शुरुआत के 18 दिन तक कई बार ऐसा भी हुआ कि दोनों के बीच सूचनाओं का आदान-प्रदान चिह्वी और पर्चियों के जरिए हुआ। हालांकि पुलिस इसकी जांच कर रही है।

अब्दुल मलिक और अब्दुल मोईद दोनों हमारी गिरफ्त में हैं। मलिक से रिमांड पर पूछताछ जारी है और मोईद से भी जल्द की जाएगी। हर पहलू से जांच कर पता लगाया जाएगा कि आखिर इनके मददगार कौन थे। फिलहाल जांच जारी है। 
पीएन मीणा, एसएसपी, नैनीताल

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें