ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडहल्द्वानी में सांप्रदायिक दंगे की भी कोशिश! DM ने बताया- रात में क्या हुआ था ऐसा

हल्द्वानी में सांप्रदायिक दंगे की भी कोशिश! DM ने बताया- रात में क्या हुआ था ऐसा

उत्तराखंड के हल्द्वानी में गुरुवार शाम पथराव के बाद देर रात तक जमकर बवाल हुआ। अतिक्रमण हटाने गई टीम पर हमले के बाद थाने को भी फूंकने की कोशिश की गई। भीड़ मिश्रित इलाके में भी पहुंच गई थी।

हल्द्वानी में सांप्रदायिक दंगे की भी कोशिश! DM ने बताया- रात में क्या हुआ था ऐसा
Sudhir Jhaएएनआई,हल्द्वानीFri, 09 Feb 2024 11:23 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड के हल्द्वानी में गुरुवार शाम पथराव के बाद देर रात तक जमकर बवाल हुआ। अतिक्रमण हटाने गई टीम पर हमले के बाद थाने को भी फूंकने की कोशिश की गई। इतना ही नहीं भीड़ ने मिश्रित इलाके में घुसकर सांप्रदायिक हिंसा फैलाने की भी कोशिश की। हालांकि, प्रशासन ने समय रहते हालात पर काबू कर लिया और बनभूलपुरा में भड़की हिंसा की आग में पूरे शहर को जलने से बचा लिया। हिंसा में जहां सैकड़ों लोग जख्मी हुए हैं तो प्रशासन ने दो मौतों की पुष्टि की है। हालांकि, नैनीताल की डीएम ने यह साफ किया है कि हल्द्वानी में कहीं सांप्रदायिक हिंसा नहीं हुई है।

नैनीताल की डीएम वंदना सिंह ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी। डीएम ने बताया कि पहले भीड़ ने थाने को घेरकर पत्थरबाजी की और पेट्रोल बम फेंके। थाने में मौजूद पुलिस के जवानों और अफसरों की जान लेने की कोशिश की गई। किसी तरह जब यहां से भीड़ को हटाया गया तो उपद्रवी मिश्रित आबादी इलाके तक पहुंच गए थे। पुलिस के साथ ही वहां के निवासियों को आतंकित करने की कोशिश की गई। उन्होंने कहा कि अतिरिक्त सुरक्षाबलों की मदद से इलाके को बचाया गया। 

हल्द्वानी हिंसा पर DM का बड़ा दावा- अफसरों को जिंदा जलाने की कोशिश

डीएम ने कहा, 'थाने के बाद भीड़ ने गांधीनगर क्षेत्र को घेर लिया गया। यहां मिश्रित आबादी है। यहां सभी धर्मों के लोग रहते हैं, किसी एक विशेष समुदाय को नहीं। उस क्षेत्र को घेरकर आतंकित करने की कोशिश की गई, स्टेट मशीनरी को भी और वहां रहने वाले लोगों को भी। अतिरिक्त पुलिस बल और अर्धसैनिक बल भी पहुंच गए थे तो हमारी पहली प्राथमिकता थी कि हम गांधीनगर में किसी तरह की अराजकता ना होने दें। हमने वहां कोई जनहानि नहीं दी। बहुत अतिरिक्त इस्तेमाल किए बिना भीड़ को नियंत्रित किया। वनभूलपुरा से बड़ी संख्या में भीड़ निकल रही थी। पुलिस ने काफी धैर्य का परिचय दिया। पूरा प्रयास किया गया कि हल्द्वानी के मेन शहर को बचाया जाए। भीड़ को ना घुसने दिया जाए। प्रभावित क्षेत्र को सीमित रखा जाएगा। पूरी कोशिश थी कि अन्य किसी क्षेत्र में कोई घटना ना हो।'

डीएम ने कहा कि किसी को टारगेट करके कार्रवाई नहीं की गई थी बल्कि हाई कोर्ट के आदेश के मुताबिक पिछले 15-20 दिन से नगर निगम अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई कर रहा था। उन्होंने यह भी कहा कि जिन दो ढांचों पर ऐक्शन के बाद हिंसा हुई वे किसी धार्मिक स्थल के रूप में ना तो पंजीकृत हैं और ना ही उन्हें ऐसी मान्यता दी गई थी। वंदना सिंह ने कहा कि अतिक्रमण हटाए जाने के आधे घंटे बाद भीड़ ने हमला कर दिया। पुलिस और प्रशासन की टीमों को निशाना बनाया गया। उन्होंने संयम बरतने के लिए पुलिस की तारीफ भी की।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें