ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडबुजुर्ग से बच्चे तक, 'सजा' भुगत रहे सब; बवाल के बाद हल्द्वानी में क्या हाल

बुजुर्ग से बच्चे तक, 'सजा' भुगत रहे सब; बवाल के बाद हल्द्वानी में क्या हाल

Haldwani News: हल्द्वानी के वनभूलपुरा में बवाल के बाद शुक्रवार को शहर में कर्फ्यू लगा रहा। कर्फ्यू के चलते लोग घरों में कैद रहे। इसका असर रोजमर्रा की जरूरतों पर साफ दिखाई दिया। लोग बेहद परेशान हैं।

बुजुर्ग से बच्चे तक, 'सजा' भुगत रहे सब; बवाल के बाद हल्द्वानी में क्या हाल
Sudhir Jhaहिन्दुस्तान,हल्द्वानीSat, 10 Feb 2024 07:38 AM
ऐप पर पढ़ें

हल्द्वानी के वनभूलपुरा में बवाल के बाद शुक्रवार को शहर में कर्फ्यू लगा रहा। कर्फ्यू के चलते लोग घरों में कैद रहे। इसका असर रोजमर्रा की जरूरतों पर साफ दिखाई दिया। लोग सुबह से ही जरूरी चीजों के लिए भी तरसते रहे।

शुक्रवार सुबह जब लोग जागे तो देखा कि घर में अखबार तक नहीं पहुंचा था। सभी लोग शहर में हुए बवाल के बारे में जानकारी जुटना चाहते थे। इंटरनेट बंद होने से ऑनलाइन भी कुछ जानकारी नहीं मिल पाई। लोगों के घर जब आठ बजे तक अखबार नहीं पहुंचा तो उन्होंने हॉकर को फोन किया। दूध की गाड़ी भी समय पर नहीं पहुंचने से लोग परेशान रहे। लोग दुकानदारों व एक-दूसरे को फोन कर जरूरतों चीजों की सप्लाई कब तक सामान्य होगी इसके बारे में पूछते नजर आए। इस दौरान बाजार बंद होने से लोग काफी परेशान नजर आए। वनभूलपुरा क्षेत्र छावनी में तब्दील होने से यहां आवश्यक चीजों के लिए लोग तरसते रहे।

सब्जी के ठेले तक नहीं दिखे कर्फ्यू की घोषणा करते हुए प्रशासन ने कहा था कि शुक्रवार को केवल आवश्यक सेवाओं से संबंधित दुकानें खुली रहेंगी। मेडिकल स्टोर, किराना स्टोर की गिनी चुनी दुकानें ही खुली दिखाई दी। वहीं, ठेले आदि न चलने से लोगों को सब्जियां तक नहीं मिली।

कब तक घरों में कैद रहेंगे किसी को नहीं पता
क्षेत्र में कर्फ्यू लगने की वजह से बाजार पूरी तरह से बंद रहे। दुकानें बंद होने से लोगों को दूध, सब्जी, राशन से लेकर रोजमर्रा के जरूरत की चीजों के लिए परेशान होना पड़ रहा है। बवाल प्रभावित क्षेत्र में इसका खामियाजा मासूम से लेकर बुजुर्गों तक को भुगतना पड़ रहा है। कर्फ्यू कब तक रहेगा फिलहाल इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी जा रही है। बवाल की डर से सड़कों पर सन्नाटा पसरा है।

दिनभर सुनसान रहा मुखानी चौराहा
कर्फ्यू के चलते शहर का सबसे व्यस्ततम चौराहा मुखानी दिनभर खाली रहा। चौराहे पर दो से तीन पुलिसकर्मी ड्यूटी पर लगाए गए थे। सुबह आठ बजे से ही मुखानी चौराहे से कालूसिद्ध मंदिर की तरफ सड़क के बाईं ओर वाहनों का संचालन बंद रखा गया। कालाढूंगी या अन्य क्षेत्रों से आने वाले वाहनों को विवेकानंद अस्पताल वाली रोड से गुजारा गया। हालांकि वाहनों की संख्या न के बराबर दिखी।

प्रतिष्ठानों की सुरक्षा करने की अपील
बीते दिन हुए बवाल से व्यापारियों में डर का माहौल है। प्रांतीय नगर उद्योग व्यापार मंडल के प्रदेश संगठन प्रभारी वीरेंद्र गुप्ता और प्रदेश सचिव राजीव अग्रवाल ने जिला प्रशासन से अपने प्रतिष्ठानों की सुरक्षा मांगी है। उन्होंने प्रशासन से निवेदन किया की कर्फ्यू के दौरान उनके प्रतिष्ठानों में सुरक्षा की कोई कमी नहीं रहे।

बाजार को जल्द खोलने की कवायद हो वर्मा
प्रांतीय उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के प्रदेश अध्यक्ष नवीन वर्मा ने प्रशासन से जल्द से जल्द बाजार को खोलने की मांग की है। उन्होंने कहा की हल्द्वानी बाजार का प्रभाव पूरे कुमाऊं मंडल पर पड़ता है और बंद बाजार से तरह-तरह की अफवाह उड़ती हैं। इसलिए जल्द से जल्द बाजार को खोलने की कवायद की जाने की जरूरी है। उन्होंने कहा की हल्द्वानी क्षेत्र में बाहरी लोगों की बढ़ती संख्या पर भी अंकुश लगाने के लिए कदम उठाने होंगे।

शांति व्यवस्था पर ध्यान
सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह ने कहा कि अभी प्रशासन का ध्यान क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाए रखने पर है। लोगों को जरूरी चीजें मुहैया हों इसके प्रयास किये जा रहे हैं। जैसे ही क्षेत्र में स्थिति सामान्य होगी सभी सेवाओं को बहाल कर दिया जाएगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें