DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चारधाम यात्रा के लिए तैयारियों में जुटे सरकारी महकमे,जानिए प्लान

यात्रा शुरू होने वाली है। शासन का हर महकमा यात्रियों को बेहतर सेवा देने की तैयारी करने में जुटा है। बदरीनाथ धाम और हेमकुंड साहिब यात्रा के प्रमुख पड़ावों पर तीर्थयात्रियों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं देने के लिए स्वास्थ्य विभाग सरकारी अस्पतालों में सुविधाएं देने की तैयारियों में लगा है। प्रमुख यात्रा पड़ाव जोशीमठ, कर्णप्रयाग, बदरीनाथ, पांडुकेश्वर और पीपलकोटी में स्थित सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में तीर्थयात्रियों को ईसीजी  की सुविधा दी जाएगी। जिससे उच्च हिमालयी क्षेत्र में प्रवेश करने से पहले तीर्थयात्री आवश्यक चिकित्सा सुविधा ले सकें। 

साथ ही चिकित्सालयों में रोटेशन पर मैदानी क्षेत्र के चिकित्सकों की तैनाती भी की जाएगी। बदरीनाथ धाम समुद्र तल से 10279  फीट और हेमकुंड साहिब 15225 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। उच्च हिमालयी क्षेत्र में होने के कारण इन धामों में ऑक्सीजन की मात्रा कम होती है, जिससे अधिक आयु के तीर्थयात्रियों का स्वास्थ्य बिगड़ जाता है। कई तीर्थयात्री हृदय गति रुक जाने से अकाल मौत के शिकार हो जाते हैं। तीर्थयात्रियों की सुविधा को देखते हुए इस बार स्वास्थ्य विभाग ने यात्रा पड़ावों के सरकारी अस्पतालों में ईसीजी की सुविधा देने का निर्णय लिया है। जिससे तीर्थयात्री यात्रा पड़ावों में ही स्वास्थ्य की जांच कर आवश्यक चिकित्सा सुविधा ले सकते हैं। 

 

पिछले 5 सालों में 80 यात्रियों की हृदय गति रुकने से हुई मौत 
गोपेश्वर। पिछले 5 सालों में बदरीनाथ धाम और हेमकुंड साहिब में लगभग 80 तीर्थयात्रियों की मौत हुई है। जबकि केदारनाथ यात्रा मार्ग और गंगोत्री यमनोत्री यात्रा मार्ग पर अधिक यात्रियों की मौत हृदय गति रुकने से हुई। बदरीनाथ और हेमकुंड दोनों धामों के यात्रा पड़ावों पर स्थित सरकारी अस्पतालों में हृदय रोग विशेषज्ञ की तैनाती नहीं है।

 

चमोली के मुख्य चिकित्साधिकारी डा. अनूप कुमार डिमरी का कहना है कि यात्रा के प्रमुख पड़ाव सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जोशीमठ, कर्णप्रयाग, बदरीनाथ, पांडुकेश्वर और पीपलकोटी के अस्पतालों में ईसीजी मशीन स्थापित की जाएगी। साथ ही यात्रा शुरू होने से पहले अस्पतालों में आवश्यक दवाइयों का भंडारण किया जाएगा। तीर्थयात्रियों के स्वास्थ्य की जांच के लिए पंद्रह-पंद्रह दिनों में रोटेशन पर मैदानी क्षेत्र से डाक्टर स्वास्थ्य देने के लिये यात्रा पडाव अस्पतालों में आएंगे।     
डा. अनूप कुमार डिमरी, मुख्य चिकित्साधिकारी चमोली
 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:government officials pull up socks for char dham yatra slated to commence in month in uttarakhand