DA Image
22 सितम्बर, 2020|9:33|IST

अगली स्टोरी

कोरोना की लड़ाई के बीच चिकित्सकों ने काला फीता बांध जताया आक्रोश, सामूहिक इस्तीफा देने की चेतावनी

प्रांतीय चिकित्सा स्वास्थ्य सेवा संघ उत्तराखंड के आवाहन पर मंगलवार को दून जिले के साथ ही प्रदेश के अन्य जिलों में चिकित्सकों ने अपनी मांगें पूरी नहीं होने पर काला फीता बांधकर विरोध प्रकट किया। कुछ जिलों में सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की गई। पदाधिकारियों ने जल्द सरकार के स्तर से ठोस कदम नहीं उठाने पर सामूहिक रूप से इस्तीफा देने की चेतावनी दी है। संगठन के अध्यक्ष डॉ नरेश सिंह नपलच्याल ने बताया कि कोरोना को नियंत्रित करने व मरीजों का इलाज करने में चिकित्सक दिन रात काम कर रहे हैं।

ऐसे में उनकी मांगें पूरी नहीं हुई तो आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ेगा। महामंत्री डॉ मनोज वर्मा ने बताया कि हाल ही प्रांतीय चिकित्सा स्वास्थ्य सेवा संघ के संज्ञान में यह बात आई है कि जसपुर के स्थानीय विधायक चिकित्सा अधीक्षक को आए दिन धमकी देकर उनका उत्पीड़न कर रहे हैं,उन्होंने कहा कि ऐसे माहौल में चिकित्साधिकारियों, डॉक्टरों को काम करने में बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। सभी ने विधायक की सदस्यता समाप्त करने और अन्य मांगों को लेकर ठोस कदम उठाने की मांग की है। 

यह हैं मांगें 
- चिकित्सकों की वेतन कटौती का निर्णय वापस लिया जाए। 
- कोरोना नियंत्रण में डयूटी कर रहे चिकित्सकों को जोखिम भत्ता व प्रोत्साहन राशी दी जाए। 
- अस्पतालों में अनावश्यक रूप से प्रशासनिक हस्तक्षेप बंद किया जाए। 

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:government doctors under banner of provincial medical health services association protested during corona period uttarakhand