ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडगंगा घाटों में ‘आस्था’ की डुबकी को नहीं जल, UP में सिंचाई का भी खड़ा हुआ संकट; कब मिलेगी राहत?

गंगा घाटों में ‘आस्था’ की डुबकी को नहीं जल, UP में सिंचाई का भी खड़ा हुआ संकट; कब मिलेगी राहत?

हरिद्वार के गंगा घाट जलविहीन हो गए। भीमगोड़ा बैराज पर भी जल की मात्रा कम हो गई। हरकी पैड़ी पर जल की मात्रा कम होने के कारण गंगा स्नान करने पहुंचे श्रद्धालुओं को मायूस होना पड़ा।

गंगा घाटों में ‘आस्था’ की डुबकी को नहीं जल, UP में सिंचाई का भी खड़ा हुआ संकट; कब मिलेगी राहत?
Himanshu Kumar Lallहरिद्वार, हिन्दुस्तानTue, 11 Jun 2024 12:15 PM
ऐप पर पढ़ें

UP-यूपी, दिल्ली-एनसीआर समेत अन्य पड़ोसी राज्यों से हरिद्वार के हरकी पैड़ी पर गंगा स्नान करने वाले तीर्थ यात्रियों के लिए बहुत बड़ी खबर है। हरकी पैड़ी पर पर्याप्त गंगा जल नहीं मिलने से श्रद्धालुओं को मायूस होना पड़ा। तो दूसरी ओर, पानी की कमी से यूपी के सहित अन्य राज्यों में सिंचाई के लिए संकट खड़ा हो गया है। 

ऋषिकेश के पशु लोक बैराज से सोमवार को गंगा में जल की निकासी नहीं की गई। इस कारण हरकी पैड़ी पर जल चार फीट तक कम हो गया। साथ ही हरिद्वार के गंगा घाट जलविहीन हो गए। भीमगोड़ा बैराज पर भी जल की मात्रा कम हो गई। हरकी पैड़ी पर जल की मात्रा कम होने के कारण गंगा स्नान करने पहुंचे श्रद्धालुओं को मायूस होना पड़ा।

सोमवार को हरिद्वार में गंगा का जलस्तर घट गया। इस कारण गंगनहर में भी जल की मात्रा कम हो गई। हरिद्वार में गंगनहर की अधिकतम क्षमता 13000 क्यूसेक जलस्तर है। समय दिनों में जलस्तर आठ हजार क्यूसेक बना रहता है। सोमवार को जल की मात्रा कम होने के कारण गंगनहर का जलस्तर 4000 क्यूसेक रह गया।

साथ ही भीमगोड़ा बैराज पर भी पौंड का जलस्तर घट गया। बैराज पर जलस्तर 290.20 मीटर अनिवार्य रूप से रखना पड़ता है लेकिन सोमवार को पौंड का जलस्तर 289 मीटर रह गया। पौंड का जलस्तर 1.20 मीटर घट गया।

वहीं, हरकी पैड़ी पर भी जल की मात्रा कम हो गई। समान्य दिनों में हरकी पैड़ी पर चार फीट जलस्तर बना रहता है।लेकिन सोमवार को जलस्तर एक फीट रह गया। हरिद्वार में पानी की मात्रा कम होने के बाद श्रद्धालुओं को मायूस होना पड़ा। श्रद्धालु हरकी पैड़ी पर गंगा ने डुबकी लगाने से वंचित रहे। 

गंगा घाटों में मंगलवार को मिला पर्याप्त गंगाजल 
हरिद्वार के हरकी पैड़ी समेत अन्य गंगा घाटों में यात्रियों ने राहत की सांस ली है। गंगा घाटों में मंगलवार सुबह पर्याप्त जल मिला है। घाटों में पर्याप्त गंगाजल मिलने से यात्रियों ने राहत की सांस ली है। तपती गर्मी के बीच लोगों ने गंगा घाटों में आस्था की डुबकी लगाई है।

सिंचाई को नहीं मिला पानी
हरिद्वार में गंगा और गंगनहर का जलस्तर घटने के बाद निचले इलाकों में जल की निकासी नहीं हो सकी। इस कारण उत्तर प्रदेश के निचले इलाकों में सिंचाई के लिए रोजाना पांच हजार क्यूसेक अतिरिक्त जल की मांग सोमवार को पूरी नहीं हो सकी। निचले इलाकों के किसानों को खेतों की सिंचाई के लिए उपलब्ध नहीं हो सका।

चीला पॉवर हाउस को किया गया शुरू
पशुलोक बैराज के अधिशासी अभियंता राजकुमार ने बताया की सुबह 10 बजे चीला पॉवर हाउस को शुरू करने के लिए पानी को रोका गया था। शाम को पांच बजे पॉवर हाउस शुरू होने के बाद जल की निकासी शुरू की गई है। शाम छह बजे तक हरिद्वार में जल पहुंचना शुरू हो गया।

पशुलोक बैराज से पानी की निकासी नहीं होने के कारण हरिद्वार में गंगा और गंगनहर का जलस्तर घट गया। इस कारण हरकी पैड़ी पर भी जलस्तर कम हो गया। पशुलोक बैराज से शाम को पानी की निकासी शुरू होने के बाद देर शाम तक गंगा और गंगनहर का जलस्तर सामान्य हो सका। भीमगोड़ा बैराज पर पौंड का स्तर सामान्य होने के बाद निचले इलाकों में पानी की निकासी की गई।
हरीश कुमार, जेई भीमगोड़ा बैराज