former chief minister harish rawat says expelled leaders are foundation base of congress party - कांग्रेस पार्टी से निष्काषित नेता बुनियाद के पत्थर: पूर्व सीएम हरीश रावत DA Image
10 दिसंबर, 2019|11:07|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस पार्टी से निष्काषित नेता बुनियाद के पत्थर: पूर्व सीएम हरीश रावत

निकाय चुनाव में पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते हटाए गए 80 नेताओं में से कई को राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने बुनियाद का पत्थर बताया। हरीश के इस बयान ने साफ कर दिया है कि निष्कासित नेताओं को लेकर पार्टी के भीतर सुलगी आग अभी बुझी नहीं है। पार्टी में इस बढ़ती खेमेबाजी ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बूथ स्तर पर पार्टी को मजबूत करने की तैयारियों को झटका दिया है।  पार्टी हाईकमान ने जहां बूथ स्तर पर पार्टी को मजबूत किए जाने को एक पूरा प्लान दिया है। उस प्लान को पार्टी बाकायदा एक अभियान की शक्ल देने की भी तैयारी कर चुकी है, लेकिन सुर्खियां अभी भी पार्टी के भीतर की गुटबाजी, खींचतान ही बनी हुई हैं। ऐसे में कैसे राज्य में कांग्रेस लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटेगी, इस पर सवाल खड़े हो रहे हैं। पार्टी के भीतर अपना वर्चस्व बढ़ाने, एक दूसरे के गुटों को कमजोर करने की सियासत लगातार बढ़ती जा रही है। निकाय चुनाव के दौरान बाहर किए गए पार्टी नेताओं के विवाद ने आग में घी का काम किया है। मंगलवार को कांग्रेस भवन में मीडिया ने फिर खजान पांडे के निष्कासन पर हरीश रावत को कुरेदा, तो उन्होंने बाहर किए गए लोगों को पार्टी की बुनियाद का पत्थर बताने में जरा भी देरी नहीं की। उन्होंने दूसरे गुट पर सवाल उठाते हुए साफ इशारा किया कि बुनियाद के पत्थरों को हिलाया गया, तो ये पार्टी के हित में नहीं होगा। उन्होंने इससे आगे बढ़ते हुए कहा कि पार्टी की बुनियाद के इन पत्थरों के लिए उनका दिल हमेशा धड़कता रहेगा। 

पार्टी में अनुशासन समिति है। ये मामले समिति में जाने चाहिए। ध्यान सिर्फ इसका रखा जाए कि पार्टी के बुनियाद के पत्थरों को न हिलाया जाए। पार्टी में कहीं कोई गुटबाजी नहीं है। पार्टी हर सीट को जीतेगी। मुझे गुटबाजी नहीं, बल्कि आलू, पिंडालू के गुटके ही पसंद हैं। 
हरीश रावत, राष्ट्रीय महासचिव

पार्टी में कहीं कोई गुटबाजी नहीं है। बड़ा परिवार है, तो कई बातें सामने आ जाती हैं, लेकिन ये कोई खींचतान, धड़ेबाजी जैसा विषय नहीं है। पार्टी के सभी नेता लोकसभा चुनाव की तैयारी में पूरी तरह जुट गए हैं। सभी पांचों सीटें जीती जाएंगी।
प्रीतम सिंह, प्रदेश अध्यक्ष कांग्रेस

इंदिरा भविष्य के लिए बता चुकी हैं खतरा
नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने खजान पांडे समेत तमाम दूसरे लोगों को बाहर किए जाने के मुद्दे को सीधे तौर पर अनुशासन से जोड़ा। उन्होंने साफ किया था कि अनुशासहीनता, पार्टी को कमजोर करने वालों को यदि संरक्षण दिया जाएगा, तो ये भविष्य में न तो पार्टी और न ही किसी और के लिए भी ठीक नहीं होगा।


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:former chief minister harish rawat says expelled leaders are foundation base of congress party