former chief minister bc khanduri son manish khanduri refuses to comment for next two day during lok sabha election in uttarakhand - उत्तराखंड के पूर्व CM के बेटे मनीष खंडूरी थाम सकते हैं कांग्रेस का दामन DA Image
21 नबम्बर, 2019|11:01|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तराखंड के पूर्व CM के बेटे मनीष खंडूरी थाम सकते हैं कांग्रेस का दामन

पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खंडूड़ी के बेटे मनीष खंडूड़ी कांग्रेस का हाथ थाम सकते हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की रैली से पहले इस मामले में फैसला ले लिए जाने की संभावना है। ऐसा होने की सूरत में खंडूड़ी पौड़ी से कांग्रेस के उम्मीदवार भी हो सकते हैं।

मनीष खंडूड़ी ने ‘हिन्दुस्तान’ से बातचीत में कहा है कि अगले दो दिन वे इस मामले में कुछ भी नहीं कहेंगे। इससे जाहिर है कि उनकी कांग्रेस से बातचीत अंतिम चरण में है। दूसरी ओर, मनीष खंडूड़ी के कांग्रेस में शामिल होने की चर्चाओं के बीच भाजपा ने पल्ला झाड़ते हुए कहा है कि भाजपा का मनीष से कोई वास्ता नहीं है। भाजपा प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा कि मुझे खंडूड़ी जी के बेटे के बारे में कोई जानकारी नहीं है। 

उन्होंने कहा कि मनीष खंडूड़ी बीजेपी की सदस्य नहीं हैं और न वो कोई नेता हैं। उन्हें बीजेपी का हिस्सा कैसे कहा जा सकता है। खंडूड़ी के बेटे के जाने से पार्टी को नुकसान की संभावना पूछने पर भट्ट ने कहा कि नुकसान का सवाल ही नहीं है। अभी कोई गया ही नहीं, इसलिए नुकसान कैसे कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस इस तरह का झूठा प्रचार कर रही है। हमारा कोई नेता तो क्या कार्यकर्ता भी कांग्रेस में शामिल नहीं हो रहा है।  उधर, भाजपा के राज्य लोकसभा चुनाव प्रभारी थावरचंद गहलोत ने भी खंडूड़ी के बेटे मनीष खंडूड़ी के कांग्रेस में जाने की चर्चाओं पर कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा का कोई भी नेता कांग्रेस में शामिल नहीं हो रहा है।

Lok Sabha Election 2019: खंडूड़ी की इच्छा से ही दिया जाएगा टिकट : गहलो

गहलोत ने कोठियाल से की गुफ्तगू

भाजपा के उत्तराखंड लोकसभा चुनाव प्रभारी थावरचंद गहलोत की कर्नल (रिटायर) अजय कोठियाल से हुई लंबी गुफ्तगू के बाद गढ़वाल संसदीय सीट पर सियासी पारा चढ़ गया है। माना जा रहा है कि कर्नल कोठियाल की भाजपा में जल्द ज्वाइनिंग हो सकती है। सूत्रों ने बताया कि मंगलवार रात को गहलोत की तरफ से कर्नल कोठियाल को मुलाकात के लिए न्योता दिया गया। बीजापुर रेस्ट हाउस में हुई इस भेंट के पीछे के कई निहितार्थ निकाले जा रहे हैं। करीब आठ-नौ मिनट की यह मुलाकात बताई जा रही है, जिसमें कर्नल कोठियाल ने अपनी सैन्य पृष्ठभूमि से लेकर केदारनाथ पुनर्निर्माण और यूथ फाउंडेशन का जिक्र किया।

गहलोत ने उन्हें बताया कि वे उत्तराखंड में दो दिन के प्रवास पर हैं और बुद्धिजीवियों, सैन्य पृष्ठ भूमि के अफसरों से संपर्क में हैं। कोठियाल गढ़वाल संसदीय सीट से चुनाव तैयारियों में जुटे हैं। उनकी इस सक्रियता को देखते हुए भाजपा पहले से उनके संपर्क में है, लेकिन अभी तक कोई स्पष्ट बात नहीं बन पाई है। वर्ष 2015 में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से हरिद्वार में कोठियाल की सबसे पहले मुलाकात हुई थी। कर्नल कोठियाल नेहरू पर्वतारोहण संस्थान के प्रधानाचार्य पद से अगस्त,18 में रिटायरमेंट के बाद यूथ फाउंडेशन संस्था के जरिए गढ़वाल में युवाओं को भर्ती के लिए तैयार कर रहे हैं। विभिन्न शहरों में ऐसे उनके आठ कैंप संचालित हो रहे हैं। पूर्व में वे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से भी मुलाकात कर चुके हैं। कोठियाल की इस मुलाकात के बाद गढ़वाल सीट पर सियासी पारा गरम होता जा रहा है।

Lok Sabha Election 2019: उत्तराखंड भाजपा पैनल में पांचों सांसदों के नाम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:former chief minister bc khanduri son manish khanduri refuses to comment for next two day during lok sabha election in uttarakhand