ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडएक्सट्रा प्रीमियम पेट्रोल के नाम पर ग्राहकों से सरेआम मनमानी, इतने रुपयों का होता है खेल

एक्सट्रा प्रीमियम पेट्रोल के नाम पर ग्राहकों से सरेआम मनमानी, इतने रुपयों का होता है खेल

इनमें से कइयों पर ऐसे ही मनमानी चल रही है। ग्राहक सामान्य पेट्रोल डलवाने जाता है और पंपकर्मी एक्सट्रा प्रीमियम तेल डाल देते हैं। ग्राहक तेल डलवाते समय मीटर का जीरो तो चैक करता है।

एक्सट्रा प्रीमियम पेट्रोल के नाम पर ग्राहकों से सरेआम मनमानी, इतने रुपयों का होता है खेल
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानMon, 27 Nov 2023 10:13 AM
ऐप पर पढ़ें

पेट्रोल पंप संचालक एक्सट्रा प्रीमियम पेट्रोल के नाम पर ग्राहकों से मनमानी कर रहे हैं। ग्राहकों से पूछे बिना वाहनों में 101.78 रुपये लीटर वाला एक्सट्रा प्रीमियम पेट्रोल डाला जा रहा है। सामान्य तेल से इसकी कीमत 06 छह रुपये ज्यादा है। देहरादून में विभिन्न तेल कंपनियों के 80 से 100 पेट्रोल पंप संचालित हो रहे हैं।

इनमें से कइयों पर ऐसे ही मनमानी चल रही है। ग्राहक सामान्य पेट्रोल डलवाने जाता है और पंपकर्मी एक्सट्रा प्रीमियम तेल डाल देते हैं। ग्राहक तेल डलवाते समय मीटर का जीरो तो चैक करता है, लेकिन यह ध्यान नहीं देते की वाहन में सामान्य तेल डाला गया है या प्रीमियम।

देहरादून में रविवार को रेसकोर्स, हरिद्वार बाईपास, राजपुर रोड, सहस्रधारा रोड, रायपुर रोड आदि के पेट्रोल पंपों पर यही स्थिति देखने को मिली। बता दें सामान्य पेट्रोल की कीमत 95.28 रुपये लीटर है, जबकि एक्सट्रा प्रीमियम तेल 101.78 रुपये लीटर है। इसी प्रकार सामान्य डीजल 90.29 रुपये लीटर है, जबकि एक्सट्रा प्रीमियम डीजल 94.38 है।

एक्सट्रा प्रीमियम को लेकर दावा
एक्सट्रा प्रीमियम तेल को लेकर तेल कंपनियों का दावा है कि इससे वाहन का माइलेज बढ़ जाता है। यह तेल वाहन के फ्यूल इंजेक्टर को क्लीन रखता है। इससे पेट्रोल की फायरिंग पावर बढ़ जाती है। वाहन का पिकअप और मायलेज दोनों बढ़ जाता है।

कई बार विवाद की स्थिति
कई बार पेट्रोल पंपों की मनमानी को ग्राहक पकड़ लेते हैं। जिसे लेकर पंप संचालकों के साथ उनकी बहस भी हो जाती है। पंप संचालकों का तर्क होता है कि ग्राहक को पहले बताना चाहिए कि उन्हें कौन सा पेट्रोल डलवाना है। जबकि नियमानुसार पंपों को तेल डलवाने से पहले ग्राहकों को पूछना चाहिए।

आखिर क्या है खेल
दरअसल, सामान्य तेल की तुलना में तेल कंपनियों को एक्सट्रा प्रीमियम तेल से मुनाफा ज्यादा मिलता है। ऐसे में कंपनियों के सेल्स अफसर पंप संचालकों को एक्ट्रा प्रीमियम तेल की खपत का टारगेट देते हैं। जिसे पंपों को पूरा करना पड़ता है, लिहाजा पंप भी बिना बताए वाहनों में एक्स्ट्रा प्रीमियम तेल डाल रहे हैं। इसमें पंपों का लाभांश भी ज्यादा मिलता है।

विभाग की ओर से इस बाबत पूर्व में भी पंप संचालकों को निर्देशित किया गया था। पंपकर्मी बिना पूछे एक्सट्रा प्रीमियम तेल नहीं डाल सकते। शिकायत मिलने पर पंप संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। विभागीय स्तर से भी इसकी जांच करवाई जाएगी।
कैलाश कुमार अग्रवाल, जिला पूर्ति अधिकारी
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें