DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्मचारियों को हड़ताल में शामिल नहीं होने का देना होगा ‘शपथ पत्र’

सरकार ने राजकीय कर्मचारियों, शिक्षकों और आउटसोर्स कर्मचारियों के लिए नई व्यवस्था लागू कर दी है। उन्हें हड़ताल में शामिल न होने का शपथ पत्र देना होगा। इसी एवज में सरकार ने उनके पूर्व के हड़ताल अवधि को उपार्जित अवकाश में तब्दील किया है।  उत्तराखंड कार्मिक-शिक्षक, आउटसोर्स संयुक्त मोर्चा ने लंबित मांगों के हल को लेकर अगस्त माह में तीन दिन का कार्य बहिष्कार किया था। जनवरी 2013 में सरकार ने फैसला लिया था जो कर्मचारी-शिक्षक हड़ताल करेंगे, उन्हें वेतन जारी नहीं किया जाएगा। कार्मिक विभाग ने इस आदेश में संशोधन करते हुए पूर्व में हड़ताल अवधि के दिनों को उपार्जित अवकाश में शामिल किया है। अपर सचिव (कार्मिक) एसएस वल्दिया के हस्ताक्षर से जारी आदेश में साफ है कि कर्मचारी-शिक्षकों और आउटसोर्स कर्मचारियों को  शपथ पत्र देना होगा कि वे भविष्य में वे हड़ताल में शामिल नहीं होंगे। अब सरकार ने नो वर्क नो पे को भी सख्ती से लागू करने का भी निर्णय लिया है। 

कर्मचारी मोर्चा ने सरकार का आभार जताया 
उत्तराखंड कर्मचारी शिक्षक आउटसोर्स मोर्चा ने कार्यबहिष्कार आंदोलन के दौरान का अवकाश स्वीकृत होने पर सरकार का आभार जताया है। मोर्चा की एक बैठक में कर्मचारी नेताओं ने एसीपी की पूर्व व्यवस्था राज्य कर्मियों के लिए 10, 16 व 26 वर्ष व बिजली कर्मियों के लिए 9, 14 व 19 वर्ष की व्यवस्था लागू की करने की मांग की है। बैठक में मुख्य संयोजक प्रहलाद सिंह के साथ ही इंसारुल हक, नंदकिशोर त्रिपाठी, राकेश प्रसाद ममगाईं, शक्तिप्रसाद भट्ट, अरुण पांडे, ओमवीर सिंह, एसपी सेमवाल, सीपी सुयाल, गुड्डी मटूडा, अंजू बड़ोला, रेनू लांबा, राकेश शर्मा, बनवारी सिंह रावत, एसपी राणाकोटी, संदीप शर्मा, गिरिजानंदन सेमवाल, रामचंद्र रतूड़ी, दिनेश पंत, हरदेव रावत, रविंद्र भगत, गजेंद्र कपिल, मौजूद रहे। 

20 दिसंबर को परीक्षा आयोजित न करे गढ़वाल विवि 
प्रदेश में उच्च शिक्षा से संबंधित विभिन्न शिक्षक संघों ने सचिवालय कूच को लेकर तैयारियां पूरी कर ली हैं। शिक्षकों ने सातवें वेतनमान की मांग को लेकर 20 दिसंबर को सचिवालय कूच का  निर्णय लिया है। शिक्षकों ने गढ़वाल विश्वविद्यालय से इस दिन कोई पेपर आयोजित न करने की अपील की है। दिसंबर के दूसरे हफ्ते से गढ़वाल विश्वविद्यायल सेमेस्टर की परीक्षाएं आयोजित करने जा रहा है, लेकिन विवि ने अब तक इसके लिए परीक्षा कार्यक्रम जारी नहीं किया है। ग्रुटा महामंत्री डा. डीके त्यागी ने बताया कि शुक्रवार को शिक्षक संघों ने सर्वसहमति से गढ़वाल विवि को पत्र लिख कर 20 दिसंबर को कोई परीक्षा आयोजित न करने की अपील की है।  

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:employees to submit affidavit for not participating in strike