ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंड20 दिन कीचड़ में करते रहे हाथी का इलाज, फिर हुई दर्दनाक मौत

20 दिन कीचड़ में करते रहे हाथी का इलाज, फिर हुई दर्दनाक मौत

वन विभाग के कर्मचारी से लेकर बड़े अफसर तक वन्यजीवों को लेकर कितने संवेदनशील हैं, ये लालकुआं में एक हाथी की मौत से सामने आ गया। ट्रेन की टक्कर से घायल इस हाथी का विभाग बीस दिन तक कीचड़ में इलाज किया।

20 दिन कीचड़ में करते रहे हाथी का इलाज, फिर हुई दर्दनाक मौत
Himanshu Kumar Lallदेहरादून। ओमप्रकाश सतीSun, 10 Dec 2023 10:36 AM
ऐप पर पढ़ें

वन विभाग के कर्मचारी से लेकर बड़े अफसर तक वन्यजीवों को लेकर कितने संवेदनशील हैं, ये लालकुआं में एक हाथी की मौत से सामने आ गया। ट्रेन की टक्कर से घायल इस हाथी का विभाग बीस दिन तक कीचड़ में ही इलाज करता रहा। कीचड़ में ही उसे ड्रिप तक चढ़ाई गई। आखिरकार उसने दम तोड़ दिया।

हैरानी की बात है कि वन मुख्यालय के बड़े अफसर तक मौके पर गए, लेकिन हाथी को रेस्क्यू सेंटर या अस्पताल ले जाकर इलाज की जहमत किसी ने नहीं उठायी। करीब बीस दिन पहले लालकुआं के पास एक हाथी ट्रेन से टकराकर घायल हो गया था। उसके पैर में चोट लगी थी, जिस कारण वह चल नहीं पा रहा था।

पैर सख्त जमीन पर ना रख पाने के कारण वह पास ही एक दलदली जमीन पर चला गया और कीचड़ में फंस गया। सूचना पर वन विभाग की टीम वहां पहुंची। वहीं पर हाथी का इलाज शुरू किया गया।
हैरानी की बात है कि बीस दिन तक वहीं उसका इलाज किया जाता रहा।

ना तो उसे आसपास के किसी रेस्क्यू सेंटर और ना ही किसी अस्पताल में ले जाने की कोशिश की गई। 20 दिन तक संघर्ष के बाद 07 दिसंबर को उसकी मौत हो गई 

हाथी के पैर में चोट थी, जिस कारण वह दलदली जमीन पर गया। उसे वहां से निकाल पाना संभव नहीं था। उसको वहीं बेहतर से बेहतर इलाज दिया गया, लेकिन उसे हम बचा नहीं पाए। मैं खुद मौके पर गया था। विभाग ने उसे बचाने की पूरी कोशिश की थी। हालांकि मामले को दिखवाया जा रहा है।
डॉ. समीर सिन्हा, चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें