DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंडभारी बारिश के बाद चुनावी आपदा, भाजपा-कांग्रेस ने जमकर लगाए एक-दूसरे पर आरोप

भारी बारिश के बाद चुनावी आपदा, भाजपा-कांग्रेस ने जमकर लगाए एक-दूसरे पर आरोप

हिन्दुस्तान टीम, देहरादूनHimanshu Kumar Lall
Tue, 26 Oct 2021 10:42 AM
भारी बारिश के बाद चुनावी आपदा, भाजपा-कांग्रेस ने जमकर लगाए एक-दूसरे पर आरोप

उत्तराखंड में हाल में आई आपदा के बाद राजनीतिक दलों के बीच राहत को लेकर घमासान छिड़ गया है। कांग्रेस ने सरकार को चेतावनी दी है कि यदि 27 अक्तूबर की शाम तक आपदा पीड़ितों को राहत नहीं मिली तो 28 से आंदोलन छेड़ दिया जाएगा। दूसरी ओर भाजपा ने कांग्रेस पर आपदा के बीच भी राजनीति करने का आरोप लगाया।

कांग्रेस:आपदा पीड़ितों को राहत न मिली तो 28 से आंदोलन
कांग्रेस ने राज्य सरकार को चेतावनी दी है कि 27 अक्तूबर की शाम तक आपदा प्रभावितों को राहत नहीं मिली तो 28 से आंदोलन छेड़ दिया जाएगा। इसके तहत प्रदेशभर जगह उपवास कार्यक्रम किए जाएंगे और उसी दिन आंदोलन की आगे की रणनीति तय होगी। कांग्रेस ने सरकार को आपदा राहत मानकों में संशोधन का भी सुझाव दिया। साथ ही केंद्र सरकार से उत्तराखंड को तत्काल एक हजार करोड़ रुपये की मदद जारी करने की मांग की।

आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर लौटे पूर्व सीएम हरीश रावत और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि आपदा के दौरान सरकार कहीं पर भी पीड़ितों के साथ खड़ी नजर नहीं आई। हरीश रावत ने कहा कि भाजपा के विधायक खुद आपदा प्रबंधन मंत्री को खरीखोटी सुना रहे हैं। कार्यकर्ता भी केंद्रीय मंत्री से नाराजगी जाहिर कर रहे हैं।

रावत ने कहा कि कांग्रेस ने हालात देखने के बाद सरकार को अल्टीमेटम दिया है कि यदि 27 तारीख तक आपदा पीड़ितों को आर्थिक सहायता के साथ पुनर्वास, रहने-खाने की ठोस व्यवस्था नहीं हुई तो 28 अक्तूबर से आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा। पूर्व सीएम हरीश रावत ने आपदा प्रबंधन की हकीकत तो भाजपा के विधायक-कार्यकर्ता खुद ही खोल रहे हैं।

राज्य को कम से कम एक हजार करोड़ रुपये की सहायता दी जानी चाहिए। कांग्रेस सरकार में आने पर आपदा राहत के मानकों को जनहित में संशोधित करेगी।प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल कहते हैं कि मुझे लगता है कि भाजपाजानकर आपदा पीडि़तों को मदद देने में देर कर रही है। भाजपा चुनावी लाभ के लिए राहत कार्य को उत्सव का रूप देना चाहती है। कांग्रेस आपदा प्रभावितों की अनदेखी बर्दाश्त नहीं करेगी। 

भाजपा : आपदा में भी राजनीति करने में लगे हैं कांग्रेस नेता 
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि आपदा की सटीक जानकारी मिलने और राहत कार्य समय पर शुरू करने से बड़ी जनहानि रोकी जा सकी। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस के नेता इस मुश्किल समय भी सिर्फ और सिर्फ राजनीति करने में लगे हुए हैं। कौशिक ने कहा कि कांग्रेस आपदा में भी राजनीति के अवसर ढूंढ रही है। उन्होंने कहा कि 17 अक्तूबर को सरकार आपदा को लेकर अलर्ट मोड पर थी।

यहां तक की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह भी पहले ही सक्रिय हो गए थे। सेना, एयर फोर्स के विमानों के साथ ही एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और पुलिस ने हजारों लोगों को रेस्क्यू किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी लगातार सभी जिलाधिकरियों से संवाद बनाते हुए लोगों के बीच रहे। जिन लोगों को रेस्क्यू किया गया, उनके लिए सभी व्यवस्थाएं की गईं।

सरकार आपदा आने से पहले ही सचेत थी और इसी कारण जन हानि के आंकड़ों को अधिक नहीं बढ़ने दिया। बकौल कौशिक, मैं खुद आपदा प्रभावित क्षेत्र रुद्रपुर और नैनीताल के कई गांवों में गया। यहां लोग परेशान जरूर थे लेकिन राहत कार्यों से उनके चेहरे पर संतोष के भाव हैं। कौशिक ने कहा कि भाजपा ने सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए।

इसके बाद पार्टी पदाधिकारी और कार्यकर्ता भी आपदा प्रभावित इलाकों में सेवा कार्यों में जुटे रहे। साथ ही भाजपा देहरादून और हल्द्वानी में अपने कॉलसेंटरों के माध्यम से जरूरतमंदों को राहत सामग्री मुहैया करा रही है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि दूसरी ओर कांग्रेस के नेता अपनी फितरत के अनुसार, हर बार की तरह इस बार भी आपदा में राजनीति करने से बाज नहीं आ रहे हैं। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें