DA Image
3 मार्च, 2021|9:34|IST

अगली स्टोरी

प्राइवेट स्कूलों में फीस को लेकर सरकार का बड़ा ऐलान, पढ़िए पूरी खबर

कोरोना की वजह से संकट में फंसे अभिभावकों से फीस किस्तों में भी ली जा सकेगी। सरकार ने प्राइवेट स्कूलों को कक्षा 10 और 12 वीं के छात्रों से पूरी फीस लेने की छूट के साथ यह स्वैच्छिक शर्त भी जोड़ी है। सरकार ने कहा कि जो अभिभावक एक साथ फीस देने में सक्षम नहीं है, उनसे किस्त में फीस लेने पर स्कूल सहानुभूतिपूर्व सकारात्मक निर्णय लेंगे। शुक्रवार फीस को लेकर सरकार ने विधिवत आदेश जारी किया। आपके अपने अखबार 'हिन्दुस्तान' दो रोज पहले ही इस पर प्रमुखता से रिपोर्ट प्रकाशित कर दी थी।

फीस को लेकर रेड रोज कांवेट स्कूल के केस के परिप्रेक्ष्य में हाईकोर्ट ने सरकार को कार्रवाई के लिए कहा था। शिक्षा सचिव आर मीनाक्षीसुंदरम ने बताया कि सरकार ने दो नवंबर से कक्षा 10 और 12 वीं को खोलने की अनुमति दे दी है। दो नवंबर से सरकारी, सहायताप्राप्त और प्राइवेट स्कूल छात्रों से पूरी फीस ले सकेंगे। लेकिन इससे पहले की अवधि की केवल ट्यूशन फीस ही ली जाएगी। यदि अभिभावक एकमुश्त रूप में फीस न दे पा रहे हो तो स्कूल प्रबंधन उन्हें किस्त की सुविधा देने पर भी विचार करे।

पांचवी कक्षा ऊपर सभी कक्षाओं को खोले सरकार: पीपीएसए
देहरादून।
 निजी स्कूल अब ज्यादा दिन तक शैक्षिक संस्थानों केा बंद रखने के पक्ष में नहीं है। प्रिंसीपल प्रोगेसिव स्कूल एसोसिएशन (पीपीएसए) के अध्यक्ष प्रेम कश्यप ने कहा कि कई राज्यों में स्कूल खुल चुके हैं। उम्मीद की जा रही है कि सेंट्रल स्कूल भी जल्द खुल जाएंगे। अब कोरोना का उतना असर नहीं रही। जब जनजीवन पटरी पर आ चुका है तो फिर स्कूल बंद क्यों? कश्यप ने कहा कि कक्षा पांचवीं से ऊपर की सभी कक्षाओं को शुरू कराया जाना चाहिए। जितने दिन छात्र स्कूल से दूर रहेंगे, उनका पढृाई का उतना ही नुकसान होगा।

पीपीएसए ने गृह परीक्षाओं में बिना परीक्षा लिए पास करने की तैयारी का विरोध किया। कहा कि छात्रों के भीतर प्रतिस्पर्धा की भावना प्रभावित होगी। भले सरकार परीक्षा का कुछ समय संशोधित कर लें लेकिन बिना परीक्षा पास करने की व्यवस्था लागू नहीं होनी चाहिए। अभिभावक संगठनों की फीस वसूली का विरोध करने पर पीपीएसएस ने हैरानी जताई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:education department secretary r meenakshi sundaram said 10th and12th class students give full fees other tuition fees uttarakhand parents can give school fees in installments