DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गैंगरेप पीड़िता को एडमिशन न देने वाले स्कूलों पर कार्रवाई का इंतजार

gang rape with minor by friends

पिछले माह जीआरडी वर्ल्ड स्कूल में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार पीड़ित छात्रा को एडमिशन नहीं देने वाले दून के स्कूलों पर शिक्षा विभाग ने कार्रवाई की बात कही थी, लेकिन एक माह बीत जाने के बाद मामला ठंडे बस्ते में जाता दिखाई दे रहा है। अब तक न तो ऐसे स्कूलों पर कार्रवाई हुई और न ही शिक्षा विभाग की ओर से पड़ताल की गई। 16 सितम्बर को भाऊवाला स्थित बोर्डिंग स्कूल में छात्रा के साथ गैंगरेप की बात सामने आई थी। शहर में हुई बड़ी घटना के बाद सीबीएसई ने स्कूल की मान्यता खत्म कर दी। साथ ही वहां के छात्रों को शिफ्ट कर दिया गया। तब पीड़ित छात्रा ने कई स्कूलों में एडमिशन को आवेदन किया, मगर उसे एडमिशन नहीं मिला। यह मामला शिक्षा विभाग के पास पहुंचा तो स्कूलों पर सख्ती दिखाते हुए कहा गया कि संवेदनशील मामले को लेकर स्कूल को भी पीड़िता का समर्थन करना चाहिए। इस बारे में मुख्य शिक्षा अधिकारी एसबी जोशी ने कहा था कि पीड़िता को एडमिशन नही देना गलत बात है। उन्होंने कहा कि शिकायत मिलने के बाद विभाग यह पता लगाने का प्रयास करेगा कि इस तरह के स्कूल कौन हैं, जिन्होंने एडमिशन देने से मना किया। सम्बंधित स्कूलों के खिलाफ विभागीय स्तर पर कार्रवाई की जाएगी।

किसने क्या कहा
छात्रा को एडमिशन ना देने के मामले में कार्रवाई सीबीएसई करेगा, क्योंकि स्कूल सीबीएसई से जुड़े हुए हैं। शिक्षा विभाग ने पूर्व में छात्रा को एडमिशन देने के लिए स्कूलों को निर्देश दिए थे, जिसमें कई स्कूल आगे भी आए। 
एसबी जोशी, मुख्य शिक्षा अधिकारी

शिक्षा विभाग छात्र और अभिभावकों की समस्या के प्रति गंभीर नही है। स्कूलों पर कार्रवाई नहीं होती। जांच के नाम पर खानापूर्ति हो रही है। विभाग को अभिभावक और छात्रों के विश्वास को बनाए रखने के लिए समय पर उचित कार्रवाई करनी चाहिए।
आरिफ खान, एसोसिएशन फॉर पैरेंट्स स्टूडेंट्स राइट्स  

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:education department is yet to take steps against schools denies admission to gang rape victim