ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडएक करोड़ से ज्यादा कैश-60 करोड़ रुपये की जमीन, ईडी छापेमारी में पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत, BJP नेता-अफसर के घर कुबेर का खजाना 

एक करोड़ से ज्यादा कैश-60 करोड़ रुपये की जमीन, ईडी छापेमारी में पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत, BJP नेता-अफसर के घर कुबेर का खजाना 

प्रवर्तन निदेशालय ने कार्बेट के पाखरो रेंज में टाइगर सफारी निर्माण कार्यों में घपले और कैंपा फंड में गड़बड़ी को लेकर बुधवार को एक साथ 17 स्थानों पर छापेमारी की थी।

एक करोड़ से ज्यादा कैश-60 करोड़ रुपये की जमीन, ईडी छापेमारी में पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत, BJP नेता-अफसर के घर कुबेर का खजाना 
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, लाइव हिन्दुस्तानThu, 08 Feb 2024 08:48 PM
ऐप पर पढ़ें

पू्र्व वन मंत्री हरक सिंह रावत, आईएफएस अफसर सहित बीजपी नेता के ठिकानों में ईडी ने छापेमारी की। घर में करोड़ों रुपयों के कैश मिलने के बाद ईडी टीम भी हैरान रह गई।  पाखरो टाइगर सफारी घपले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 1.10 करोड़ रुपये की नगदी कब्जे में ली है।

ईडी को 60 करोड़ से अधिक कीमत के संपत्ति के दस्तावेज भी हाथ लगे हैं। साथ ही काशीपुर में भाजपा नेता के घर से 80 लाख रुपये कीमत के 1.30 किलो सोने के आभूषण मिले हैं। अकेले आईएफएस अफसर सुशांत पटनायक घर से 94 लाख रुपये के साथ ही दस लाख रुपये कीमत के विदेशी डॉलर भी मिले हैं।

प्रवर्तन निदेशालय ने कार्बेट के पाखरो रेंज में टाइगर सफारी निर्माण कार्यों में घपले और कैंपा फंड में गड़बड़ी को लेकर बुधवार को एक साथ 17 स्थानों पर छापेमारी की थी। यह छापेमारी उत्तराखंड के देहरादून, हरिद्वार, श्रीनगर, लैंसडौन, काशीपुर, ऋषिकेश के साथ ही दिल्ली और हरियाणा में हुई।

ईडी की तरफ से बयान में कहा गया है कि कार्रवाई हरक सिंह रावत और उनके सहयोगियों के ठिकाने के साथ आईएफएस किशन चंद (रिटायर), सुशांत पटनायक, राहुल और रिटायर रेंजर बृज बिहारी शर्मा के ठिकाने पर हुई।

छापेमारी में 1.10 करोड़ रुपए नगदी, सवा किलो सोना, विदेशी डॉलर, बैंक लॉकर, डिजिटल डिवाइस, विभिन्न डीलों के दस्तावेज और 60 करोड़ रुपये की जमीनों के दस्तावेज कब्जे में लिए गए हैं। जमीन और डील के दस्तावेजों की अभी विस्तृत जांच की जा रही है।

कई डील के साक्ष्य भी मिले
ईडी ने छापेमारी के दौरान ऐसे दस्तावेजों पर भी फोकस किया, जिससे तत्कालीन वन मंत्री हरक सिंह रावत, वन अफसरों और निर्माण ठेकेदारों की मिलीभगत साबित की जा सके। ईडी अफसरों ने बताया कि इस तरह के काफी दस्तावेज मिले हैं, जिससे घपले में रकम का लेनदेन साबित हो रहा है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें