ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडआधी रात को उत्तरकाशी में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 3.1 रही तीव्रता

आधी रात को उत्तरकाशी में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 3.1 रही तीव्रता

उत्तरकाशी में आधी रात को भूकंप के झटके महसूस किए गए। जिस समय झटके आए तब लोग गहरी नींद में सोए हुए थे। अचानक धरती के हिलने से कुछ लोग डर गए और घर से बाहर निकल गए। रिक्चर स्केल पर तीव्रता 3.1 रही।

आधी रात को उत्तरकाशी में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 3.1 रही तीव्रता
Sneha Baluniलाइव हिन्दुस्तान,उत्तरकाशीThu, 16 Nov 2023 05:36 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तरकाशी में आधी रात को भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। आसपास के क्षेत्र में भूकंप के झटके से धरती कांप गई। इससे सोते हुए लोग डर गए और अपने घरों से बाहर निकल गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.1 मापी गई है। कहीं से भी जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। भूकंप की गहराई पांच किलोमीटर रही और इसका केंद्र राजधानी देहरादून से लगभग 140 किमी दूर रहा। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल का कहना है कि क्षेत्र से भूकंप से संबंधित जानकारी ली जा रही है। फिलहाल किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है।

नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी ने एक्स पर लिखा, '3.1 तीव्रता का भूकंप, 16-11-2023 को 02:02:10 पर आया। इसका अक्षांश 31.04 और लंबाई 78.23 और गहराई 5 किलोमीटर रही। स्थान- उत्तरकाशी, उत्तराखंड, भारत।' इससे पहले तीन नवंबर को देर रात भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। तब भूकंप का केंद्र नेपाल में था, जिसकी गहराई 10 किलोमीटर थी। उत्तराखंड के लोगों ने दो से तीन झटके महसूस किए थे। दून में लोग दहशत में घरों से बाहर निकल आए थे। भूकंप विज्ञान केंद्र के मुताबिक भूकंप का केंद्र नेपाल के जाजरकोट जिले के पैंक गांव में था। जिसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर तकरीबन 6.4 मापी गई थी। भूकंप का पहला झटका देर रात 11 बजकर 32 मिनट पर महसूस किया गया था।

वहीं  पांच अक्टूबर को भी उत्तरकाशी में 3.2 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। झटके ज्यादातर यमुना घाटी के क्षेत्रों में महसूस किए गए थे। नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी के मुताबिक सुबह करीब 3 बजकर 49 मिनट पर लोगों ने भूकंप के झटके महसूस किए थे। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 3.2 रही थी। जिस समय भूकंप आया तब लोग सोए हुए थे। कई लोगों को तेज झटकों का पता नहीं चला। वहीं कुछ डरे-सहमे घर से बाहर निकल गए। इसमें जान-माल का किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें