ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंडघने कोहरे की वजह से अब ट्रेनों के नहीं होंगे हादसे, रेलवे की यह है तैयारी

घने कोहरे की वजह से अब ट्रेनों के नहीं होंगे हादसे, रेलवे की यह है तैयारी

रेलवे ने आगामी सर्दियों के मौसम में होने वाले घने कोहरे को ध्यान में रखते सभी ट्रेनों में फाग सेफ डिवाइस लगाना शुरू कर दिया है। इससे ट्रेन की स्पीड भी 75 किमी निर्धारित कर दी गई है।

घने कोहरे की वजह से अब ट्रेनों के नहीं होंगे हादसे, रेलवे की यह है तैयारी
Himanshu Kumar Lallहल्द्वानी, कार्यालय संवाददाताMon, 21 Nov 2022 02:37 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

रेलवे ने आगामी सर्दियों के मौसम में होने वाले घने कोहरे को ध्यान में रखते सभी ट्रेनों में फाग सेफ डिवाइस लगाना शुरू कर दिया है। इससे ट्रेन की स्पीड भी 75 किमी निर्धारित कर दी गई है। साथ ही कोहरे को लेकर सिग्नल मैन का प्रशिक्षण भी शुरू कर दिया गया है। सर्दियों में कोहरे के चलते दुर्घटना का खतरा ज्यादा रहता है।

इसके लिए ट्रेनों में फाग सेफ डिवाइस लगाई जा रही है। रेलवे ने इज्जत नगर मंडल को 185 डिवाइस उपलब्ध करा दी है। कोहरे में सिग्नल पता चले इसके लिये सिग्नल साइटिंग बोर्ड, फाग सिग्नल पोस्ट, व्यस्त समपार एवं लिफ्टिंग बैरियर पर पीले एवं काले ल्यूमिस स्ट्रिप की व्यवस्था कराई जा रही है।

डिवाइस लगने पर वीडियो पर दिखते सिग्नल
फॉग सेफ डिवाइस जीपीएस आधारित एक उपकरण है। ये डिवाइस लोको पायलट को आगे आने वाली सिग्नल की चेतावनी देता है। करीब 500 मीटर पहले ही लोको पायलटों को सतर्क (अलर्ट) कर देती है। डिवाइस से न सिर्फ आवाज निकलती है, बल्कि वीडियो पर सिग्नल दिखने लगते हैं।

कोहरे में 75 किमी से अधिक नहीं होगी रफ्तार
कोहरे में फाग सेफ डिवाइस के साथ ट्रेनों की अधिकतम गति सीमा निर्धारित कर दी गई है। ट्रेनें 75 किमी प्रति घंटे से अधिक रफ्तार से नहीं चलेंगी। इसके अलावा रेलवे स्टेशनों, क्रासिंगों और सिग्नलों पर पारंपरिक नियमों और संसाधनों को लागू कर दिया गया है।

कोहरे के दौरान ट्रेनों के सुरक्षित संचालन के लिए सभी इंजन में फॉग सेफ डिवाइस लगाई जा रही है। कोहरे के दौरान ट्रेनों की गति को भी निर्धारित कर दिया गया है। कोहरे में ट्रेनों का संचालन प्रभावित ना हो इसको लेकर अन्य जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।
पंकज सिंह, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, पूर्वोत्तर रेलवे