ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडमहंगाई की मार से अपना घर बनाने का सपना हो रहा चूर, रजिस्ट्री की संख्या कर देगी हैरान

महंगाई की मार से अपना घर बनाने का सपना हो रहा चूर, रजिस्ट्री की संख्या कर देगी हैरान

इसके चलते रुद्रपुर का विकास होने के साथ ही यहां बसासत भी बढ़ती चली गई है। यही वजह है कि यहां जमीन के दाम भी आसमान छूने लगे हैं। महंगाई की वजह से लोगों के अपने घर का सपना चूर हो रहा है।

महंगाई की मार से अपना घर बनाने का सपना हो रहा चूर, रजिस्ट्री की संख्या कर देगी हैरान
Himanshu Kumar Lallरुद्रपुर, हिन्दुस्तानMon, 24 Jun 2024 03:46 PM
ऐप पर पढ़ें

महंगाई के बीच तराई में बसासत में कमी दिख रही है। सब रजिस्ट्रार कार्यालय में दर्ज आंकड़ों से तुलना करें तो विगत दो वर्षों में विभिन्न भूखंडों की रजिस्ट्री कराने वालों की संख्या में अपेक्षित तेजी नहीं दिख रही है।जबकि पूर्व में प्रति वर्ष रजिस्ट्री कराने वालों में 2 से 3 हजार का इजाफा होता आया है।

रुद्रपुर में तेजी से बढ़ते जमीनों के दाम और निर्माण सामग्री और निर्माण लागत में बढ़ती महंगाई को भी कम रजिस्ट्री का करण माना जा रह है। इसकी एक वजह माना जा रहा है। रुद्रपुर में शहर की आबादी तेजी से बढ़ी है। वहीं रुद्रपुर के आसपास भी ग्रामीण क्षेत्र में लगातार आबादी बढ़ने में पिछले कुछ वर्षों में तेजी आई है।

इसका बड़ा कारण यहां हुआ औद्योगिक विकास है। सिडकुल पंतनगर में स्थापित उद्योगों में बड़ी संख्या में स्थायी और अस्थायी तौर पर लोगों को रोजगार मिला है। इसके चलते रुद्रपुर का विकास होने के साथ ही यहां बसासत भी बढ़ती चली गई है। यही वजह है कि यहां जमीन के दाम भी आसमान छूने लगे हैं। वहीं सर्किल रेटों में इजाफा होने के साथ ही मार्केट रेट काफी अधिक हो चुके हैं।

इधर, निर्माण सामग्री की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही हैं। ऐसे में अब रुद्रपुर में नए निर्माणों में कमी आती भी दिख रही है। इसका कारण महंगाई के चलते आम आदमी का अपने घर के सपने को पंख नहीं लग पाना माना जा रहा है। रुद्रपुर के सब रजिस्ट्रार अविनाश कुमार ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2020-21 में रुद्रपुर में करीब सात हजार रजिस्ट्री हुई थीं।

भवन निर्माण सामग्री तेजी से हुई हैं महंगी
वैश्विक मंदी के दौर में महंगाई तेजी से बढ़ी है। भवन निर्माण सामग्री सीमेंट, रेता और बजरी समेत सरिया के दाम पिछले कुछ समय में तेजी से बढ़े हैं। सरिया के दाम करीब 500 रुपये प्रति कुंतल तक बीते वर्ष की तुलना में बढ़ चुके हैं। जबकि बीते वर्षों की तुलना में सीमेंट के दाम में भी 20 से 40 रुपये प्रति बैग बढ़े हैं। इसी तरह रेता और बजरी के दामों में भी प्रति कुंतल सात से दस रुपये तक की बढ़ोतरी हो चुकी है।

प्रदेश में लागू हुए थे नए सर्किल रेट
16 फरवरी 2023 से प्रदेश में नए सर्किल रेट लागू हुए थे। इसके बाद सड़क से दूरी के मानक के हिसाब से रुद्रपुर में भी अलग-अलग जगह सर्किल रेटों में इजाफा हुआ है। वहीं रुद्रपुर क्षेत्र से दो नेशनल हाईवे निकल रहे हैं।

इसके चलते यहां जमीनों के बाजार मूल्य आसमान छू रहे हैं। रुद्रपुर से लगे ग्रामीण क्षेत्रों में नई कॉलोनियों का विकास हो रहा है। यहां भी बाजार मूल्य के हिसाब से भूखंड बहुत अधिक मूल्यों में बिक रहे हैं। ऐसे में रुद्रपुर में नए भूखंड लेने वालों की संख्या में कमी आती दिख रही है।


 

Advertisement