ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडलोकसभा चुनाव में धाकड़ धामी की धाक, UP-दिल्ली से लेकर राजस्थान-पंजाब देशभर में रिकॉर्ड चुनावी सभाएं

लोकसभा चुनाव में धाकड़ धामी की धाक, UP-दिल्ली से लेकर राजस्थान-पंजाब देशभर में रिकॉर्ड चुनावी सभाएं

अभी तक के छह चरणों में चुनाव में वें 70 से अधिक जनसभाएं कर चुके हैं। इनमें तेलंगाना, यूपी, दिल्ली, राजस्थान, पश्चिमी बंगाल, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, पंजाब आदि राज्य शामिल हैं।

लोकसभा चुनाव में धाकड़ धामी की धाक, UP-दिल्ली से लेकर राजस्थान-पंजाब देशभर में रिकॉर्ड चुनावी सभाएं
pushkar singh dhami
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानTue, 28 May 2024 09:58 AM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की बहुत डिमांड रही। बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व लोकसभा चुनाव में मुख्यमंत्री धामी का जमकर इस्तेमाल कर रहा है। चुनाव प्रचार अभियान के तहत धामी देश भर में अभी तक 70 से ज्यादा जनसभा, रैली और रोड शो कर चुके हैं।

विदित है कि समान नागरिक संहिता कानून, सख्त नकल विरोधी कानून, सख्त धर्मांतरण कानून और सख्त दंगा नियंत्रण कानून की वजह से मुख्यमंत्री पुष्कर धामी चर्चाओं में आए थे। इस वजह से उनकी लोकप्रियता का ग्राफ तेजी से बढ़ा है।

इसी को देखते हुए भाजपा केंद्रीय नेतृत्व लोकसभा चुनाव में उनका इस्तेमाल देशभर में कर रहा है। मुख्यमंत्री धामी कई राज्यों के चुनाव प्रचार अभियान में बतौर स्टार प्रचारक हैं। अभी तक के छह चरणों में चुनाव में वें 70 से अधिक जनसभाएं कर चुके हैं।

इनमें तेलंगाना, यूपी, दिल्ली, राजस्थान, पश्चिमी बंगाल, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, पंजाब आदि राज्य शामिल हैं। उत्तराखंड में लोकसभा चुनाव का मतदान पहले चरण में खत्म हो गया था। उत्तराखंड में भी लोकसभा प्रत्याशियों के नामवापसी के बाद धामी ने पार्टी प्रत्याशियों के समर्थन में राज्य के विभिन्नि हिस्सों में 38 जनसभाएं की थी।

इसके बाद पार्टी हाईकमान ने उन्हें दूसरे प्रांतों में चुनाव प्रचार के मोर्चे पर लगा दिया है। दरअसल,धामी ने अपने कार्यकाल में कई सख्त और चर्चित फैसले लिए हैं जिससे वे भाजपा की नई पंक्ति के नेताओं में शुमार हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भी उनकी काफी नजदीकी है। उनकी जनसभाओं में खासकर युवा बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। इसे देखते हुए पार्टी चुनाव में मुख्यमंत्री का खूब इस्तेमाल कर रही है। वे विभिन्न प्रांतों में प्रतिदिन दो से तीन जनसभाएं कर रहे हैं।