DA Image
Thursday, December 2, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंडदिल्ली : फर्जी आईआरएस अधिकारी बन रेलवे में नौकरी के नाम ठगी, एक गिरफ्तार

दिल्ली : फर्जी आईआरएस अधिकारी बन रेलवे में नौकरी के नाम ठगी, एक गिरफ्तार

वरिष्ठ संवाददाता, नई दिल्लीShivendra Singh
Sun, 19 Sep 2021 06:23 PM
दिल्ली : फर्जी आईआरएस अधिकारी बन रेलवे में नौकरी के नाम ठगी, एक गिरफ्तार

राजधानी दिल्ली में आर्थिक अपराध शाखा ने फर्जी आईआरएस अधिकारी बनकर रेलवे में नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह के एक सदस्य को गिरफ्तार किया है। इस तरह पुलिस ने अब तक कुल तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों ने 40 बेरोजगारों से करीब ढाई करोड़ रुपये की ठगी की है। 

एडिशनल सीपी आरके सिंह ने बताया कि पीड़ित अभय शर्मा ने बीते साल शिकायत दी थी जिसके आधार पर जनवरी में एफआईआर दर्ज की गई। पीड़ित 2017 में मुखर्जी नगर इलाके में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था। इसी दौरान उसकी मुलाकात कुणाल ठाकुर नाम के शख्श से हुई जिसने अपने उंचे सम्पर्कों का हवाला देकर टीटी की नौकरी लगवाने का आश्वासन दिया। कुणाल ने पीड़ित को पहाड़गंज के होटल में मोहम्मद रागिव फिरोज एवं ब्रजकिशोर से मुलाकात कराई। उसने रागिव को आईआरएस अधिकारी एवं ब्रजकिशोर को रेलवे का अधिकारी बताया। उन्होंने जीएम कोटे से टीटी पर नौकरी दिलाने का झांसा दिया।

अपने रिश्तेदारों और दोस्तों से भी दिलाई रकम
पीड़ित ने अपने दोस्तों और रिश्तेदारों रकम लेकर इन्हें दिलाया। पुलिस के अनुसार 40 लोगों से ढाई करोड़ रुपये कीरकम दिलाई गई। फिर ठगों ने रेल भवन के पासमिलकर नियुक्ति पत्र और प्रशिक्षण पत्र सौंपा। कुछ को डाक से नियुक्ति पत्र भेजा गया। फिर देहरादून में मेडिकल कराने के बाद प्रशिक्षण के लिए भेजा गया। लेकिन बिना प्रशिक्षण लिए ही नियुक्ति पत्र लेकर जमशेदपुर नौकरी ज्वाइन करने के लिए भेजा तो ठगी का अहसासहुआ।

पुलिस ने टेक्निकल सर्विलांस के जरिए शनिवार को ग्रेटर नोएडा निवासी मोहम्मद ऱाघिव फिरोज को गिरफ्तार कर लिया। मोहम्मद राघिब फिरोज मनोविज्ञान में स्नात्तकोत्तर डिग्री और पत्रकारिता एवं जनसंचार में डिप्लोमा धारक है। वह आरोपी गिरोह की सभी गतिविधियों का समन्वय करता था जिसमें ठगी के शिकार लोगों से पैसा इकठ्ठा करना, नियुक्ति एवं प्रशिक्षण के संबंध में विभिन्न प्रपत्रों को भरने के अलावा आर्थिक अपराध को अंजाम देने के लिए अन्य कार्य शामिल थे। इससे पहले 14 अगस्त को पुलिस ने ब्रिजकिशोर और सचिन कोगिरफ्तार किया था।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें