DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › ऐसे तो कभी नहीं हारेगा कोरोना, फर्जी कोविड जांच रिपोर्ट लेकर उत्तराखंड घूमने आ रहे पर्यटक
उत्तराखंड

ऐसे तो कभी नहीं हारेगा कोरोना, फर्जी कोविड जांच रिपोर्ट लेकर उत्तराखंड घूमने आ रहे पर्यटक

हिन्दुस्तान टीम, देहरादूनPublished By: Himanshu Kumar Lall
Tue, 13 Jul 2021 01:40 PM
ऐसे तो कभी नहीं हारेगा कोरोना, फर्जी कोविड जांच रिपोर्ट लेकर उत्तराखंड घूमने आ रहे पर्यटक

उत्तराखंड के पड़ोसी राज्यों यूपी, दिल्ली, पंजाब हरियाणा आदि से फर्जी कोविड जांच रिपोर्ट लेकर पर्यटक घूमने प्रदेश आ रहे हैं। चिंता की बात है कि पर्यटकों की संख्या बढ़ने के साथ ही कोरोना जांच भी कम हो रही है। यूपी-उत्तराखंड बॉर्डर पर आशारोड़ी चेकपोस्ट पर कोरोना की फर्जी जांच रिपोर्ट का खुलासा हुआ है। फर्जी नेगेटिव रिपोर्ट दिखाकर पर्यटक उत्तराखंड घूमने पहुंच गए थे। कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने पर्यटकों के लिए कोरोना आरटीपीसीआर की 72 घंटे की नेगेटिव रिपोर्ट को अनिवार्य किया है। दिल्ली-एनसीआर के पर्यटकों का बड़ी संख्या में फर्जी रिपोर्ट के साथ पकड़े जाने से अफसर भी हैरत में हैं।

पिछले पांच दिनों के भीतर करीब सौ जांच रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग ने अपने कब्जे में ली हैं। खुलासा होने के बाद चेकिंग प्वाइंट पर स्वास्थ्य विभाग की टीमों का अलर्ट किया गया है। विभाग मामले में मुकदमा दर्ज करने की तैयारी में है।  कोरोना के केस कम होने के बाद देहरादून और मसूरी में बड़ी संख्या में पर्यटक उमड़ रहे हैं। दूसरे राज्यों से आने वाले पर्यटकों को सीमा पर कोविड नेगेटिव रिपोर्ट दिखाकर प्रवेश दिया जा रहा है।  रिपोर्ट नहीं होने पर जांच की जा रही है और नेगेटिव रिपोर्ट आने पर ही प्रवेश दिया जा रहा है।  जांच कराने में आनाकानी करने वालों को लौटा दिया जा रहा है। जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. राजीव दीक्षित का कहना है कि चेकिंग के दौरान पर्यटकों के पास फर्जी कोरोना जांच रिपोर्ट पकड़ी गई हैं। 

ज्यादातर मामलों में दूसरे की नेगेटिव रिपोर्ट में नाम आदि डिटेल बदली मिली हैं। फर्जीवाड़े में पुरानी रिपोर्ट के प्रिंट को स्कैन कर उसमें बदलाव या डार्ट कॉपी में फेरबदल पकड़ में आया है। ऐसे लोगों को चेतावनी देकर रिपोर्ट कब्जे में ली गई हैं। मौके पर जांच नेगेटिव आने पर ही प्रवेश दिया जा रहा है। जिन लोगों की रिपोर्ट फर्जी निकली है, उनमें अधिकांश यूपी, दिल्ली-एनसीआर और हरियाणा के पर्यटक हैं। पुलिस एवं जांच केंद्र प्रभारी को निर्देशित किया गया है कि चेतावनी के बाद भी लोग नहीं मान रहे हैं तो उनके खिलाफ आपदा अधिनियम में कार्रवाई की जाए। एंट्री प्वाइंट पर पुलिस से सख्ती के लिए कहा गया है। 

हमारे संज्ञान में अभी किसी के फर्जी रिपोर्ट के आधार पर एंट्री की सूचना नहीं है। न ही अभी तक स्वास्थ्य विभाग द्वारा ऐसे किसी मामले से अवगत कराया गया है। रिपोर्ट असली या फर्जी की जांच करना तकनीकी पहलू है, वह स्वास्थय विभाग की टीम ही करती है। विभाग द्वारा इस संबंध में लिखकर दिये जाने पर कार्रवाई की जाएगी। 
धर्मेंद्र रौतेला, एसओ क्लेमनटाउन 

स्वास्थ्य विभाग बार कोड के माध्यम से असली और फर्जी रिपोर्ट की जांच कर रहा है। कई मामले फर्जी रिपोर्ट के सामने आ रहे हैं। पुलिस टीम से अनुरोध है कि गाड़यिों को बूथ पर भेजें, ताकि रिपोर्ट की जांच की जा सके। टीम के पास दो सिपाही भी तैनात करने का निवेदन किया गया है, ताकि फर्जी रिपोर्ट वालों को पुलिस के सुपुर्द किया जा सके। 
डॉ. एक्यू अंसारी, जांच प्रभारी, आशारोड़ी बार्डर 

एक एसआरएफ आईडी पर कई रिपोर्ट:घूमने आने वाले कई लोगों की एसआरएफ आईडी (पंजीकरण नंबर) एक ही मिला। यही नहीं पर्यटकों को जब पता चला कि रिपोर्ट की बार्डर पर जांच की जा रही है। तो कई ने रिपोर्ट में बार कोड धुंधला कर दिया। ऐसी रिपोर्ट को टीम ने स्वीकार नहीं किया और दोबारा जांच कराई गई। जांच के दौरान कई ऐसे लोग भी थे, जिन्होंने कार्रवाई के डर से रिपोर्ट को फाड दिया। जांच रिपोर्ट को ज्यादातर लोग लैब के लिफाफे में लेकर आ रहे हैं। 

हजारों के फर्जी रिपोर्ट पर प्रवेश की आशंका:विभागीय सूत्रों की मानें तो हजारों पर्यटकों के फर्जी रिपोर्ट के द्वारा एंट्री किये जाने की आशंका है। क्योंकि आशारोड़ी बॉर्डर से रोजाना हजारों की संख्या में पर्यटक गुजर रहे हैं। गाड़ी के अंदर से ही अधिकांश पर्यटक रिपोर्ट दिखाते हैं। पुलिस कर्मचारी बहुत कम लोगों की बार कोड से जांच कराते हैं। जिससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि बड़ी संख्या में फर्जी रिपोर्ट बनाकर एंट्री पा रहे हैं। 

बार्डर पर सबकी रिपोर्ट कैसे जांचें:बार्डर पर तैनात पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग के अफसरों का यह तर्क है कि बार्डर पर बड़ी संख्या में वाहन आते हैं। ऐसे में नेगेटिव रिपोर्ट देखकर उन्हें जाने दिया जाता है। बार कोड की जांच सबकी संभव नहीं है, क्योंकि यहां लंबे जाम की समस्या बन जाएगी। विभागीय अफसरों ने रिपोर्ट पर संशय होने पर बार कोड की जांच कराए जाने के निर्देश दिए हैं। 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड आने के लिए जरूरी होगी कोरोना RTPCR रिपोर्ट, जानिए पूरी गाइडलाइन्स

नैनीताल जिले में पर्यटक बढ़ रहे पर कोरोना जांच घट रही
जिले में कोविड कफ्र्यू में ढील के बीच पर्यटकों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है, मगर कोरोना की जांच का दायरा नहीं बढ़ पा रहा है। आठ ब्लॉक में शुरू से ही 15 सौ से 2 हजार के बीच जांचें हो रही हैं। जांच को लेकर स्वास्थ्य विभाग को ज्यादा सहयोग भी नहीं मिल रहा है।  कोरोना की दूसरी लहर ठंडी होने लॉकडाउन-कफ्र्यू हटने और ट्रेन बसों के चलने के बाद पर्वतीय इलाकों में पर्यटकों की गतिविधि बढ़ गई है। नैनीताल और आसपास के पर्यटक स्थलों में काफी भीड़ है, नैनीताल और रामनगर-कार्बेट क्षेत्र करीब पूरी तरह से पैक है। हजारों की संख्या में पहुंच रहे पर्यटकों को बिना जांच कुमाऊं में आने की ढील दी गई, वहीं अब थोड़ा सख्ती की जा रही है । उधर कोरोना की जांच के लिए बनाए गए केन्द्रों में जांच के लिए लोग काफी कम संख्या में पहुंच रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग जिला प्रशासन के साथ मिल कर मॉल-रेलवे स्टेशन-कार्यालयों में औचक सैंपलिंग कर रहे हैं बावजूद इसके काफी कम संख्या में सैपंलिग हो पा रही है।

बेस अस्पताल हल्द्वानी:बेस अस्पताल में दो जगह सैंपलिंग हो रही है। एक मुख्य गेट पर और दूसरी फीवर क्लीनिक में। वर्तमान में करीब 50 से 60 आरटीपीसीआर और 150 के करीब एंटीजन टेस्ट हो रहे। पूर्व में आरटीपीसीआर 150 से ज्यादा हो रहे थे और एंटीजन 300 से ज्यादा। टूरिस्ट भी जांच के लिए पहुंच रहे हैं।

आयुर्वेदिक अस्पताल हल्द्वानी:हल्द्वानी में सबसे ज्यादा कोरोना की जांच स्टेडियम के पास स्थित आयुर्वेदिक अस्पताल में हो रहा था। लोग खुद यहां आकर जांच करा रहे थे, लेकिन यहां 50 प्रतिशत से ज्यादा सैंपलिंग कम हो गई है। वर्तमान में वहां पर 50 से 60 आरटीपीसीआर और एनटीजन 10-20 हो रहे हैं।

रामनगर:रामनगर में पोस्ट ऑफिस, पंजाब नेशनल बैंक, लोनिवि गेस्ट हाउस सहित हल्दुआ बैरियर पर कोरोना जांच चल रही हैं। जिले में प्रवेश करने वाले सभी बाहरी लोगों की हल्दुआ बैरियर पर रैपिड जांच हो रही है। इसके अतिरिक्त शहर में 100 से अधिक आरटीपीसीआर जांच रोजाना हो रही है। कोरोना नोडल अधिकारी ने बताया कि एक माह पहले तीन सौ से चार सौ जांचें होती थी। 50 से अधिक लोग पॉजिटिव मिलते थे। मौजूदा समय में तीन से चार लोग ही कोरोना पॉजिटिव आ रहे हैं।

लालकुआं:लालकुआं क्षेत्र स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में ही अब कोरोना जांचें हो रही हैं। डॉ. अजय दीक्षित ने बताया कि अब जांचें करीब 10% रह गई हैं। हल्द्वानी ब्लॉक के चिकित्सा अधिकारी डॉ. हरीश पांडे ने बताया कि पूर्व में 300 से अधिक जांचें होती थी, जो अब 70 पर सिमट चुकी हैं।

नैनीताल: नैनीताल में इन दिनों रोजाना करीब 100 लोगों की कोरोना जांच हो रही है। इसमें ज्यादातर जांच रैपिड एंटीजन से पर्यटकों की है। स्थानीय स्तर पर काफी कम लोगों की जांच करवाई जा रही है। जबकि एक माह पहले तक रोजाना दो से ढाई सौ लोगों की जांच की जा रही थी।

जांच का दायरा बढ़ाने के लिए टीमें गांवों में सैंपलिंग कराने के लिए भेजी जा रही है। बैरियर पर सैंपलिंग की जा रही है। इसके बावजूद सैंपलिंग को और बढ़ाने के लिए निर्देश जारी किए गए हैं। 
डॉ. शैलजा भट्ट, निदेशक स्वास्थ्य, कुमाऊं मंडल

संबंधित खबरें