DA Image
14 जनवरी, 2021|10:26|IST

अगली स्टोरी

प्रदेश में कोरोना वायरस को माइक्रो प्लान से देंगे मात, जानें क्या होगा खास 

corona new variant

कोरोना टीकाकरण अभियान की तैयारियों के तहत स्वास्थ्य विभाग ने सभी जिलों से टीकाकरण का माइक्रो प्लान तैयार करने को कहा है। इसके तहत हर बूथ पर एक दिन में लगने वाले सौ टीकों के लिए स्वास्थ्य कर्मियों के नाम और बूथ पर तैनात रहने वाले कर्मचारियों के नाम भेजने को कहा गया है।  विदित है कि पहले चरण में राज्य के 94 हजार स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना का टीका लगना है।

इसके लिए सरकार ने कोल्डचेन संबंधी तैयारी पूरी कर ली है। पूरे राज्य में 317 कोल्ड चेन प्वाइंट बनाए गए हैं जिसके जरिए लोगों तक वैक्सीन को पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। हर जिले में स्कूलों में टीकाकरण बूथ बनाए जाने हैं। सभी जिलाधिकारियों को बूथों का चिह्नीकरण कर रिपोर्ट देने को भी कहा गया है। 

उत्तराखंड के 279 क्षेत्रों में वैक्सीनेशन चुनौती
राज्य सरकार की ओर से टीकाकरण के लिए तैयार किए गए प्लान के अनुसार राज्य में 279 ऐसे क्षेत्र चिह्नित किए गए हैं जहां आबादी को टीका पहुंचाना एक चुनौती है। पुराने टीकाकरण अभियानों के आधार पर चिह्नित किए गए इन दुर्गम स्थानों के लिए जिलाधिकारियों से रिपोर्ट मांगी गई है। विदित है कि कोरोना टीकाकरण के दूसरे चरण में साठ साल से अधिक उम्र के बुजुर्ग और बीमार लोगों को टीके लगने हैं। ऐसे लोग राज्य के हर क्षेत्र में निवास कर रहे होंगे।

ऐसे में इन लोगों की पहचान कर उन्हें ऐसे स्थान पर एकत्र किया जाएगा जहां कोल्ड चेन को मेनटेन रखते हुए टीकाकरण किया जा सके। फिलहाल राज्य में कुल 279 क्षेत्र चुने गए हैं जहां टीका या लोगों को पहुंचाना मुश्किल काम हो सकता है। इसके अलावा श्रमिकों और झुग्गियों के लिए भी टीकाकरण का अलग से प्लान बनाया गया है। 

वैक्सीन पहुंचाने में ली जा सकती है ड्रोन की मदद 
राज्य के सिविल एविएशन विभाग की ओर से दुर्गम क्षेत्रों में वैक्सीन को पहुंचाने के लिए ड्रोन की मदद लेने का प्रस्ताव भी दिया गया है। हालांकि इस संदर्भ में स्वास्थ्य विभाग की ओर से कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है। टीकाकारण के लिए स्कूलों को बूथ की तरह इस्तेमाल किया जाना है। राज्य में आम तौर पर स्कूल ऐसे स्थानों पर हैं जहां आसानी से पहुंचाा जा सकता है। लेकिन कुछ ऐसे भी दुर्गम स्थान हैं जहां लोगों और वैक्सीन को पहुंचाने में दिक्कत हो सकती है। ऐसे में इन स्थानों तक कैसे पहुंचा जाएगा इस पर विचार चल रहा है। 

दो जनवरी को राज्य में टीकाकरण की मॉक ड्रिल 
राज्य में कोरोना टीकाकरण के लिए दो जनवरी को मॉक ड्रिल आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। इसके तहत सरकार की ओर से अभी तक की गई तैयारियों को परखा जाएगा। विदित है कि केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को कोरोना टीकाकरण की तैयारियों की समीक्षा के साथ ही पूर्वाभ्यास करने के निर्देश दिए थे। देश के चार राज्यों के कुछ जिलों में यह पूर्वाभ्यास दो दिन पूर्व हो चुका है।

जबकि कुछ राज्यों में पहली जनवरी को पूर्वाभ्यास होना है। इसी को देखते हुए राज्य सरकार ने भी दो जनवरी को मॉक ड्रिल करने का निर्णय लिया है। प्रभारी निदेशक स्वास्थ्य डॉ सरोज नैथानी ने बताया कि दो जनवरी को राज्य में कोरोना टीकाकरण का पूर्वाभ्यास किया जाएगा। इसके तहत कोल्ड चेन मेनटेन करने के साथ ही बूथ तक लोगों को पहुंचाने, एसएमएस डिलिवर करने, टीकाकरण और उसके तीस मिनट तक बूथ में बिठाए रखने जैसे कार्यों का पूर्वाभ्यास किया जाएगा। 

राज्य की 24 लाख आबादी को लगना है टीका 
केंद्र सरकार ने पहले चरण में राज्य की 20 प्रतिशत आबादी के टीकाकरण का आश्वासन दिया है। इस हिसाब से अगले कुछ महीनों में राज्य की 24 लाख के करीब आबादी को टीके लगाए जाने हैं। टीकाकरण की शुरूआत स्वास्थ्य कर्मियों से होगी। फिर बुजुर्ग लोगों को टीके लगाए जाएंगे और फिर बीमार लोगों का नम्बर आएगा। चहले चरण के तहत आने वाले इन तीन श्रेणी के लोगों की संख्या राज्य की आबादी का 20 प्रतिशत यानी तकरीबन 24 लाख होने का अनुमान है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:corona vaccine would be done corona virus update uttarakhand