DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  ऐसे कैसे होगा कोरोना कंट्रोल जब  निजी अस्पतालों में टीका सरकारी के हाथ खाली

उत्तराखंडऐसे कैसे होगा कोरोना कंट्रोल जब  निजी अस्पतालों में टीका सरकारी के हाथ खाली

हिन्दुस्तान टीम, देहरादूनPublished By: Himanshu Kumar Lall
Tue, 01 Jun 2021 11:28 AM
ऐसे कैसे होगा कोरोना कंट्रोल जब  निजी अस्पतालों में टीका सरकारी के हाथ खाली

राज्य में 18 प्लस वालों के लिए सरकारी टीकाकरण अभियान ठप है। दूसरी ओर निजी अस्पतालों में हर दिन दो हजार से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। ऐसे में सवाल ये उठ रहा है कि जब प्राइवेट अस्पतालों को वैक्सीन मिल जा रही है तो सरकार को वैक्सीन क्यों नहीं मिल पा रही है?  केंद्र सरकार ने वैक्सीन का 25% कोटा निजी अस्पतालों के लिए तय किया है। इसके अनुसार उत्तराखंड के प्राइवेट अस्पताल कंपनियों से वैक्सीन खरीदकर लोगों को लगा रहे हैं। दूसरी ओर राज्य में 18 प्लस वर्ग का सरकारी टीकाकरण अभियान काफी दिनों से ठप है। युवा हर दिन टीकाकरण केंद्रों से निराश लौट रहे हैं। ये स्थिति तो राजधानी देहरादून की है।

पहाड़ों पर तो निजी अस्पतालों में टीके नहीं लग रहे हैं, ऐसे में युवाओं को टीकाकरण में बहुत परेशानी हो रही है। सरकार को वैक्सीन न मिलने और निजी अस्पतालों को मिलने पर इसलिए भी सवाल खड़े हो रहे हैं क्योंकि सरकारी अफसर लगातार कह रहे हैं कि टीका बनाने वाली कंपनियों से लगातार वार्ता की जा रही है। यदि ऐसा है तो सरकार को वैक्सीन क्यों नहीं मिल रही है। इस संबंध में नोडल अफसर डॉ. कुलदीप मर्तोलिया ने बताया कि प्राइवेट अस्पताल 18 प्लस वालों को टीका लगा रहे हैं। निजी अस्पताल, केंद्र सरकार द्वारा की गई व्यवस्था के तहत कंपनियों से सीधे वैक्सीन ले रहे हैं।  अपर सचिव नोडल अफसर युगल किशोर पंत कहते हैं कि केंद्र सरकार को 1.83 लाख वैक्सीन का पैसा एडवांस में दिया जा चुका है। उम्मीद है कि राज्य को वैक्सीन जल्द मिल जाएगी। 

ग्लोबल टेंडर में दिलचस्पी नहीं दिखा रही कंपनियां
उत्तराखंड सरकार ने कंपनियों से सीधे वैक्सीन खरीदने को ग्लोबल टेंडर किए हैं। खास बात यह है कि राज्य के प्राइवेट अस्पतालों को जो कंपनियां वैक्सीन सप्लाई कर रही हैं, वो राज्य सरकार के ग्लोबल टेंडर में दिलचस्पी नहीं दिखा रही हैं। टेंडर का पहली डेट निकलने के बाद भी कंपनियों ने आवेदन नहीं किया। फिलहाल टेंडर की डेट को आगे बढ़ाया गया है। 

संबंधित खबरें