DA Image
5 जुलाई, 2020|3:50|IST

अगली स्टोरी

चिंताजनक: उत्तराखंड में छह दिनों में तीन गुना से ज्यादा हो गए मरीज, 317 हैं संक्रमित

two soldiers of grp are corona positive

उत्तराखंड में पिछले छह दिनों में कोरोना मरीज तीन गुना से ज्यादा हो गए। इससे पहले राज्य में कोरोना के मरीजों के बढ़ने की रफ्तार बेहद धीमी थी। राज्यभर में कोरोना मरीजों के सामने आने की शुरुआत 15 मार्च को हुई थी।

दो महीनों यानी 15 मई तक राज्य में सिर्फ 82 मरीज ही मिले थे। इसमें से भी पचास मरीज इलाज के बाद अस्पतालों से ठीक होकर घर जा चुके थे। लेकिन, 15 मई के बाद से कोरोना मरीजों के बढ़ने का सिलसिला शुरू हो गया।

पिछली 18 मई को राज्य में कुल मरीजों की संख्या 96 रही। लेकिन, छह दिन बाद यह संख्या बढ़कर 317 पहुंच गई। मरीजों के बढ़ने की दर से सरकार की परेशानी भी बढ़ गई है।

आशंका जताई जा रही है कि आने वाले दिनों में मरीजों के बढ़ने की रफ्तार और तेज हो सकती है। इससे राज्य के अस्पतालों पर दबाव बढ़ सकता है।

 

कोरोना संकट: अगले 10 दिन उत्तराखंड के लिए बेहद अहम होंगे, जानिए वजह 
 

चार दिन में दोगुने हो रहे हैं मरीज: राज्य में कोरोना मरीजों का ग्राफ पिछले एक सप्ताह में इस कदर बढ़ा कि दोगुना होने की दर भी 45 दिन से घटकर चार दिन से कुछ अधिक रह गई है।

रविवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार राज्य में कोरोना मरीजों का डबलिंग रेट 4.18 दिन है, जो देश की तुलना में कम है। देश में कोरोना मरीजों के दोगुने होने की दर 12 दिन के करीब है।

लेकिन, राज्य में एकाएक आंकड़ा अब गड़बड़ा गया है। मरीजों के बढ़ने की रफ्तार यदि यही रही तो डबलिंग रेट और कम हो सकता है।
 

 

लैब पर बढ़ा जांच का दबाव
राज्य में कुछ दिनों से हर दिन एक हजार से अधिक सैंपल जांच के लिए भेजे  जा रहे हैं। पर, लैब 24 घंटे काम करने के बावजूद पूरे सैंपल जांच नहीं कर पा रही हैं। सभी सरकारी और प्राइवेट लैब में वर्तमान में 3,023 मरीज रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं।

 

कोविड-19 का कहर : उत्तराखंड के सभी 13 जिले ऑरेंज जोन में शामिल

 

मरीजों के ठीक होने की दर में भी गिरावट
राज्य में एक सप्ताह पहले तक मरीजों के ठीक होने की दर 65 प्रतिशत से अधिक थी। लेकिन, अचानक बढ़े कोरोना मरीजों से अब इनके ठीक होने की दर भी घटकर 19 प्रतिशत से कुछ कम रह गई है।

जबकि, संक्रमण दर बढ़कर 1.75 प्रतिशत के लगभग रह गई है। राज्यभर में पिछले दिनों सैंपलिंग बढ़ाई गई है, जिस वजह से अब बड़ी संख्या में सैंपलों की जांच हो रही है। इस कारण भी मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है।

 

राज्य में नैनीताल दो दिन में टॉप पर पहुंचा 
नैनीताल जिला पिछले दो दिनों में राज्य में कोरोना के मामले में टॉप पर पहुंच गया। दो महीनों से अधिक समय से देहरादून जिले में सर्वाधिक कोरोना मरीज थे। लेकिन शनिवार और रविवार को अचानक बढ़े मरीजों की वजह से नैनीताल में कुल मरीजों की संख्या सौ पार हो चुकी है। देहरादून में भी 70 प्लस हैं।

 

संक्रमण की टेस्टिंग में नहीं आएगी दिक्कत
यदि पहाड़ के जिलों के मरीजों की टेस्टिंग की वजह से मैदानी जिलों का आंकड़ा बढ़ता है तो ऐसे जिले टेस्टिंग में भी आनाकानी कर सकते हैं। ऐसे में परेशानी खड़ी होने की आशंका है।

इस परेशानी से बचने के लिए अब मरीजों को मूल जिलों के आधार पर जोड़ने पर विचार किया जा रहा है। इससे मरीजों के इलाज और जांच में दिक्कत नहीं आएगी।

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:corona patients increases three time in six days as covid 19 cases rise amid lockdown 4 due to corona virus pandemic in uttarakhand